अलीगढ़ धर्म संसद के विरोध में उतरा AIMIM:मेरठ में लेडी गोडसे डॉ. पूजा ने की थी अलीगढ़ में धर्म संसद की घोषणा

मेरठ6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अलीगढ़ में धर्मसंसद के खिलाफ प्रदर्शन करने पहुंचे एआईएमआईएम के सदस्य। - Dainik Bhaskar
अलीगढ़ में धर्मसंसद के खिलाफ प्रदर्शन करने पहुंचे एआईएमआईएम के सदस्य।

अलीगढ़ में 22, 23 जनवरी को होने वाली धर्म संसद का AIMIM ने विरोध किया है। हिंदू महासभा की महासचिव और महामंडलेश्वर लेडी गोडसे पूजा शकुन ने बृहस्पतिवार को मेरठ में इस धर्म संसद की घोषणा की थी। लेकिन असद्दुीन औवेसी की पार्टी AIMIM के कार्यकर्ता धर्मसंसद का विरोध कर रहे हैं। पार्टी कार्यकर्ताओं के अनुसार धर्म संसद माहौल बिगाड़ने की साजिश है और इसे रोकना चाहिए। शुक्रवार को AIMIM के कार्यकर्ताओं ने अलीगढ़ में प्रशासन को धर्म संसद रोकने के लिए मांगपत्र दिया है।

AIMIM का कहना धर्मसंसद से सौहार्द पर खतरा
ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन अलीगढ़ ने ज़िला अध्यक्ष गुफरान नूर के नेतृत्व में एक ज्ञापन जिलाधिकारी जनपद अलीगढ़ को सौंपा। ज्ञापन में हरिद्वार में हुई 3 दिवसीय धर्म संसद की तर्ज़ पर यति नरसिंहानंद द्वारा अलीगढ़ में आयोजित की जा रही धर्म संसद की अनुमति ना देने की प्रशासन से मांग की है। कार्यकर्ताओं का कहना है कि हरिद्वार में हुई तीन दिवसीय धर्म संसद में न केवल नफरती भाषण दिए गए बल्कि एक समुदाय के खिलाफ खुलकर नरसंहार का आह्वान किया गया। इस तरह के बयान भारत की एकता और अखंडता के लिए तो खतरा हैं ही साथ ही मुस्लिमों की जिंदगी को खतरे में भी डालने वाले हैं जिस विवादास्पद धर्म संसद के आयोजन के बाद से हिंदू-मुस्लिम सौहार्द बिगड़ता नज़र आ रहा है उसी प्रकार अलीगढ़ में 22-23 जनवरी को विवादास्पद धर्म संसद का आयोजन समाज को तोड़ने वाले लोगों द्वारा किया जा रहा है।
अलीगढ़ को जलाना चाहते हैं कुछ लोग
AIMIM जिलाध्यक्ष गुफरान नूर ने कहा के अलीगढ़ में सभी धर्म के लोग सामंजस्यपूर्ण तरीके से रहते हैं लेकिन देश को तोड़ने वाली और हिन्दू-मुस्लिम सोहाद्र की दुश्मन ताक़तें अलीगढ़ में नफरती धर्म संसद का आयोजन कर भाई से भाई को लड़वा कर अलीगढ़ को जलाना चाहते हैं। हमें प्रशासन पर पूरा भरोसा है के प्रशासन ऐसे दंगाई प्रोग्राम के आयोजन की अनुमति नहीं देगा। लेकिन किन्हीं कारणों से सरकार के दबाव में आकर प्रशासन अगर ऐसे दंगाइयों को देश को तोड़ने और समाज को बांटने वाले धर्म संसद की अनुमति देने के लिए मजबूर होता है तो ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन डीएम आवास पर एक बड़ा आंदोलन करने के लिए मजबूर होगी। और समाज को बांटने और दंगा कराने की साजिश रचने वालों के नापाक इरादों को कामयाब नहीं होने देगी।

लेडी गोडसे पूजा ने मेरठ में ये कहा
गुरुवार को मेरठ में हिंदू महासभा के कार्यालय में बने नाथूराम गोडसे और बाबा आप्टे के मंदिर में नमन करने पहुंची लेडी गोडसे महामंडलेश्वर डॉ. पूजा शकुन ने कालीचरण का समर्थन करते हुए कहा था कि कालीचरण ने जो कहा वो सत्य था। हिंदू महासभा लंबे समय से गांधी के लिए यह सत्य कह रही है। पूजा शकुन ने कालीचरण की जमानत की मांग भी की थी। साथ ही नाथूराम गोडसे की मूर्ति के सामने बैठकर पूजा शकुन ने कहा कि 22, 23 जनवरी को हम हिंदू धर्म के रक्षार्थ अलीगढ़ में धर्म संसद करेंगे जिसमें हिंदुत्व संरक्षण पर बात होगी। पूजा ने ये भी कहा कि गोडसे ने एक राक्षस का वध किया था, दूसरे राक्षसों के वध का समय अब आ गया है।

AIMIM की मांग पर हिंदू महासभा का पलटवार
अलीगढ़ में होने वाली धर्म संसद को रोकने के लिए AIMIM ने प्रशासन को ज्ञापन दिया इस पर मेरठ में हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं ने विरोध जताया है। महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अशोक शर्मा ने कहा कि भारत हिंदू राष्ट्र है और इसे हमें बचाना है। इसलिए धर्म संसद का आयोजन होगा।

खबरें और भी हैं...