पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नवाजुद्दीन ने लगाए थे पौधे, वहां बाइक से पहुंचे CDO:मेरठ में CDO ने काली नदी का किया इंस्पेक्शन, 5 जुलाई को एक्टर नवाजुद्दीन ने जताई थी चिंता

मेरठ3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भावनपुर के पुल से औरंगाबाद तक काली नदी के किनारे मोटरसाइकिल पर सीडीओ, स्कूटी पर डीडीओ ने किया भ्रमण। - Dainik Bhaskar
भावनपुर के पुल से औरंगाबाद तक काली नदी के किनारे मोटरसाइकिल पर सीडीओ, स्कूटी पर डीडीओ ने किया भ्रमण।

बालीवुड अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दकी ने जिस काली नदी को स्वच्छ बनाने के लिए लंदन से मेरठ आने का वादा किया उसी नदी का निरीक्षण सीडीओ, डीडीओ ने बाइक से किया। सीडीओ शशांक चौधरी ने काली नदी के किनारे भावनपुर के पुल से औरंगाबाद तक का भ्रमण किया। सीडीओ खुद बाइक पर थे और डीडीओ स्कूटी पर नदी किनारे निरीक्षण करने पहुंचे। प्रदूषित काली नदी के किनारे का रास्ता अब क्लीन कर दिया गया है।

काली नदी के सूखने पर जताई थी चिंता
नवाजुद्दीन सिदद्की ने 5 जुलाई को काली नदी के किनारे पौधा लगाकर यहां जनसमूह को संबोधित किया था। तब नवाजुद्दीन ने काली नदी के सूखने पर चिंता जताई थी। कहा था पानी हीरे से भी ज्यादा कीमती है। इसकी वेल्यू समझनी होगी। हम पानी की वेल्यू नहीं करेंगे तो बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ेगा। लोगों ने महामारी में हवा की जरूरत को समझा, इसी तरह पानी का मोल भी समझना होगा। नवाजुद्दीन ने कहा था हम अपने बच्चों को क्या दे रहे हैं सूखी नदियां। जो काम हमें करना चाहिए वो काम आज प्रशासन कर रहा है। उन्होंने कहा था लंदन भी होता तो भी नदियो ंके उत्थान के काम में चला आऊंगा।

नदियों के कारण मिला पहला रोल
नवाजुद्दीन ने कहा था नदियों के कारण ही मुझे बालीवुड में पहला रोल मिला था। मुझे तैरना आता था क्योंकि मैं अपने गांव बुढ़ाना की नदियों में अक्सर तैरता रहता था, बचपन में नदी में खेलता था। इसलिए फिल्म में ऐसे लड़के की जरूरत थी जिसे तैरना आता हो, मुझे तैरना आता था और मैं सिलेक्ट हो गया। नदियों का मुझ पर बहुत उपकार है। इसे में कभी नहीं भूल सकता।

खबरें और भी हैं...