नीरज चोपड़ा संग भाला फेंकती दिखेंगी बागपत की बेटियां:जैवलिन थ्रोअर आरवी और वैष्णवी ने नीरज के साथ किया ऐड शूट, टीवी पर जल्द दिखेगा

मेरठ/बागपत17 दिन पहलेलेखक: शालू अग्रवाल
दिल्ली में ऐड शूट के दौरान वैष्णवी और आरवी ओलंपियन नीरज चोपड़ा के साथ।

यूपी के बागपत की दो छोटी जैवलिन थ्रोअर आरवी और वैष्णवी ओलंपियन नीरज चोपड़ा के साथ एक ऐड में नजर आएंगी। एक निजी कंपनी ने अपने 40 सेकेंड के ऐड को ओलंपियन नीरज चोपड़ा के साथ शूट किया है।

नीरज चोपड़ा ने दोनों बहनों को भाला फेंकने को लेकर टिप्स भी दिए
नीरज चोपड़ा ने दोनों बहनों को भाला फेंकने को लेकर टिप्स भी दिए

इस ऐड में नीरज इन बच्चियों को भाला फेंकने की ट्रेनिंग देते दिखेंगे। बीते 28 सितंबर को दिल्ली के बवाना स्टेडियम में इस ऐड की शूटिंग हो चुकी है। जल्द ही यह टीवी और ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर रिलीज होगा।

दिल्ली के बवाना स्टेडियम में नीरज चोपड़ा के साथ बागपत की बेटियां।
दिल्ली के बवाना स्टेडियम में नीरज चोपड़ा के साथ बागपत की बेटियां।

नीरज अंकल ने कहा है डेली प्रैक्टिस करो
ऐड में दिखने वाली ये दोनों कजिन बहनें बागपत के खेकड़ा गांव की रहने वाली हैं। वैष्णवी और आरवी कहती हैं, 'नीरज अंकल के साथ हमारा शूट बहुत अच्छा रहा। हम तो सुबह पहुंच गए थे, अंकल दोपहर में आए। नीरज अंकल ने कहा खूब पढ़ो और खूब अच्छा खेलो। मम्मी-पापा की बात मानो।'

वे बताती हैं कि उनके साथ शूटिंग करने में बहुत मजा आया। उन्होंने हमारे साथ मस्ती की और हमें बहुत हंसाया। हम नीरज अंकल और अपने पापा की तरह जैवलिन में देश को पदक दिलाना चाहते हैं।

बागपत के खेकड़ा में स्थित एकेडमी में भाला फेंकने का अभ्यास करती वैष्णवी और आरवी व अन्य खिलाड़ी।
बागपत के खेकड़ा में स्थित एकेडमी में भाला फेंकने का अभ्यास करती वैष्णवी और आरवी व अन्य खिलाड़ी।

पिता से मिली खेल की प्रेरणा
वैष्णवी के पिता संदीप यादव भाला फेंक में अंतरराष्ट्रीय पदक विजेता हैं और यूपी पुलिस में कार्यरत हैं। वे यूपी पुलिस में खिलाड़ियों व सिपाहियों के बच्चों को भाला फेंक की ट्रेनिंग देते हैं। संदीप के छोटे भाई और आरवी के पिता भी खिलाड़ी हैं, जो नोएडा में कार्यरत हैं। चौथी कक्षा में पढ़ने वाली ये दोनों बहनें रोजाना 2 घंटे जैवलिन का अभ्यास करती हैं।

जैवलिन थ्रो का अभ्यास करती दोनों खिलाड़ी
जैवलिन थ्रो का अभ्यास करती दोनों खिलाड़ी

100 बच्चियों में 2 का सिलेक्शन
वैष्णवी के पिता संदीप ऐड शूट के बारे में बताते हुए कहते हैं कि कंपनी को ऐड शूट के लिए 6 से 8 साल की भाला फेंकने वाली लड़कियां चाहिए थीं। मुझे इसकी जानकारी मिली तो अपनी दोनों बच्चियों की स्पोर्ट्स और एक्टिंग एक्टिविटी की वीडियो बनाकर भेज दी। कंपनी को दोनों का ही भाला फेंकना अच्छा लगा और इनका चयन हो गया। संदीप बताते हैं कि पूरे भारत से करीब 100 बच्चियों के वीडियो कंपनी को भेजे गए थे।

बागपत के खेकड़ा में अपने परिवार के साथ आरवी और वैष्णवी।
बागपत के खेकड़ा में अपने परिवार के साथ आरवी और वैष्णवी।

12 घंटे में हुआ ऐड शूट
ऐड शूट करने वैष्णवी और आरवी, संदीप यादव के साथ ही दिल्ली गई थीं। संदीप के अनुसार पूरे 12 घंटे में यह ऐड शूट हुआ। नीरज चोपड़ा सुबह 11 बजे आए थे, शाम 6 बजे तक ऐड का शूट चला। हम लोग सुबह 6 बजे ही पहुंच गए थे। उनके मुताबिक इस ऐड में वैष्णवी बैकअप में और आरवी लीड में नजर आएंगी।

दिल्ली बवाना स्टेडियम में एड शूटिंग के दौरान आरवी, वैष्णवी
दिल्ली बवाना स्टेडियम में एड शूटिंग के दौरान आरवी, वैष्णवी

10 साल तक केवल थ्रोइंग तकनीक सिखाते हैं
संदीप यादव कहते हैं कि दोनों बेटियां 19 से 20 मीटर जैवलिन थ्रो कर लेती हैं। लेकिन भाला फेंक की जो सही ट्रेनिंग है, वो 10 साल के बाद शुरू होती है। 10 साल तक बच्चे को केवल थ्रोइंग की तकनीक सिखाते हैं।

खबरें और भी हैं...