पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महाराष्ट्र में बढ़ा कोरोना मेरठ में अलर्ट:रोजाना 20 फीसद बच्चों की होगी कोविड जांच, जीनोम सीक्ववेसिंग के लिए जाएगा हर सैंपल

मेरठ17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्ट्रेट में रात को स्वास्थ्य विभाग को दिशानिर्देश देते डीएम के. बालाजी - Dainik Bhaskar
कलेक्ट्रेट में रात को स्वास्थ्य विभाग को दिशानिर्देश देते डीएम के. बालाजी

महाराष्ट्र में कोरोना पॉजिटिव केस बढ़ने के बाद मेरठ में अलर्ट जारी कर दिया गया है। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए मेरठ में रोजाना 20 फीसद बच्चों की कोविड जांच की जाएगी। बच्चों का सैंपल कलेक्ट कर उसे जीनोम सीक्वेसिंग के लिए भेजा जाएगा। डेल्टा प्लस वैरिएंट और तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए यह कदम उठाया जा रहा है। चूंकि तीसरी लहर में सबसे ज्यादा खतरा बच्चों को होगा इसलिए रोजाना होने वाली कुल कोविड टेस्टिंग में 20 फीसद सैंपल 18साल से कम उम्र वालों के लिए जाएंगे। सैंपल को जीनोम सीक्ववेसिंग के लिए भेजा जाएगा। ताकि वायरस में बदलाव का पता समय पर लग सके।

जुलाई अंत तक पूरी क्षमता से चलें पीकू, नीकू
मंगलवार देर रात डीएम के बालाजी ने स्वास्थ्य विभाग के साथ बैठक की। बैठक में कहा कि स्वास्थ्य विभाग ने जुलाई अंत तक जिला अस्पताल, महिला जिला अस्पताल और मेडिकल अस्पताल में बने पीकू, नीकू वार्ड को पूरी क्षमता से चलाने का प्लान बनाया है। मेडिकल अस्पताल की इमरजमेंसी में डॉक्टरों की पूरी तैनाती की जाए। कोविड टेस्टिंग सही तरीके से होती रहे। साथ ही सभी सीएचसी, पीएचसी में पीकू, नीकू चलें और डॉक्टर भी पहुंचे।

अस्पतालों में शुरू हो ऑक्सीजन प्लांट के ट्रायल
50 बेड से अधिक क्षमता वाले सभी सरकारी, निजी अस्पतालों में जो ऑक्सीजन प्लांट लगे हैं उनका ट्रायल अब स्वास्थ्य विभाग करेगा। अगस्त से पहले हर अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट चल जाए। सरकारी अस्पतालों में जहां ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट पर काम हो रहा है वो भी पूरा करने का निर्देश स्वास्थ्य विभाग ने दिया है। कांट्रेक्ट ट्रेसिंग हो और संपर्क में आए व्यक्तियों की भी सही से जांच की जाए।

तीसरी लहर की तैयारी और स्टाफ लापरवाह
प्रशासन कोरोना की तीसरी लहर से लड़ने की तैयारी कर रहा है, वहीं सीएचसी, पीएचसी पर स्टाफ गायब रहता है। मंगलवार को जानी और सिवालखास की पीएचसी पर गंदगी मिली और कापुी अव्यवस्थाएं थी। कोविड 19 टेस्टिंग लैब का लैब असिस्टेंट ही गायब था। सीएमओ ने लैब असिस्टेंट को कारण बताओ नोटिस भेजा है। पिछले दिनों भी कैंट लालकुर्ती सीएचसी पर कैंट विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल ने निरीक्षण किया तो वहां प्रभारी डॉ. हिना अनुपस्थित थी। ओपीडी रजिस्टर भी नहीं था। विधायक ने डॉ. की शिकायत सीएमओ से भी की थी।

खबरें और भी हैं...