मेरठ में 48 घंटे बाद बदलेगा मौसम:2 जुलाई को बारिश की संभावना; तापमान का पारा 40 डिग्री सेल्सियस पहुंचा, उमस से लोग बेहाल

मेरठ5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मेरठ में भीषण गर्मी, उमस से लोग परेशान - Dainik Bhaskar
मेरठ में भीषण गर्मी, उमस से लोग परेशान

पिछले तीन दिनों से भीषण गर्मी से परेशान लोगों के लिए राहत वाली खबर है। मौसम विभाग ने मेरठ सहित वेस्ट यूपी के आसपास के जिलों में 2 जुलाई को बारिश की संभावना जताई है। मौसम वैज्ञानिक एन सुभाष ने बताया कि गुरुवार रात से या शुक्रवार को मौसम बदल सकता है। मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर, बिजनौर, बागपत में बारिश की संभावना है। बारिश से प्रदूषण कम होगा और फसलों को भी लाभ मिलेगा।

हालांकि अलीगढ़, गौतमबुद्धनगर, हाथरस, गाजियाबाद को अभी बारिश के लिए इंतजार करना पड़ेगा। मेरठ में तापामान 40 डिग्री तक पहुंच चुका है। रात का तापमान भी 38 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। लगातार तापमान बढ़ने और तेज धूप से लोग परेशान हैं।

गर्मी बढ़ने से बढ़ा पावर कट, वोल्टेज डाउन
गर्मी बढ़ने के कारण वोल्टेड की समस्या भी बहुत आ रही है। साकेत, सिविल लाइंस के पॉश इलाके में रात भर बिजली आती-जाती रही। फ्लक्चुएशन के कारण घरों में एसी नहीं चले और गर्मी से लोग परेशान रहे। पंखे में ही रात गुजारनी पड़ी। लोग सो नहीं पाए। शहर के अन्य इलाकों में भी बिजली आंख मिचौली कर रही है। दिल्ली रोड, बागपत रोड, मलियाना पुल की तरफ डेवलपमेंट प्रोजेक्ट के काम चलने के कारण बार-बार शटडाउन लिया जा रहा है। दो घंटे के शटडाउन को तीन से चार घंटे तक बढ़ाया दिया जाता है। इसके कारण लोग परेशान हैं। बिजली न होने और वोल्टेज डाउन के कारण न एसी चल रहे हैं न फ्रिज में पानी ठंडा हो रहा है। गर्मी के कारण फ्रिज का सामान भी खराब हो रहा है।

कई इलाकों में पानी का संकट
गर्मी के कारण पानी की खपत बढ़ी है। लेकिन बिजली बार-बार जाने के कारण लोगों को पानी भी सही से नहीं मिल रहा। बिजली जाने पर ट्यूबवेल नहीं चल पाते, पानी की सप्लाई रुक जाती है। सुबह 6 बजे की बजाय देर से पानी की सप्लाई शुरू हो रही है। जिन लोगों के घरों में बोरिंग है वो बिजली न आने के कारण बोरिंग नहीं चला पा रहे। दूसरी, तीसरी मंजिल पर रहने वाले लोगों को भी समस्या है। सोसाइटी में रहने वाले परिवार मोटर से पानी खींचते हैं मगर वोल्टेड डाउन के कारण मोटर प्रेशर नहीं लेती और पानी ऊपर नहीं चढ़ रहा।

खबरें और भी हैं...