पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Meerut
  • Meerut, Vedpal Shastri Is No More , In 1942, The British Were Imprisoned For Hoisting The Tricolor In Meerut's Ghantaghar Against The British Rule.

मेरठ के वेदपाल शास्त्री का 100 की उम्र में निधन:1942 में अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ मेरठ के घंटाघर में तिरंगा फहराने पर अंग्रेजों ने जेल में डाल दिया था

9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मेरठ के स्वतंत्रता सेनानी वेद प्रकाश शास्त्री का निधन हो गया। वह 100 वर्ष के थे। 1942 में उन्होंने मेरठ के ऐतिहासिक घंटा घर पर अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ तिरंगा फहराया था। इस पर उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। जब उनके समर्थन में स्थानीय लोगों ने आवाज उठाई तो उन्हें मेरठ से आगरा जेल शिफ्ट कर दिया गया था।

मेरठ के मोदीपुरम के ग्राम डौरली मे जन्मे वेद प्रकाश शास्त्री का जन्म 1921 में हुआ था। उन्होंने अपना पूरा जीवन गुरुकुल डोरली के नाम समर्पित रहा। लंबी बीमारी के चलते शतायु में आज पल्लवपुरम के एक अस्पताल में निधन हो गया। वेदपाल शास्त्री गुरुकुल डोरली में जन्मे यहीं पर पढ़े और यहीं पर संस्कृत के अध्यापक रहे। बाद में यहीं प्रिंसिपल बने। 1972 से लेकर 1985 तक गुरुकुल के प्रिंसिपल रहे।

लाहौर विश्वविद्यालय से प्राप्त की थी शास्त्री की पदवी

वेदपाल शास्त्री ने लाहौर विश्वविद्यालय से शास्त्री की पढ़ाई की। करीब 53 साल का इन्होंने गुरुकुल को दिया। उनके निधन पर गुरुकुल के प्रिंसिपल डा राजेंद्र कुमार और पल्हेड़ा के स्वतंत्रता सेनानी के पुत्र और समाज सेवी शीलेन्द्र चौहान और समीर चौहान तथा अध्यापक गुरुकुल कृष्ण कुमार ने उन्हें अपनी श्रद्धांजलि भेंट की।

खबरें और भी हैं...