चुनावी मैदान में असली खिलाड़ी:मुजफ्फरनगर में इंटरनेशनल शूटर नेहा तोमर ने भरा नामांकन; कहा- गांव में कॉलेज व स्टेडियम बनवाऊंगी

मुजफ्फरनगर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अपने माता-पिता के साथ शूटर नेहा तोमर। - Dainik Bhaskar
अपने माता-पिता के साथ शूटर नेहा तोमर।

उत्तर प्रदेश में इन दिनों ग्राम पंचायत चुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज हैं। गांव की सरकार को लेकर युवाओं और महिलाओं की बड़ी भागेदारी देखने को मिल रही है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर की होनहार बेटी अंतर राष्ट्रीय शूटर नेहा तौमर ने ग्राम प्रधान पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया है। नेहा अपने गांव मखियाली का प्रधान बनकर विकास और युवा वर्ग का खेलकूद में कैरियर बनाने का सपना संजोए है।

नेहा का सपना ओलंपिक में देश के लिए पदक लाना
कुकड़ा ब्लॉक क्षेत्र के ग्राम मखियाली निवासी 21 साल की शूटर नेहा तोमर ने वर्ष 2018 में जर्मनी में जूनियर शूटिंग वर्ल्ड कप में देश के लिए 50 मीटर फ्री पिस्टल प्रतिस्पर्धा में व्यक्तिगत में सिल्वर और इसी वर्ग में टीम के साथ गोल्ड मेडल जीता था।

2018 में ही कुवैत में हुए एशियन एयर गन चैंपियनशिप में 10 मीटर एयर पिस्टल में भी वह सिल्वर मेडल जीती थी। इसके अलावा स्टेट और राष्ट्रीय स्तर पर वह अनेक पदक जीत चुकी है। डीएवी डिग्री कॉलेज में बीए अंतिम वर्ष की छात्रा नेहा का सपना ओलंपिक में भी देश के लिए पदक जीतना है।

सीट महिला के लिए हुई आरक्षित तो बनाया चुनाव लड़ने का मन

पंचायत चुनाव में उसका गांव मखियाली महिला के लिए आरक्षित हुआ तो उसने ग्राम प्रधान पद का चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की। जिस पर उसके किसान पिता राजीव तोमर और मां रेणु तोमर ने बेटी को प्रोत्साहित किया। नेहा ने मां के साथ सदर ब्लाक में पहुंचकर ग्राम प्रधान पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया।

नेहा तोमर।
नेहा तोमर।

नेहा ने बताया कि ग्राम प्रधान पद का चुनाव लड़ने के पीछे उसका उद्देश्य गांव का विकास करने के साथ युवा वर्ग को शिक्षित करना और उन्हें खेलों में प्रोत्साहित उनका करियर बनाना है। यदि ग्रामीणों ने मौका दिया तो वह गांव में कॉलेज और स्टेडियम का निर्माण कराएगी। उसके पिता कॉलेज के लिए 10 बीघे जमीन दान में दे चुके हैं। इन्हीं मुद्दों को लेकर वह चुनाव मैदान में उतरी है।

खबरें और भी हैं...