राहत की खबर: मेरठ मेडिकल कॉलेज हुआ कोविड फ्री:200 बेड के कोविड वार्ड में नहीं बचा कोई कोरोना पॉजिटिव मरीज, 200 बेड के वार्ड को तीसरी लहर के लिए किया जा रहा तैयार

मेरठएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
खाली पड़ा मेरठ मेडिकल कॉलेज का � - Dainik Bhaskar
खाली पड़ा मेरठ मेडिकल कॉलेज का �

मेरठ के मेडिकल अस्पताल का कोविड वार्ड अब पूरी तरह कोरोना मुक्त वार्ड हो गया। बुधवार को अस्पताल में एक भी कोरोना पॉजिटिव मरीज नहीं बचा। जो मरीज भर्ती थे उन्हें ठीक होते ही छुट्‌टी दे दी गई। कोरोना की दूसरी लहर के समय मेडिकल अस्पताल में 200 बेड का कोविड वार्ड बनाया गया था। 21 जून के बाद यह पहली बार है जब अस्पताल में कोरोना पॉजिटिव मरीज नहीं है। सभी 200 बेड में 198 बेड खाली हैं। वार्ड में कुल दो मरीज भर्ती हैं। दोनों नॉन कोविड हैं। एक म्यूकर और दूसरा मरीज पोस्ट कोविड परेशानी से ग्रस्त है।

21 जून के बाद से नहीं आया कोई नया मरीज
मेडिकल अस्पताल में कोविड वार्ड के डॉ. वीएन सिंह ने बताया कि 21 जून के बाद से वार्ड में कोई कोरोना पॉजिटिव मरीज नहीं आया। जो मरीज भर्ती थे उन्हीं का इलाज चलता रहा। धीरे-धीरे मरीज डिस्चार्ज होकर घर जाते रहे हैं। बुधवार को वार्ड पूरी तरह खाली हो गया। अब केवल दो मरीज कोरोना वार्ड में हैं दोनों ही मरीज कोविड निगेटिव हैं। एक मरीज म्यूकर का है और दूसरा पोस्ट कोविड कांप्लीकेशन का भर्ती है।

डेल्टा प्लस वैरियंट की सघन जांच
स्वास्थ्य विभाग अब कोरोना पॉजिटिव के साथ डेल्टा प्लटस वैरियंट की सघन जांच कर रहा है। जिन मरीजों के सैंपल लिए जा रहे हैं उसमें 30 मरीजों के सैंपल जीनोम सीक्वेंसिंग की जांच के लिए जा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग ने बुधवार को जिले में विभिन्न स्थानों से 5607 कोरोना के सैंपल की जांच की। जांच में नौ मरीज पॉजिटिव मिले हैं। इनमें एक 14 साल का बच्चा भी शामिल है। यह बच्चा सम्पर्क वाले मरीज की वजह से संक्रमण का शिकार हुआ। इसके अलावा विभाग ने नए वैरिंएंट की जांच के लिए जो सैंपल दिल्ली भेजे थे, अभी उनकी रिपोर्ट नहीं आई है। वहीं माइक्रोबॉयोलॉजी लैब से 16 सैंपल नए वैरिएंट की जांच के लिए दिल्ली सेंटर भेजे गए हैं। इसके अलावा निगरानी कमेटी को जिले में 18 बच्चे ऐसे मिले हैं, जिनको बुखार, खांसी के साथ दस्त की शिकायत थी। इनको विभाग ने दवा की किट उम्र के हिसाब से दी है।

ब्लैक फंगस के भी कुल एक्टिव केस 12
कोरोनो के मरीजों की संख्या घटने के साथ ही जिले में काला फंगस के मरीजों की संख्या भी घटती जा रही है। मेरठ में ब्लैक फंगस के 12 मरीजों का सरकारी, निजी अस्पतालों में इलाज चल रहा है। बुधवार को एक नया मरीज जिले के अस्पताल में भर्ती हुआ। वहीं मेडिकल वार्ड में सात मरीज भर्ती हैं। इसके साथ ही किसी फंगस के मरीज की छुट्टी नहीं हुई है। फंगस वार्ड प्रभारी डॉ. वीपी सिंह ने बताया कि अस्पताल में भर्ती मरीजों की हालत में सुधार है।

मेरठ में आज कोरोना अपडेट
नए मामले - 9
सैंपल की जांच हुई - 5607
कोरोना पॉजिटिव मौत - कोई नहीं
कोरोना एक्टिव केस - 118
होम आइसोलेशन अब तक-38
अस्पताल में भर्ती मरीज - 37
मरीजों की छुट्टी - 7

खबरें और भी हैं...