मेरठ में डेंगू का कहर:डेंगू के मरीजों की संख्या पहुंची 439, हर रोज मिल रहे 30 से अधिक मरीज, बुखार से कराह रहे गांव

मेरठ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मेडिकल कैंप में मरीजों को दवाई डॉक्टर - Dainik Bhaskar
मेडिकल कैंप में मरीजों को दवाई डॉक्टर

मेरठ में बुखार का कहर बढ़ता जा रहा है। हर रोज डेंगू के 30 से अधिक मरीज मिल रहे हैं। जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या 439 पर पहुंच गई है। वहीं बुखार से गांव कराह रहे हैं। निजी अस्पतालों में बुखार के मरीजों की लाइन लगी है। गांवों में बुखार आने के बाद मरीज स्थानीय डॉक्टरों से ही इलाज कर रहे हैं। मेरठ के रजपुरा, सरूरपुर और सरधना ब्लॉक के गांवों में बुखार के अधिक मरीज मिल रहे हैं।

72 घंटे में डेंगू के 93 मरीज मिले

डेंगू के मरीजों की संख्या जिले में 439 पहुंच गई है। जिले में पिछले 72 घंटे में डेंगू के 93 नये मरीज मिले हैं। 27 सितंबर को जिले में डेंगू के 28 मरीज मिले, 28 सितंबर को जिले में डेंगू के 33 मरीज मिले। 29 सितंबर को 32 नये मरीज मिले। सीएमओ डॉ अखिलेश मोहन ने बताया की अभी तक 268 मरीजों को रिकवर किया गया है। जबकि 171अन्य मरीजों का अस्पतालों में इजाल चल रहा है। देहात क्षेत्र में जहां मरीजों की शिकायतें वहां लगातार कैंप कराया जा रहा है।

साधारण बुखार के मरीजों की संख्या अधिक

मेरठ के सरूरपुर ब्लॉक के गांव कालंदी में घर घर में बुखार है। पूरे गांव में शायद ही ऐसा कोई घर बचा होगा, जिसमें बुखार का मरीज न मिले। जानी क्षेत्र के कुराली गांव में भी यही हाल है। यहां बुखार से 5 लोगों की मौत हो चुकी है। कुराली गांव में 40 से अधिक लोग ऐसे हैं जो बुखार की चपेट में हैं। सरधना ब्लॉक के गांवों में भी बुखार बढ़ता जा रहा है। बुखार अब शहर के अलावा देहात क्षेत्र में तेजी से बढ़ता जा रहा है।

2 गांवों में हो चुकी है 7 की मौत

मेरठ के कालंदी और कुराली गांव में पिछले 11 दिन में बुखार से 7 लोगों की मौत हो चुकी हे। इन दोनों ही गांव के अधिकांश परिवार ऐसे हैं जो बुखार की चपेट में आये हैं। स्वास्थ्य विभाग लगातार सिर्फ 2 घंटे का कैंप लगवा रहा है। जबकि ग्रामीणों का कहना है की समय से सरकारी डॉक्टर नहीं मिलते तो मरीजों को निजी अस्पतालों में इलाज का सहारा लेना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...