जातीय संघर्ष में गोली लगने से एक की मौत:मेरठ के सरधना में रास्ते के विवाद को लेकर आमने-सामने आए जाट व दलित समुदाय के लोग, दोनों पक्षों में हुई जमकर मारपीट व फायरिंग

मेरठ10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जाट बिरादरी के लोग रास्ते को चौड़ा करने को लेकर लगातार मांग कर रहे थे। - Dainik Bhaskar
जाट बिरादरी के लोग रास्ते को चौड़ा करने को लेकर लगातार मांग कर रहे थे।

मेरठ के सरधना क्षेत्र में रास्ते के विवाद को लेकर जाट और दलित (जाटव) समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए। जातीय संघर्ष के दौरान दोनों पक्षों के बीच खूब कहासुनी हुई। बहस बढ़ने के बाद मारपीट शुरू हो गई। देखते ही देखते लोगों ने फायरिंग कर दी गई। जिसमें गोली लगने से एक व्यक्ति की मौत हो गई।

मारपीट में 4 लोग घायल
सरधना थाना क्षेत्र के पोहल्ली गांव में रविश(जाट ​​​​​​) और छोटू(दलित)के बीच दस दिन से रास्ते को लेकर विवाद चल रहा है। जाट बिरादरी के लोग रास्ते को चौड़ा करने की लगातार मांग कर रहे हैं। वहीं दलित पक्ष के लोग इसका विरोध कर रहे हैं। बुधवार को दोनों ही पक्षों के लोग आमने-सामने आ गए। जिसके बाद उनके बीच जमकर मारपीट हुई। इस दौरान हवाई फायरिंग भी की गई। मारपीट में 4 लोग घायल हो गए। इस दौरान तिलकराम के बेटे सुरेश (35) की मौत हो गई। वह बनिया जाति से था।

पुलिस ने शुरू की मामले की जांच
एसपी देहात केशव कुमार ने बताया कि दोनों पक्षों में रास्ते का विवाद बताया गया है। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर मारपीट व फायरिंग करने का आरोप लगाया है। गोली लगने से एक व्यक्ति की मौत हुई है। मारपीट में चार अन्य लोग घायल हुए हैं। घटना की जांच कराई जा रही है।

बकरीद के लिहाज से काफी संवेदनशील है सरधना
मेरठ का सरधना क्षेत्र भाजपा के फायर ब्रांड विधायक संगीत सोम का विधानसभा क्षेत्र है। सरधना के अलावा मेरठ के कई गांव बकरीद को देखते हुए संवेदनशील की श्रेणी में रखे गए हैं। खुद एसपी देहात और सीओ सरधना सुबह से ही कस्बे में मौजूद हैं। उसके बावजूद सरधना थाना क्षेत्र के पोहल्ली गांव में जातीय संघर्ष हो गया। एक व्यक्ति की गोली लगने से मौत हो गई। इसको लेकर कानून व्यवस्था पर भी सवाल उठ रहे हैं।

खबरें और भी हैं...