• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Meerut
  • Preparations For A Grand Welcome Of Rakesh Tikait At The End Of The Picket, Organizing Flower Showers, Yagya, Huge Bhandara At 25 Km In 125 Km Journey

किसानों के स्वागत को सजा है वेस्ट यूपी:125 किमी की किसान यात्रा का हर 25 किमी पर पुष्पवर्षा कर स्वागत होगा, यहां हवन के साथ विशाल भंडारा, आतिशबाजी होगी

मेरठएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुजफ्फरनगर के सिसौली में किसान भवन में विशेष सजावट की गई है, आज घर का मुखिया लौटने वाला है - Dainik Bhaskar
मुजफ्फरनगर के सिसौली में किसान भवन में विशेष सजावट की गई है, आज घर का मुखिया लौटने वाला है

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ 383 दिन चला किसानों का विशाल आंदोलन आज समाप्त हो जाएगा। धरतीपुत्रों के घर लौटने की खुशी में पूरे वेस्ट यूपी में खुशी का माहौल है। गाजीपुर से सिसौली तक किसानों का भव्य स्वागत होगा। वेस्ट यूपी के टोल प्लाजाओं पर धरने पर बैठे किसानों की आज घर वापसी होगी। राकेश टिकैत अपनी प्रतिज्ञा पूरी कर सिसौली अपने घर लौटेंगे। उनके साथ पश्चिम यूपी के सैकड़ों किसान भी घर वापसी करेंगे।

सिवाया टोल प्लाजा में तिरंगा लेकर किसानों के स्वागत में बैठे किसान
सिवाया टोल प्लाजा में तिरंगा लेकर किसानों के स्वागत में बैठे किसान

गाजीपुर बॉर्डर से किसान फतह मार्च के लिए पूरे पश्चिमी यूपी में भव्य तैयारियां हैं। 125 किमी की फतह मार्च का हर 25 किमी पर जोरदार स्वागत होगा। गाजीपुर से मुरादनगर, मोदीनगर, मेरठ सिवाया, खतौली, मंसूरपुर होते हुए सिसौली (मुजफ्फरनगर) जाएंगे, जहां भाकियू का मुख्यालय है।

मेरठ टोल पर 2 बजे पहुंचेंगे टिकैत, आतिशबाजी से स्वागत

किसानों के स्वागत के लिए हो रही हैं भव्य तेयारियां
किसानों के स्वागत के लिए हो रही हैं भव्य तेयारियां

किसान आंदोलन में अहम भूमिका में रहा मेरठ का सिवाया टोल प्लाजा भी आज खाली हो जाएगा। राकेश टिकैत किसान फतह यात्रा लेकर दोपहर 2 बजे मेरठ टोल पहुंचेंगे। पिछले साढ़े तीन महीने से सिवाया टोल पर किसान धरनारत हैं। किसान आंदोलन के दौरान मेरठ के किसानों ने यहां कितनी बार विरोध जताया धरना दिया। बाद में किसानों ने टोल की एक लेन पर स्थायी धरना शुरू कर दिया। यहां मिनी गाजीपुर बनाकर झोपड़ी डाली और 24 घंटे धरना चलता रहा। आंधी, बारिश, दिवाली, होली किसानों ने सब इसी सिवाया टोल पर किया। राकेश टिकैत और बड़े किसान नेता कई बार इस स्थल पर रुके। दोपहर 2 बजे टिकैत इस धरना स्थल पर आकर हवन करेंगे, उन्हें फूलों की माला पहनाई जाएगी। इसके बाद विशाल भंडारा होगा। भाकियू कार्यकर्ता जोरशोर से तैयारियों में जुटे हैं। आतिशबाजी, ढोल बजाकर टिकैत का स्वागत होगा। मंगलवार से किसान यहां पुष्पवर्षा के लिए फूल तोड़ रहे हैं।

आज पूरी तरह से खाली होगा गाजीपुर बॉर्डर

गाजीपुर बॉर्डर से युवा किसान अपनी तस्वीरें जारी कर खुशी जता रहे हैं, राकेश टिकैत के बेटे गौरव टिकैत के साथ युवा किसान की फोटो
गाजीपुर बॉर्डर से युवा किसान अपनी तस्वीरें जारी कर खुशी जता रहे हैं, राकेश टिकैत के बेटे गौरव टिकैत के साथ युवा किसान की फोटो

9 दिसंबर को केंद्र सरकार की ओर से किसानों की सारी मांगें मान ली गई थी। जिसके बाद किसान मोर्चा ने किसान आंदोलन वापसी का ऐलान किया था। दिल्ली के सिंघु, टीकरी और शाहजहांपुर बॉर्डर पहले ही खाली हो चुके हैं। यूपी-दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर से भी 90 फीसदी किसान निकल चुके हैं। राकेश टिकैत ने पहले ही कहा था कि वह सबसे आखिर में घर जाएंगे। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार, राकेश टिकैत के नेतृत्व में बचे हुए किसानों का आखिरी जत्था फतेह मार्च के रूप में बुधवार सुबह 9 बजे गाजीपुर बॉर्डर से निकलेगा।

नरेश टिकैत का जन्मदिन और घर वापसी का जश्न एक साथ
भारतीय किसान यूनियन के मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने बताया कि 383 दिन बाद राकेश टिकैत घर वापसी करेंगे। इस उपलक्ष्य में लड्डू तैयार किए जा रहे हैं। सिसौली में किसान भवन को रंग-बिरंगी लाइटों से सजाया गया है। उधर, सर्वखाप मुख्यालय सोरम में बड़े पैमाने पर भंडारे की तैयारी की गई है। बुधवार को ही भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत का जन्मदिन भी है। ऐसे में घर वापसी और जन्मदिन समारोह एक साथ मनेंगे।

खबरें और भी हैं...