6 घंटे में मेरठ से पहुंचेंगे प्रयागराज:देश के सबसे लंबे गंगा एक्सप्रेस-वे की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रखेंगे आधारशिला, शाहजहांपुर में आयोजन

मेरठएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

देश के सबसे लंबे गंगा एक्सप्रेस वे से मेरठ - प्रयागराज की दूरी कुल 6 घंटे में पूरी होगी। मेरठ के बिजौली गांव से शुरू होकर प्रयागराज में खत्म होने वाले 594 किमी लंबे एक्सप्रेस वे की आधारशिला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रखेंगे। आज 18 दिसंबर को पीएम मोदी यूपी के शाहजहांपुर के रोजा रेलवे ग्राउंड में गंगा एक्सप्रेस वे का शिलान्यास करेंगे। 2023 में बनकर तैयार होने वाले गंगा एक्सप्रेस वे से वेस्टर्न यूपी से ईस्टर्न यूपी की दूरी सड़क मार्ग से महज 6 घंटे की रह जाएगी। जिसे नापने में अभी 12 घंटे का वक्त लगता है।

773 किमी की दूरी 6 घंटे में पूरी होगी

4 चरणों में बनेगा गंगा एक्सप्रेस वे
4 चरणों में बनेगा गंगा एक्सप्रेस वे

यूपीडा के गाइडेंस में बनने वाला गंगा एक्सप्रेस वे 6 लेन होगा। इसकी लंबाई 594 किमी होगी। मेरठ से प्रयागराज की दूरी 773 किमी की है, जो अभी 12 घंटे में पूरी होती है। इस एक्सप्रेस वे पर 120 किमी की रफ्तार से वाहन दौड़ेंगे और यह दूरी घटकर मात्र छह घंटे रह जाएगी। दूरियां घटने से यूपी के दोनों छोरों में व्यापारिक और औद्योगिक लेनदेन बढ़ेगा। साथ ही वेस्टर्न यूपी में पर्यटन की संभावनाओं का विस्तार होगा।

ऐतिहासिक, पौराणिक हस्तिनापुर पर बढ़ेगा टूरिज्म
गंगा एक्सप्रेस वे बनने के बाद महाभारत कालीन हस्तिनापुर में दर्शकों का आना आसान हो जाएगा। जो पर्यटक अभी दूरी के कारण हस्तिनापुर नहीं आ पाते वो आसानी से गंगा एक्सप्रेस वे के जरिए सीधे मेरठ उतरेंगे और यहां गंगाजी के दर्शन के साथ कौरव, पांडवों की धरती हस्तिनापुर का भ्रमण कर सकेंगे। साथ ही देश की सबसे बड़ी रामसर साइट और वन सेंचुरी में शामिल हस्तिनापुर फॉरेस्ट सेंचुरी देख सकेंगे। हस्तिनापुर फॉरेस्ट में पर्यटक विदेशी पक्षियों और वन्य जीवों को देख सकेंगे।

4 चरणों में बनेगा गंगा एक्सप्रेस वे
यूपी के 12 जिलों से होकर गुजरने वाला गंगा एक्सप्रेस वे चार चरणों में बनकर तैयार होगा। पहला चरण मेरठ में 0.7 किलोमीटर से 137 किलोमीटर प्रस्तावित है। दूसरा चरण 137 से 289 किमी, तीसरा 289 से 445 किमी और चौथा चरण 445 किमी से आगे का है। मेरठ में पहला टोल प्लाजा 13 किमी पर होगा और इसी तरह आगे मिलता जाएगा। 594 किलोमीटर लम्बे गंगा एक्सप्रेस-वे की खासियत होगी कि प्रयागराज से मेरठ तक पड़ने वाले सभी 12 जिलों में इसका डिजाइन अलग-अलग होगा। इंटरचेंज से लेकर फ्लाईओवर, सिक्स लेन एक्स्प्रेस-वे और ओवरब्रिज सभी का डिजाइन अलग-अलग फाइनल किया गया है।

ये हैं देश के बड़े एक्सप्रेस वे सभी यूपी में
गंगा एक्सप्रेस-वे: 6 लेन लंबाई 594 किमी
पूर्वांचल एक्सप्रेसवेः 8 लेन, लंबाई 340 किमी
आगरा लखनऊ एक्सप्रेसवेः 302 किमी (मिराज 2000 की लैंडिंग हुई) बुंदेलखंड एक्सप्रेसवेः 296 किमीयमुना एक्सप्रेसवेः 6 लेन, लंबाई 165.5 किमी

गंगा एक्सप्रेस वे से जुड़ी मुख्य बातें
. 594 किमी लंबा, 6 लेन का यह एक्सप्रेस वे देश का सबसे लंबा एक्सप्रेस वे होगा
. 36, 230 करोड़ रुपया इस एक्सप्रेस को बनाने पर खर्च होगा
. एक्सप्रेस वे यूपी के12 जिलों और 519 गांवों को जोड़ेगा
. मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, अमरोहा, संभल, बदायूं, शाहजहांपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़, प्रयागराज से होकर गुजरेगा
. एक्सप्रेस वे पर 120 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से वाहन दौड़ सकेंगे
. शाहजहांपुर में एक्सप्रेस वे पर एयरस्ट्रिप होगी जहां हेलिकाप्टर उतारने की व्यवस्था रहेगी
. मेरठ बुलंदशहर एचएनच 334 में बिजौली गांव से शुरू होकर प्रयागराज एनएच 19 जुडापूर दादू में खत्म होगा।
. पूरे एक्सप्रेस वे में 7 आरओबी, 14 फ्लाईओवर, 126 छोटे पुल, 381 अंडर पास होंगे