• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Meerut
  • RAF Has A Glorious History, Established Trust In Controlling Riots And Mob Violence, Gained Fame On The International Stage, 108 Battalions Decorated For Annual Parade

मेरठ...29 साल की हुई RAF:RAF का रहा है गौरवशाली इतिहास, दंगों व भीड़ हिंसा नियंत्रण में स्थापित किया विश्वास; वार्षिक परेड के लिए सजाई गई बटालियन

मेरठ10 दिन पहले
RAF की परेड

रैपिड एक्शन फोर्स (RAF) आज 29 साल की हो गई। उत्तर प्रदेश के मेरठ में स्थापित 108वीं वाहिनी में आरएएफ की 29वीं वर्षगांठ मनाई जा रही है। नीली वर्दी पहनकर शांति मिशन के लिए पहचान रखने वाली इस फोर्स का गौरवशाली इतिहास रहा है।

जब भी किसी प्रदेश या देश की राजधानी में कानून व्यवस्था पर संकट खड़ा हुआ, तब आरएएफ ने अपना विश्वास स्थापित किया। आज पूरे देश में रैपिड एक्शन फोर्स की 15 बटालियन हैं। देश में ही नहीं बल्कि, अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी आरएएफ ने ख्याती पाई है।

मौजूद समय में पूरे देश में आरएएफ की 15 वाहनी स्थापित हैं।
मौजूद समय में पूरे देश में आरएएफ की 15 वाहनी स्थापित हैं।

सीआरपीएफ से परिवर्तित कर बनाई आरएएफ

RAF केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) की विंग है। 7 अक्टूबर 1992 को सीआरपीएफ की 10 स्वाधीन बटालियन को परिवर्तित करके इसे बनाया गया। मेरठ में आरएएफ की 108 वाहिनी स्थापित है। पहले पूरे देश में आरएएफ की 10 वाहिनी थीं। मौजूद समय में पूरे देश में आरएएफ की 15 वाहनी स्थापित हैं। दंगा नियंत्रण, भीड़ हिंसा और लोक व्यवस्था के लिए आरएएफ मेरठ की वाहिनी वेस्ट यूपी में कानून व्यवस्था के लिए स्तंभ बनी हुई है। चुनाव, दंगों और भीड़ हिंसा में कानून व्यवस्था संभालने के लिए राज्य पुलिस के साथ आरएएफ को तैनात किया जाता है।

29वीं वार्षिक वर्षगांठ परेड के अवसर पर भारत सरकार के केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए।
29वीं वार्षिक वर्षगांठ परेड के अवसर पर भारत सरकार के केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री मुख्य अतिथि

29वीं वार्षिक वर्षगांठ परेड के अवसर पर भारत सरकार के केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए। सीआरपीएफ के महानिदेशक कुलदीप सिंह ने उनका स्वागत किया। मंत्री का गॉड ऑफ ऑनर के साथ स्वागत किया गया। इस दौरान सीआरपीएफ के महानिदेशक कुलदीप सिंह के अलावा सीआरपीएफ के विशेष डीजी जुल्फिकार हसन और आरएएफ के आईजी विवेक वैद भी मौजूद रहे।

आरएएफ की 29 वीं वर्षगांठ के लिए मेरठ की 108वीं वाहिनी का मैदान दुल्हन की तरह सजाया गया। मुख्य गेट से लेकर मैदान, परेड ग्राउंड और वाहिनी के कैंपस को रंग-बिरंगे झंडों से सजाया गया। महिला और पुरुष जवानों के अलग-अलग टोलियां परेड में शामिल हुईं।

NDRF की तर्ज पर RAF करेगी बचाव व राहत कार्य- नित्यानंद राय

रैपिड एक्शन फोर्स की 29वीं वर्षगांठ के मौके पर नित्यानंद राय ने कहा कि आरएएफ ने पूरे देश में अपना नाम स्थापित किया है। जनता के बीच अपना भरोसा कायम किया है। कश्मीर से लेकर कन्या कुमारी तक और अरुणाचल प्रदेश से गुजरात तक में अपना नाम चमकाया है।

उन्होंने आगे कहा कि आज पूरे देश में RAF की 15 बटालियन हैं। प्रत्येक बटालियन में 30 -30 जवानों की 2 टीमें एनडीआरएफ की तर्ज पर तैयार की गई हैं। देशभर में जहां भी बाढ़ आपदा जैसी स्थिति आती है, तो तत्काल RAF अपने इन विशेष दस्तों को भेजकर राहत व बचाव कार्य में योगदान दे सकेगी।

मुजफ्फरनगर दंगों के अलावा मेरठ में कई हिंसा की घटनाओं को आरएएफ ने संभाला।
मुजफ्फरनगर दंगों के अलावा मेरठ में कई हिंसा की घटनाओं को आरएएफ ने संभाला।

नीली वर्दी में शांति का संदेश

आरएएफ की पूरे देश में 15 बटालियन हैं। 1992 में मेरठ में आरएएफ की बटालियन दिल्ली-हरिद्वार हाईवे से सटे वेदव्यासपुरी में स्थापित की गई। पूरे प्रदेश के अलावा हरियाणा, पंजाब, राजस्थान व उत्तराखंड और दिल्ली में आरएएफ भेजी जाने लगी। मुजफ्फरनगर दंगों के अलावा मेरठ में कई हिंसा की घटनाओं को आरएएफ ने संभाला।

29वीं वार्षिक वर्षगांठ परेड के अवसर पर केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय जवानों से हाथ मिलाते हुए।
29वीं वार्षिक वर्षगांठ परेड के अवसर पर केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय जवानों से हाथ मिलाते हुए।

विदेशों तक स्थापित की अपनी पहचान

आरएएफ के आईजी विवेक वैद ने बताया कि आरएएफ ने विदेशों तक अपनी पहचान स्थापित की है। नीली वर्दी पहनकर आरएएफ ने देश में ही नहीं, विदेशों तक अपनी पहचान स्थापित की है। देश का एकमात्र दंगा नियंत्रण संस्थान भी आरएएफ का है, जो मेरठ में ही स्थापित है। सभी प्रदेशों की पुलिस के अलावा सेना के जवानों और दूसरे देशों की पुलिस व अधिकारियों को भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षण दे रहा है। सीआरपीएफ से ही आरएएफ में पोस्टिंग की जाती है।

खबरें और भी हैं...