• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Meerut
  • Ram Is Saddened By The Passing Of Ravana, Ram Arun Govil's Condolences On The Death Of Ravana Arvind Trivedi Of Ramayana, Said True Friend Is Lost

'रावण' के निधन से दुखी हैं 'राम':अरुण गोविल बोले- अरविंद त्रिवेदी से पहली बार सेट पर मिला था; मैंने कहा- मेरठ से हूं, तो बोले- तुम अपने जीजा का वध करोगे

मेरठ2 महीने पहलेलेखक: शालू अग्रवाल
  • कॉपी लिंक
रामायण सीरियल में राम का किरदार निभाने वाले अरुण गोविल और रावण का किरदार निभाने वाले अरविंद त्रिवेदी अच्छे मित्र थे। - Dainik Bhaskar
रामायण सीरियल में राम का किरदार निभाने वाले अरुण गोविल और रावण का किरदार निभाने वाले अरविंद त्रिवेदी अच्छे मित्र थे।

टीवी पर रावण के किरदार से चर्चित हुए अभिनेता अरविंद त्रिवेदी के निधन पर राम का किरदार निभाने वाले अरुण गोविल दुखी हैं। पर्दे पर भले ये दोनों किरदार विरोधी थे, मगर असल जिंदगी में दोनों बेहतरीन मित्र थे। अरविंद त्रिवेदी के निधन से दुखी अरुण गोविल ने दैनिक भास्कर से बातचीत में एक सच्चे मित्र को खोने का दुख साझा करते हुए कहा, "सबसे अच्छा दोस्त चला गया।"

दुखी हूं, 10 दिन पहले ही बात हुई थी
अरुण गोविल बोले, "सुबह उनके जाने की खबर मिली, बहुत दुखी हूं। 10 दिन पहले हमारी फोन पर बात हुई थी। तब उनकी तबीयत ठीक नहीं थी। मैंने उनका हालचाल पूछा। थोड़ा बोल रहे थे। उस दिन उनकी बात से मुझे ऐसा लगा कि उन्हें शायद अपने अंतिम क्षणों का आभास हो चुका था। आज ये दुख की खबर आ गई।"

वो रावण की नकारात्मकता से कोसों दूर थे
अरुण कहते हैं, "अरविंद जी भले रावण के किरदार में रहे, मगर जीवन सादा और सच्चा और धार्मिक ही रहा। उनके जितना अच्छा और पॉजिटिव इंसान हो ही नहीं सकता। अगर हम किसी इंसान में कमी निकालने की बात करें तो अरविंद त्रिवेदी वो व्यक्ति थे जिसमें कोई कमी निकाल नहीं सकते। शो की शूटिंग के दौरान हमने देखा उन्हें रामायण के काफी प्रसंग याद थे।"

मुझे प्रभु बुलाते थे अरविंद
गोविल ने कहा- "उनके साथ काम करने का अनुभव ग्रेट रहा। राम और रावण दोनों रामायण के मुख्य किरदार हैं। ऐसे में दो मुख्य अभिनेताओं में अक्सर कांफ्लिक्ट्स हो जाते हैं। मगर हमारे बीच ऐसा कभी नहीं रहा। गेटअप में भी रहते तो मुझे प्रभु ही बुलाते। वो अभिनय के महारथी थे। हम बहुत अच्छे दोस्त थे, दोस्तों की तरह काम करते थे। कभी हमारे बीच अभिनय या काम को लेकर प्रतिस्पर्धा नहीं रही।"

सेट या आयोजन जहां मिलते नमन करते
"अरविंद जी इतने विद्वान और धार्मिक थे जिसका अंदाजा लगाना मुश्किल था। हम शूटिंग पर होते या बाहर किसी आयोजन में मिलते, जब भी मिलते मुझे प्रभु कहकर बुलाते थे। उस दिन भी फोन पर बात हुई तो प्रभु कहकर संबोधन किया। कहीं भी मिलते तो सबसे पहले हाथ जोड़ते, मेरे पैर छूते। सेट पर शूटिंग से पहले मेरे पैर छूते उसके बाद शूटिंग शुरू करते।"

अपने प्रोजेक्ट का शुभारंभ मुझसे कराया
82 साल के त्रिवेदी को याद करते हुए अरुण गोविल ने कहा, "भारती विद्या भवन में उन्होंने एक डॉक्युमेंट्री लांच प्रोग्राम किया था। वहां उन्होंने मुझे बुलाया और आयोजन का शुभारंभ कराया। बोले यह शुभ काम मैं अरुणजी से ही कराना चाहता हूं। इसके बाद भी हम मिलते। अभी कोरोना के कारण मिलना नहीं हुआ, केवल फोन पर बात होती। वो रावण के किरदार में अमर हो गए।"

कहते थे आप मेरी ससुराल से हैं, जीजा का वध करोगे
"रामायण के सेट पर हमारी मुलाकात हुई, धीरे-धीरे परिचय बढ़ा, बातें होने लगी तो एक दिन मैंने उन्हें बताया मैं मेरठ से हूं। तो कहने लगे आप तो मेरी ससुराल से हैं। इस हिसाब से मैं आपका जीजा हुआ। मैंने उन्हें संदेह से देखा तो बोले धर्म ग्रंथों और मेरठ के इतिहास को देखिए उसमें जिक्र है कि रावण की पत्नी मंदोदरी मेरठ से थीं। मयदानव ने मेरठ को अपनी राजधानी बनाया था। आप मेरठ से हैं तो इस अनुसार मैं आपका जीजा हुआ। अब सीरियल में आप अपने जीजा का वध करेंगे। हम अक्सर इस बात पर हंसते थे।"

मंदोदरी बोलीं- किरदार अमर कर दिया रावण का

त्रिवेदी के निधन पर मंदोदरी का किरदार निभाने वालीं अपराजिता ने भास्कर से चर्चा करते हुए कहा कि त्रिवेदी ने रावण के किरदार को अमर कर दिया। वे बहुत दिग्गज एक्टर थे। मुझे जब पता लगा कि मुझे इनके साथ काम करना है तो मैं नर्वस हो गई थी। हालांकि वे बहुत सपोर्टिव थे। पढ़िए क्या कहा अपराजिता ने...

खबरें और भी हैं...