मेरठ...भैया दूज पर जेल के बाहर बहनों की लाइन:भाइयों को तिलक करने के लिए पहुंचीं बहनें, पिछले साल कोरोना के चलते नहीं मना पर्व

मेरठएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जेल के बाहर लगी बहनों की लाइन - Dainik Bhaskar
जेल के बाहर लगी बहनों की लाइन

भैया दूज मनाने बहनें अपने भाइयों से मिलने जेल पहुंचीं। चौधरी चरण सिंह जिला कारागार में शनिवार सुबह 8 बजे से जेल में पर्व मनाया जा रहा है, जेल प्रशासन ने महिलाओं की परेशानी देखते हुए कहा की किसी भी महिला को वंचित नहीं रहने दिया जायेगा। अधिकारिक तौर पर जेल प्रशासन ने शाम 5 बजे तक का समय रखा है।

मेरठ जेल में बंद हैं 2900 बंदी

जेल के बाहर सामान चेक करतीं महिला सुरक्षा कर्मी
जेल के बाहर सामान चेक करतीं महिला सुरक्षा कर्मी

मेरठ जेल के वरिष्ठ जेल अधीक्षक राकेश कुमार ने बताया की सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक बहन जेल में भैया दूज की रस्म पूरी कर सकती हैं। सुबह से ही बहनों का आना शुरू हो गया था। बहनों के लिए जेल प्रशासन की तरफ से पानी, चाय व बिस्किट की व्यवस्था की गई है। बैठने के लिए जेल परिसर के बाहरी हिस्से में टेंट लगवाया गया है, किसी भी बहन को कोई परेशानी न हो इसके लिए महिला सुरक्षा कर्मियों का स्टाफ लगाया गया है। सुरक्षा व्यवस्था को देखते ही अलग से टीम लगाकर सामान चेक किया जा रहा है।

सुबह 7 बजे ही लाइन लगी

साल 2020 में कोरोना के चलते जेल में भैया दूज का पर्व नहीं मनाया गया था। शनिवार सुबह 7 बजे से ही जेल के बाहर लाइन लगनी शुरू हो गईं। बहन अपने भैया दूज पर भाइयों के लिए गोला, मिठाई, हाथ में बांधने के लिए कलावा, कपड़े और अन्य सामान भी लेकर पहुंचीं। जेल के बाहर पर्ची काउंटर पर भी भीड़ लगी रही। एक साथ 20-20 महिलाओं को ही भेजा जा रहा है।

हाथ में सामान और आंखों में आंसू

हाथ में सामान, चेहरे पर मास्क लगाए युवती, फोटो खिंचा तो रोने लगी
हाथ में सामान, चेहरे पर मास्क लगाए युवती, फोटो खिंचा तो रोने लगी

जेल में भैया दूज मनाने पहुंचीं बहनाें की आंखों में जेल के बाहर ही आंसू बहने लगे, अपने परिवार के साथ सदस्यों के साथ पहुंची महिलाएं कपड़े से आंसू पोछतें हुए नजर आईं। कई महिलाएं भावुक भी नजर आईं।