टीईटी पेपर लीक मामले में सरकारी तंत्र पर सवाल:यूपी में जिस गैंग ने 2012 में एसएससी परीक्षा में सॉल्वर बैठाए, उसी गैंग ने TET का पेपर लीक कराया

मेरठएक महीने पहले
टीईटी पेपर लीक में मास्टरमाइंड का सुराग नहीं

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (TET) का पेपर लीक होने के मामले में भले ही एसटीएफ अभी तक 40 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी हो। लेकिन यूपी में सरकारी सिस्टम पर सवाल खड़े हो रहे हैं। जिस गिरोह ने 2012 में प्रयागराज में एसएससी परीक्षा में सॉल्वर बैठाए थे।

इसी गैंग ने अब यूपी TET का परीक्षा लीक कराया है। शामली के कांधला निवासी विकास व उसके भाई विपिन की तलाश शुरू कर दी है। मेरठ एसटीएफ के सीओ बृजेश सिंह ने बताया की विकास व इसका भाई विपिन 2012 में प्रयागराज से गिरफ्तार कर जेल भेजे गये थे। अब एसटीएफ विकास की तलाश कर रही है।

विवेचना में बच जाते हैं सरगना

स्पेशल टास्क फोर्स (STF) के गठन को प्रदेश में 22 साल हो गए हैं। कुख्यातों का सफाया करने के लिए बनाई नई तकनीक अपनाकर सॉल्वर गैंग की कमर तोड़ने में लगी है। लेकिन पुलिस कभी भी इस बड़े गैंग को नहीं तोड़ सकी। एसटीएफ सॉल्वर व गिरोह के अन्य लोगों को गिरफ्तारी के बाद थाना पुलिस को सौंप देती है। जिसके बाद विवेचना भी सिविल पुलिस व पुलिस की क्राइम ब्रांच करती है। लेकिन आरोपी बच जाते हैं। जिसके चलते साक्ष्य न मिलने के कारण चार से पांच माह में जेल से बाहर आ जाते हैं।

हर बड़ी परीक्षा में सेंधमारी

  • साल 2018 में एसएससी की परीक्षा में मेरठ एसटीएफ ने दिल्ली से ही पांच लोगों को 21 लाख रुपये के साथ गिरफ्तार किया। यह गिरोह सॉल्वर बैठाने के लिए 100 से ज्यादा लोगों से पैसे वसूल चुका था।
  • 27 मार्च 2018 को एसटीएफ ने मेरठ में एमबीबीएस, एलएलबी, स्नातक और परास्नातक की उत्तर पुस्तिकाएं बदलने का खुलासा किया। जांच के लिए एसआईटी बनी, लेकिन गिरोह का नेटवर्क नहीं खंगाला जा सका।
  • अप्रैल 2018 में एसटीएफ ने दिल्ली में छापा मारकर एसएससी की परीक्षा में धांधली कराने के नाम पर सॉल्वर गैंग के पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया था। यह गैंग UP के अलावा दिल्ली व हरियाणा के अलावा कानपुर के अभ्यर्थियों से मोटी रकम ले चुका था।
  • अक्तूबर 2018 में एसटीएफ ने यूपी पुलिस में सिपाही भर्ती के नाम पर सॉल्वर गैंग का पर्दाफाश किया था, जिसमें अलग-अलग परीक्षाओं में नौ लोगों की गिरफ्तारी हुई, इनमें एक निजी संस्थान का मैनेजर भी गिरफ्तार हुआ।
  • सितंबर 2018 में एसटीएफ ने पीजीटी पेपर आउट के मामले में भी चार आरोपियों को गिरफ्तार किया था। 26 नवंबर 2018 को एसटीएफ ने सेना में भर्ती कराने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह को पकड़ा।
  • 2016 में एसटीएफ ने एसएससी व पुलिस की परीक्षा में सॉल्वर गैंग के 9 लोगों को मेरठ व प्रयागराज से गिरफ्तार किया।
  • 2012 में शामली गैंग ने प्रयागराज में एसएससी परीक्षा में सॉल्वर बैठाए, जिसमें छह लोग एसटीएफ ने अलग अलग स्थानों से गिरफ्तार कर जेल भेजे गए।

बागपत के अरविंद राणा गैंग से जुड़े हैं तार

एसटीएफ की जांच में सामने आया है की यूपी TET परीक्षा का 28 नवंबर को पेपर था। इससे एक दिन पहले ही मथुरा से पैपर लीक हुआ। जिसमें अभी तक 40 लोगों को पूरे प्रदेश में गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। 13 दिसंबर को निर्दोष चौधरी पुत्र केहरी सिंह निवासी गोंडा अलीगढ़ ने शामली जिले की कोर्ट में सरेंडर कर दिया। निर्दोष चौधरी कासगंज के सिकंद्राराव के प्राथमिक स्कूल में सरकारी शिक्षक है। अभी तक जांच में सामने आया है की सरकारी शिक्षक ने बागपत के रवि, धर्मेद्र को पेपर बेचा। जिसके बाद बागपत के राणा गैंग ने पूरे प्रदेश में मोटी रकम लेकर पेपर बेचा।

खबरें और भी हैं...