• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Meerut
  • The Number Of Typhus Patients In Meerut Division Reached 36, Experts Said Do Not Panic, Get The Test Done Immediately After Getting Symptoms, Dengue Patients 262

मेरठ मंडल में टाइफस की बढ़ रही रफ्तार, 36 केस:तेजी से आता है बुखार, एक्सपर्ट की सलाह- लक्षण दिखने पर तत्काल कराएं टेस्ट, जानिए क्या हैं लक्षण और कैसे बचें...

मेरठ4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना, डेंगू और वायरल बुखार के बीच स्क्रब टाइफस के केस मेरठ मंडल में तेजी से बढ़ रहे हैं। यहां अब तक टाइफस के 36 मरीज मिल चुके हैं। इनमें से मेरठ में 1 और गाजियाबाद में टाइफस के 29 मरीज मिले हैं। हेल्थ एक्सपर्ट्स ने टाइफस को लेकर लोगों से खास सावधानी बरतने की सलाह दी है। टाइफस भी एक तरह का बुखार है, इसमें शरीर में चक्कते निकल आते हैं। शरीर का तापमान अचानक बढ़ने लगता है। थकान महसूस होती है। यह जानलेवा भी है।

एक्सपर्ट्स का कहना है कि बीमारी का लक्षण दिखने पर फौरन डॉक्टरों को दिखाएं। घबराने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं है। समय पर सही इलाज मिलने से मरीज पूरी तरह से ठीक हो सकता है।

मेरठ मंडल में कहां कितने टाइफस मरीज मिले-

जिलामरीजों की संख्या
मेरठ01
हापुड़02
जीबीनगर03
गाजियाबाद29
बुलंदशहर00
बागपत01
  • अपर निदेशक स्वास्थ्य डॉ. राजकुमार के अनुसार टाइफस से घबराने की जरूरत नहीं है। यह बुखार जैसी ही बीमारी है।

लक्षण दिखने पर तुरंत जांच कराएं
अपर निदेशक स्वास्थ्य डॉ. राजकुमार के अनुसार टाइफस से घबराने की जरूरत नहीं है। यह बुखार जैसी ही बीमारी है। इस बीमारी के लक्षण मिलने पर तुरंट टेस्ट कराएं। गांव में या झोलाछाप डॉक्टरों से इलाज न कराएं। टाइफस आरिएंटिया त्सुत्सुगामशी बैक्टीरियाा के कारण होती है।

शरीर पर निशान मिलना टाइफस का लक्षण
वरिष्ठ फिजीशियन डॉक्टर TR सिरोही का कहना है कि टाइफस एक तरफ का बुखार है। इस बीमारी से ग्रस्त होने पर मरीजों के जोड़ों में दर्द होता है। बुखार के साथ शरीर पर निशान पड़ जाते हैं। बरसात के मौसम में ही यह बीमारी होती है। 7 से 8 दिन में मरीज ठीक हो जाता है। जिन लोगों को लंबे समय से बुखार या स्किन पर निशान बना रहता है ऐसे लोगों को डॉक्टर के पास जाने में देर नहीं करनी चाहिए।

अपर निदेशक कर रहे लगातार निगरानी
टाइफस की बीमारी के मरीजों को देखते हुए अपर निदेशक स्वास्थ्य डॉ राजकुमार अलग अलग जिलों में डॉक्टरों के साथ निगरानी कर रहे हैं। डॉ. राजकुमार का कहना है कि मंडल में अलग से टीमें गठित की हैं। इस बीमारी के लोगों की सैंपल टेस्टिंग के लिए मेरठ मेडिकल कॉलेज गढ़ रोड पर अलग से टीम गठित की गई है। मेडिकल कॉलेज व अन्य लैब में जांच की सुविधा है।

मेरठ मंडल में डेंगू के मिले 262 मरीज

जिलामरीजों की संख्या
मेरठ134
हापुड़04
गौतमबुद्धनगर11
बुलंदशहर01
गाजियाबाद101
बागपत11
खबरें और भी हैं...