मेरठ में बस का टायर चढ़ने से महिला की मौत:ससुर का डेथ सर्टिफिकेट लेने हापुड़ से पति संग मेरठ आई थी महिला

मेरठ5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बस का पहिया चढ़ने के कारण महिला की मौके पर ही मौत हो गई - Dainik Bhaskar
बस का पहिया चढ़ने के कारण महिला की मौके पर ही मौत हो गई

मेरठ में साकेत पेट्रोल पंप के पास एक महिला पर बस का टायर चढ़ने से ऑनस्पॉट मौत हो गई। सोमवार दोपहर को महिला पति के साथ बाइक पर अपने घर हापुड़ वापस जा रही थी, तभी साकेत पेट्रोल पंप के पास बाइक के पीछे से आती प्राइवेट बस ने बाइक में टक्कर मार दी।

पत्नी के शव के पास बैठकर विलाप करता पति
पत्नी के शव के पास बैठकर विलाप करता पति

बस की टक्कर लगते ही महिला और पति दोनों अलग दिशाओं में गिर गए। बस का ड्राइवर अचानक ब्रेक नहीं लगा पाया और बस का पिछला पहिया महिला के सिर पर चढ़ गया। पहिया चढ़ने से महिला का सिर बुरी तरह चकनाचूर हो गया और मौके पर ही मौत हो गई। मृतक महिला का नाम साधना उम्र 38 वर्ष है। पति का नाम शेरसिंह है। परिवार मूलत: हापुड़, बाबूगढ़ छावनी के पास अल्लीपुर कटीरा का रहने वाला है।

ससुर का डेथ सर्टिफिकेट लेने आए थे मेरठ
महिला के पति शेरसिंह ने बताया कि उसके पिता स्व. रामपाल सिंह सेना में नौकरी करते थे। पिछले साल ही कोरोना काल में पिता शेरसिंह की कोरोना से मौत हो गई। पिता का इलाज मेरठ के आर्मी अस्पताल में चला था। सोमवार को शेरसिंह, पत्नी साधना के साथ पिता का डेथ सर्टिफिकेट लेने मेरठ के आर्मी अस्पताल आया था। डेथ सर्टिफिकेट लेकर शेरसिंह और उसकी पत्नी वापस अल्लीपुर गांव लोट रहे थे। तभी रास्ते में यह हादसा हो गया। महिला के तीन बच्चे अंश, काजल और आकाश हैं तीनों बच्चे घर पर थे, केवल पति-पत्नी मेरठ आए थे। पुलिस को मिली जानकारी के अनुसार महिला का पति शेरसिंह शराब की दुकान में काम करता है।

पति के सामने तड़पती रही पत्नी, फिर मौत
बस की टक्कर से एक तरफ गिरे शेरसिंह ने जैसे ही पलटकर देखा तो उसकी चीख निकल गई। तुरंत मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई।लोगों ने बताया कि पति के सामने ही महिला साधना का शरीर 2 मिनट तक छटपटाता रहा। बस का पहिया चढ़ने के कारण महिला का पूरा सिर खुलकर बाहर आकर बिखर गया। पति यह देखकर जोर जोर से चिल्लाने लगा। दुघर्टना होती देख बस चालक भी बस दौड़ाकर फरार हो गया। बाद में पुलिस ने आकर वायरलेस पर मैसेज फ्लैश किया है।

20 मिनट बाद पहुंची पुलिस
मौके पर जमा हुई भीड़ ने दुघर्टना के तुरंत बाद हेल्पलाइन नंबरों पर कॉल कर पुलिस को बुलाने का प्रयास किया मगर फोन नहीं उठा। सिविल लाइन थाने में जानकारी दी तब कहीं जाकर पुलिस मौके पर पहुंची। उसमें भी महिला कांस्टेबल साथ नहीं आई। महिला कांस्टेबल न होने के कारण महिला का शव काफी देर तक बीच सड़क पर पड़ा रहा। मुख्य मार्ग होने के कारण वहां जाम लग गया।तब लोगों ने महिला के शव को उठाकर किनारे कर चादर से ढंक दिया। पुलिस ने महिला के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पति की बाइक भी पुलिस साथ ले गई है।

खबरें और भी हैं...