मेरठ में पुलिस- गौ तस्करों में फायरिंग:मुठभेड़ में तीन गौतस्कर के पैर में गोली लगी

मेरठएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुठभेड़ में घायल गौतस्कर को ले जाती पुलिस और एसओजी - Dainik Bhaskar
मुठभेड़ में घायल गौतस्कर को ले जाती पुलिस और एसओजी

मेरठ के रोहटा इलाके में शुक्रवार दोपहर को गौतस्करों और पुलिस में मुठभेड़ हुई। पुलिस ने जैसे ही गौतस्करों की घेराबंदी की तो पुलिस पर फायरिंग कर दी। इसमें एक सिपाही बाल बाल बच गया। पुलिस ने जबावी फायरिंग की तो तीन गौतस्कर के पैर में गोली लग गई। पुलिस ने तीनों को पकड़ लिया। वहीं तो बदमाश पुलिस पर फायरिंग कर फरार हो गये। घायलों को पुलिस ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

एक सप्ताह पहले किया था गौवंश का कटान

रोहटा थाना क्षेत्र में 12 अगस्त को जंगल में गौवंश के अवशेष मिले थे। पुलिस ने अज्ञात में गौवध अधिनियम के तहत एफआईआर दर्ज की थी। शुक्रवार दोपहर 3 बजे पुलिस को मुखबिर ने सूचना दी कि पांच लोग जंगल में गौकशी की घटना को अंजाम देने के लिए बैठे हैं। सूचना पर इंसपेक्टर रोहटा और एसओजी की टीम ने पहुंचकर जंगल में घेराबंदी कर दी।

पूठ नहर पटरी के पास जैसे ही पुलिस पहुंची तो पांच लोग दिखाई दिये, जिन्होंने पुलिस को देखकर शोर मचाया और पुलिस पर जान से मारने की नियत से फायर कर दिए।

मुठभेड़ में तीन गौ तस्कर दबोचे

मुठभेड़ की घटना के बाद एसओजी और रोहटा पुलिस
मुठभेड़ की घटना के बाद एसओजी और रोहटा पुलिस

पुलिस ने जवाबी फायरिंग की तो 3 गौतस्करों के पैर में गोली लगी। इनमें पुलिस ने तीनों को पकड़ लिया। एसपी देहात केशव कुमार ने बताया कि पकड़े गये गौतस्कर अरबाज पुत्र हाजी इरशाद निवासी श्यामनगर थाना लिसाड़ीगेट। फरीद पुत्र इमामु्दीन निवासी जाकिर कॉलोनी लिसाड़ीगेट और नौशाद पुत्र सईद निवासी नौचंदी हैं। तीनों के पास से दो तमंचे, चार चाकू, रस्सा बरामद किया है। तीनों पर गौवंश कटान के 12 मुकदमे दर्ज हैं। फरार दोनों आरोपी जावेद और इशाक की पुलिस तलाश कर रही है।