मेरठ में शराब से 10 मौतों का मामला:दो प्रधान प्रत्याशियों समेत तीन पर केस दर्ज; पुलिस ने दो को पकड़ा, शराब की दुकान सील, सैंपल भेजे गए

मेरठ6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सधारणपुर गांव में मातम पसरा हुआ है। - Dainik Bhaskar
सधारणपुर गांव में मातम पसरा हुआ है।

उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में जहरीली शराब से 10 मौतों के बाद जिला प्रशासन अपनी नींद से जाग गया है। पुलिस ने दो प्रधान प्रत्याशियों समेत तीन के खिलाफ केस दर्ज किया है। दोनों प्रत्याशियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। उस दुकान को भी सील किया गया है, जहां से शराब खरीदी गई थी।

ग्रामीणों ने बिना पोस्टमार्टम शवों का किया अंतिम संस्कार

यह पूरा मामला थाना इंचौली क्षेत्र के सधारणपुर गांव का है। जिले में 26 अप्रैल को वोटिंग थी। आरोप है कि इससे पहले यहां प्रधान प्रत्याशियों ने मतदाताओं को रिझाने के लिए शराब बंटवाई। जिसे पीने के बाद 25 अप्रैल की रात लोगों की हालत बिगड़ी। दो ग्रामीणों ने घर में ही दम तोड़ दिया। जबकि कुछ अस्पताल पहुंच पाए। लेकिन इलाज के बाद भी उनकी जान नहीं बचाई जा सकी। एक-एक कर गांव में 10 लोगों की मौत हो गई। ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दिए बगैर शवों का अंतिम संस्कार कर दिया। सूचना मिलने पर 26 अप्रैल को पुलिस जब गांव में पहुंची तब दो शवों के पंचनामा भरे। लेकिन परिजनों ने पोस्टमार्टम कराने से इंकार कर दिया था।

इसके बाद से सधारणपुर गांव की गलियों में मातम पसरा हुआ है। शराब पीने से हुई मौत की इस घटना में जहां आठ महिलाओं के सुहाग उजड़े तो वहीं 15 बच्चों के सिर से पिता का साया उठ गया। इस मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए दो प्रधान प्रत्याशियों समेत तीन के खिलाफ केस दर्ज किया है।

दुकान सील, सैंपल जुटाए गए

SP देहात केशव कुमार ने बताया कि इस मामले में प्रधान प्रत्याशी संजय और महाराज को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने कुछ शराब की बोतलें बरामद की हैं, उन्हें भी कब्जे में ले लिया गया है, QR कोड के माध्यम ये पता करने पर जिस दुकान की ये शराब मिली, उसको भी फिलहाल सील किया गया है। वहां से कुछ सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं। SP देहात ने बताया कि पुलिस पूरे मामले की गंभीरता के साथ जांच पड़ताल कर रही है।

खबरें और भी हैं...