पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मोबाइल के विवादित बयान पर मेंबर वॉर:मीना कुमारी के विवादित बयान पर महिला आयोग की सदस्य राखी त्यागी का पलटवार, कहा- मोबाइल तो महिलाओं का सुरक्षा कवच, इमरजेंसी में मिलती है हेल्प

मेरठ4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लड़कियों के मोबाइल रखने पर छिड़ी जुबानी जंग। - Dainik Bhaskar
लड़कियों के मोबाइल रखने पर छिड़ी जुबानी जंग।

उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी के विवादित बयान पर आयोग की दूसरी सदस्य राखी त्यागी ने पलटवार किया है। मेरठ से उप्र महिला आयोग की सदस्य राखी त्यागी ने कहा हम खुद महिलाओं से कहते हैं कि मुसीबत में हेल्पलाइन नंबरों पर फोन कर मदद लें। प्रदेश और केंद्र सरकार ने महिलाओं की सुरक्षा और न्याय के लिए इतने हेल्पलाइन नंबरों की सुविधा दी है। अगर लड़कियां मोबाइल ही नहीं रखेंगी तो मुसीबत में मदद कैसे मांगेगी। मोबाइल रखने से लड़कियां बिगड़ती हैं यह एक पिछड़ी सोच की बात है।

बेटी के पास मोबाइल है तो मां-बाप रहते टेंशन फ्री
मोबाइल रखने से लड़कियां बिगड़ती हैं ये व्यक्तिगत राय हो सकती है, मगर ये सभी पर लागू नहीं होता। मोबाइल सुरक्षा कवच है। बेटी जब मोबाइल लेकर जाती है तो अभिभावक भी टेंशन
मुक्त रहते हैं कि बेटी सुरक्षित है। हमारे पास मदद के लिए पीडि़ता फोन ही करती है। राखी त्यागी मेरठ, संभल, मुजफ्फरनगर और अमरोहा क्षेत्र की जिम्मेदारी संभाल रही हैं।

हम खुद कहते हैं कि कॉल कर मांगे मदद
राखी त्यागी ने कहा रात दिन महिलाओं को आयोग का नंबर देते हैं। 118, 112, 1090 हेल्पलाइन नंबर की जानकारी देते हैं। इन नंबरों पर सूचना देकर पुलिस को बुलाएं।
हम खुद कहते हैं लड़कियां फोन करके मदद मांगें, मोबाइल नहीं होगा तो हम उनकी परेशानी कैसे सुनेंगे।

खबरें और भी हैं...