लालगंज में चपरासी लगाता रहा पूर्व प्रधानाचार्या की बायोमीट्रिक हाजिरी:छुट्टी पर जाने के बाद भी उपस्थिति दर्ज होने पर खुलासा, टीम कर रही जांच

लालगंज (मिर्जापुर)11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

लालगंज में जीजीआइसी बरौंधा की पूर्व प्रधानाचार्या की बायोमीट्रिक हाजिरी उनका चपरासी दूसरे हाथ के अंगुली से लगाता रहा। मामला तब उजागर हुआ जब पूर्व प्रधानाचार्या छुट्टी पर गईं, इसके बाद भी उनकी उपस्थिति दर्ज होती है। अब प्रभारी प्रधानाचार्य ने डीआईओएस को पत्र लिखकर मामले की जांच कर कार्रवाई की सिफारिश की है।

बायोमीट्रिक उपस्थिति के अनुसार ही मिलता वेतन

विद्यालयों से शिक्षकों के गायब होने की शिकायत आम बात है। इस पर अंकुश लगाने के लिए राजकीय माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षक-कर्मचारियों की बायोमीट्रिक उपस्थिति अनिवार्य कर दी गई। बायोमीट्रिक उपस्थिति के अनुसार ही वेतन मिलता है। सरकार की सौ दिन की कार्ययोजना के तहत लाखों रुपये खर्च कर सभी राजकीय विद्यालयों में बायोमीट्रिक मशीनें लगाई गईं। प्रधानाचार्यों के अनिवार्य रूप से प्रतिमाह वेतन बिल के साथ बायोमीट्रिक उपस्थिति प्रस्तुत करने पर ही वेतन जारी होता है।

लालगंज में राजकीय बालिका इंटर कालेज का छात्रावास।
लालगंज में राजकीय बालिका इंटर कालेज का छात्रावास।

बायोमीट्रिक हाजिरी में सेंध लगाकर दी चुनौती

राजकीय बालिका इंटर कालेज बरौंधा (लालगंज) में शिक्षक और कर्मचारी दो हाथ आगे निकल गए। यहां कि पूर्व प्रधानाचार्या ज्योति गोयल ने कर्मचारी के साथ मिलकर बायोमीट्रिक हाजिरी में सेंध लगाकर सभी बायोमीट्रिक इंजीनियरों को सोचने पर मजबूर कर दिया है। यहां का चपरासी एक हाथ अंगुली से खुद की तो दूसरे हाथ की अंगुली से पूर्व प्रधानाचार्या की हाजिरी लगाता रहा। राजकीय बालिका इंटर कालेज बरौंधा के प्रभारी प्रधानाचार्य राम प्रताप सिंह ने जिला विद्यालय निरीक्षक अमरनाथ सिंह को पत्र सौंपकर जांच की मांग की।

उपस्थिति पंजिका का मिलान करने पर खुलासा

उनका कहना था कि पूर्व प्रभारी प्रधानाचार्या ज्योति गोयल का जुलाई और अगस्त का बायोमीट्रिक उपस्थिति का अवलोकन करने और अगस्त की उपस्थिति पंजिका का मिलान करने पर पता चला कि उनके अवकाश और अनुपस्थित रहने की तिथि में भी उपस्थिति दर्ज की गई है। वहीं परिचारक रामपोस के उपस्थित रहने पर भी अनुपस्थित दिखाई पड़ रही है।

हाजिरी में फर्जीवाड़े की दो सदस्यीय टीम कर रही जांच

आशंका जताई कि बायोमीट्रिक मशीन में छेड़छाड़ की गई है। राजकीय बालिका इंटर कालेज में बायोमीट्रिक हाजिरी में फर्जीवाड़े की जांच दो सदस्यीय टीम कर रही है। संयुक्त शिक्षा निदेशक कामतराम पाल ने मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक विंध्याचल मंडल डा. फतेह बहादुर सिंह और प्रधानाचार्य जीआइसी मिर्जापुर राज कुमार दीक्षित को जांच की जिम्मेदारी सौंपी है। मामले में आरोपित ने इसमें किसी भी प्रकार की भूमिका होने से इनकार करते हुए सीसीटीवी फुटेज जांच की बात कही है।

जांच के बाद ही सही स्थिति हो पाएगी स्पष्ट

संयुक्त शिक्षा निदेशक कामताराम पाल ने बताया कि बायोमीट्रिक मशीन में छेड़छाड़ कर हाजिरी लगाने की शिकायत मिली है। इसकी जांच टीम बनाकर कराई जा रही है। जांच के बाद ही सही स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। सभी माध्यमिक विद्यालयों में बायोमीट्रिक मशीन की भी जांच कराई जाएगी।

खबरें और भी हैं...