मड़िहान में 24 हजार छात्रों को नही मिली पुस्तकें:ठेकेदार टेंडर मिलने के बाद भी BRC से नहीं उठा रहा किताबें, कैसे पढ़ेंगे बच्चे

मड़िहान16 दिन पहले

मड़िहान स्थित परिषदीय विद्यालयों के चौबीस हजार छात्रों को पुस्तके नहीं मिली हैं। विद्यार्थी तीन महीने से स्कूल जा रहैं। शिक्षक कटी-फटी पुरानी किताबों से किसी तरह काम चला रहे हैं।

सर्व शिक्षा अभियान के तहत सब पढ़ें सब बढ़ें का नारा भले बुलंद हो लेकिन अभिभावक देश के भविष्य के साथ खिलवाड़ मान रहे हैं। बच्चे तीन महीने से खाली बस्ता लेकर स्कूल जा रहे हैं। प्राथमिक विद्यालयों का नया सत्र 16 जून से शुरू हो गया था। तीन महीने बाद एक भी छात्रों को पठन पाठन के लिए पुस्तकें नहीं उपलब्ध हुयीं। विद्यालयों पर नियुक्त शिक्षक कक्षा से पास हुए विद्यार्थियों की कटी फटी किताबों से किसी तरह नैया पार करने में जुटे हैं।

इतने स्कूलों में नहीं पहुंचीं किताबें

विकास खण्ड पटेहरा क्षेत्र में 80 प्राथमिक, 43 कंपोजिट व 22 मिडिल स्कूल हैं। प्राइमरी में 16532 छात्र तथा मिडिल में 8466 छात्र नामांकित हैं। आधी अधूरी ही सही एक महीने से किताबें बीआरसी कार्यालय में धूल फांक रही हैं। स्कूलों तक पहुंचाने के लिए ठेकेदार को टेण्डर दिया गया है।

बीआरसी में किताबें पहुंचा दी गई हैं लेकिन यहां से ठेकेदार किताबें लेने नहीं आ रहा है।
बीआरसी में किताबें पहुंचा दी गई हैं लेकिन यहां से ठेकेदार किताबें लेने नहीं आ रहा है।

BEO बोले- जल्द कराएंगे इंतजाम

इस सम्बन्ध में खण्ड शिक्षाधिकारी रविन्द्र शुक्ला ने बताया, " 20 अगस्त से किताब आकर रखी हैं लेकिन ठेकेदार पता नहीं क्यों किताबें नहीं पहुंचा रहा। जल्द ही विद्यालयों पर पहुंचाने का इंतजाम किया जाएगा।"

खबरें और भी हैं...