मिर्जापुर में कांग्रेस प्रत्याशी का स्वामी प्रसाद पर तंज:भगवती प्रसाद चौधरी बोले- सामाजिक न्याय के नाम पर राजनीतिक लाभ के लिए सैद्धांतिक रूप से विकलांग हैं मौर्य

मिर्जापुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

5 साल तक भाजपा के साथ सत्ता में रहकर अब सपा में जंप लगाने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य को कांग्रेस पार्टी के अनुसूचित जनजाति आयोग के सदस्य भगवती प्रसाद चौधरी ने सैद्धांतिक रूप से विकलांग बताया है। मिर्जापुर में भगवती प्रसाद चौधरी ने कहा कि यह सामाजिक न्याय की बात करते हैं, लेकिन हकीकत में यह पारिवारिक न्याय, आय और व्यक्तिगत लाभ के लिए कार्य करते हैं।

भगवती प्रसाद चौधरी ने कहा कि बीएसपी में रहकर 36 का आंकड़ा रखने वाली बीजेपी को ज्वाइन किया था। अब नुकसान देख फिर दूसरी पार्टी में चले गए। यह सैद्धांतिक रूप से विकलांग हैं। बता दें कि भगवती प्रसाद चौधरी के पिता पुरुषोत्तम चौधरी इस सीट पर 1974,1977 एवं 1980 में विधायक रहे। इसी सीट से भगवती 1985 में विधायक बने थे। एक बार फिर कांग्रेस ने अपने पुरानी खिलाड़ी पर दांव खेला है।

छानबे सुरक्षित विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी

कांग्रेस पार्टी ने भगवती प्रसाद चौधरी को छानबे सुरक्षित विधानसभा क्षेत्र से अपना प्रत्याशी घोषित किया है। कांग्रेस के पूर्व विधायक, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष और अनुसूचित जनजाति आयोग के सदस्य हैं। कांग्रेस कमेटी के 125 प्रत्याशियों की लिस्ट में 124 नंबर पर इनका नाम दर्ज है। एक बार फिर प्रत्याशी बनाए जाने पर भगवती प्रसाद चौधरी के घर पर जश्न का माहौल है।

कांग्रेस कमेटी में पूर्व विधायक, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष सहित पूर्व प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य, वरिष्ठ जिला उपाध्यक्ष पद पर कार्य कर चुके चौधरी को राजनीति का लंबा अनुभव है। वर्ष 2014 और 2019 में लोकसभा का चुनाव भी पार्टी के सिंबल पर लड़े पर सफल नहीं हुए। राजनीतिक विरासत इनको पिता स्व. पुरुषोत्तम चौधरी से मिला है।

भगवती प्रसाद चौधरी के पिता 3 बार विधायक रहे

वह 3 बार छानबे विधानसभा क्षेत्र से विधायक रहे हैं। 1977 में जब कांग्रेस के दिग्गजों समेत इंदिरा गांधी भी चुनाव हार गई थीं तब पुरुषोत्तम चौधरी चुनाव जीते थे। इसके लिए खुद इंदिरा गांधी उनको बधाई देने उनके घर पर पहुंचीं थीं। पुराने सिपाही पर भरोसे के चलते पार्टी ने फिर प्रत्याशी बनाया है।

खबरें और भी हैं...