अस्पताल निर्माण में लूट, सीमेंट कम बालू ज्यादा:17 करोड़ की लागत से बन रहा नेत्र चिकित्सालय, डीएम ने पकड़ी खामियां, दी चेतावनी

मिर्जापुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
निर्माणाधीन नेत्र चिकित्सालय में ईंट की गुणवत्ता परखते एडीएम के साथ जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार - Dainik Bhaskar
निर्माणाधीन नेत्र चिकित्सालय में ईंट की गुणवत्ता परखते एडीएम के साथ जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार

नगर के सिविल लाइन मोहल्ले में भैरों प्रसाद जायसवाल ट्रस्ट की जमीन पर निर्माणाधीन 50 शैय्यायुक्त बहुखण्डीय चिकित्सालय का डीएम प्रवीण कुमार लक्षकार ने निरीक्षण किया। इस दौरान अपर जिलाधिकारी शिव प्रसाद शुक्ल भी उपस्थित रहे। निर्माण में सीमेंट कम और ज्यादा बालू का प्रयोग किया गया। इतना ही नहीं घटिया ईट को बदलने का जिलाधिकारी ने आदेश दिया। करीब 17 करोड की लागत से बन रहें भवन के लिए दो करोड रूपया कार्यदायी संस्था को मुख्य चिकित्साधिकारी ने अवमुक्त किया है।

बीम को मानक के विपरीत देख डीएम ने दी चेतावनी
बीम को मानक के विपरीत देख डीएम ने दी चेतावनी

अस्पताल के बीम में मिला पोल व टेढ़ापन

निरीक्षण के समय संस्था के सुपरवाइजर एवं कान्ट्रेक्टर उपस्थित रहे। बनाये गये बीम की गुणवत्ता मानक के अनुसार नहीं पाया गया। बीम में कई जगह पोल व टेडा पाया गया। बीम की फिनिशिंग सही नहीं पाई गई। दीवालों में की जा रही चिनाई के लिये प्रयुक्त की जा रही सीमेंट व बालू का अनुपात सही नहीं मिला।

दीवार के निर्माण में मिला सीमेंट कम और बालू ज्यादा
दीवार के निर्माण में मिला सीमेंट कम और बालू ज्यादा

घटिया मिला प्रयोग किया जा रहा ईंट

ईट की में पीलापन पाये जाने पर उसकी गुणवत्ता को परखा। ईट बदल कर गुणवत्तापूर्ण ईट प्रयोग करने का निर्देश दिया। उन्होंने ईट की क्वालिटी परखने के लिए देशी विधि का प्रयोग कर चेक किया ।

गुणवत्ता के अनुसार हो निर्माण, वरना ब्लैक लिस्ट कर होगा FIR

जिलाधिकारी ने चेतावनी देते हुए कहा कि आगे निरीक्षण में गुणवत्ता खराब न मिले। वरना कार्यदायी संस्था पर मुकदमा दर्ज कराते हुए ब्लैक लिस्टेट की कार्यवाई की जायेगी। कार्य की धीमी प्रगति पर जिलाधिकारी ने असंतोष जताया। उन्होंने राजमिस़्त्री व मजदूरों की संख्या बढाकर कार्य में तेजी लाने को कहा।

खबरें और भी हैं...