मिर्जापुर...3 बच्चों की मौत से उजड़ गई मां की कोख:नसबंदी कराने की सोच रहे थे पति-पत्नी, उससे पहले ही जिंदा जल गए मासूम

मिर्जापुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मिर्जापुर में 3 बच्चों की मौत से उजड़ गई मां की कोख। - Dainik Bhaskar
मिर्जापुर में 3 बच्चों की मौत से उजड़ गई मां की कोख।

मिर्जापुर के पचोखरा खुर्द गांव में सोमवार शाम करीब साढ़े 4 बजे मूंगफली भूनते समय पुआल में आग लग गई। पास में ही खेल रहे एक ही परिवार के 3 बच्चे आग बुझाने लगे। इसी दौरान तीनों आग की चपेट में आ गए। पुआल में आग लगी देख ग्रामीण भी वहां पहुंच गए, लेकिन आग के बीच से कोई बच्चों को निकाल नहीं पाया, जिससे तीनों की जलकर मौत हो गई। आग में तीन मासूम बच्चों का शव देख कर मानों पिता जितेंद्र धरिकार के पैरों तले जमीन खिसक गई। यह हादसा जिस वक्त हुआ उस दौरान वह मजदूरी करने निकला था।

पोस्टमार्टम हाउस पर घटना के बारे में पूछे जाने पर जितेंद्र ने कहा कि मेरी तो दुनिया ही उजड़ गई। तीन बच्चों के पैदा होने के बाद उसने और उसकी पत्नी सुभावती ने नसबंदी कराने का मन बनाया था, लेकिन सास छैल कुमारी के मना करने के बाद नसबंदी की योजना स्थगित कर दी गई थी।

2016 में हुई थी शादी

दरअसल, दो भाइयों में सबसे बड़े जितेंद्र धरिकार की शादी 2016 में क्षेत्र के अमोई में हुई थी। छोटे भाई 18 वर्षीय सुकुनू की शादी अभी नहीं हुई है। परिवार के तीनों बच्चे ही अपने दादा, दादी, मां-बाप और चाचा के दुलारे थे। एक साथ तीन बच्चों की मौत से परिवार गमगीन है। मां का रो-रोकर बुरा हाल है। पोस्टमार्टम हाउस पर गांव के लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा था। तीन बच्चों हर्षित (5), रानी (3) और सुनैना (7) की दम घुटने से हुई मौत से मां की गोद सूनी हो गई।

मां के सामने बच्चों ने तोड़ा दम

पति जितेंद्र हमेशा छोटे परिवार के लिए दो वर्ष से नसबंदी कराने की चर्चा करता रहा। जबकि घटना के समय वह घर पर नहीं था। मां खलिहान में धान की सफाई कर रही थी। आग की एक चिंगारी से पुआल में लगी आग से तीनों मासूमों की मौत हो गई। मां सुभावती के सामने तीनों बच्चों ने तड़प-तड़प कर दम तोड़ दिया। परिवार का कष्ट देखकर लोगों की आंखों में आंसू छलक पड़े थे।

मृतकों के पिता जितेंद्र मजदूरी कर गुजर बसर करता है। घटना की जानकारी होने पर रात नौ बजे पुलिस उपमहानिरीक्षक, एसडीएम सिद्धार्थ यादव, इंस्पेक्टर विजय प्रताप सिंह समेत कई अधिकारी मौके पर पहुंचे। जिलाधिकारी ने परिवार को तत्काल राहत देने का निर्देश दिया है

जानें क्या है पूरा मामला

मड़िहान थाना क्षेत्र के पचोखरा खुर्द गांव निवासी जितेंद्र धरिकार के बच्चे हर्षित (5), रानी (3) और सुनैना (7) दादा नरेश के साथ खेत पर गए। खेत से कुछ दूरी पर रखे पुआल के पास जितेंद्र की बड़ी बेटी सुनैना मूंगफली भून रही थी। सुनैना के साथ ही रानी और हर्षित भी थे। मूंगफली भूनते समय अचानक पुआल में आग लग गई। आग लगा देख तीनों उसे बुझाने लगे। इसी दौरान तीनों आग की चपेट में आ गए। दादा नरेश ने बताया कि आग लगने के दौरान बच्चे उनके पास नहीं थे। घर पर पता करने आए तो खेत पर ही होने की जानकारी मिली। आग लगने वाली जगह पहुंचकर पुआल बिखराया गया तो तीनों बच्चों के शव उसी में मिले।

खबरें और भी हैं...