ओमिक्रॉन की दहशत के बीच कोविड वैक्सीनेशन ठप:मुरादाबाद में हड़ताल की वजह से 66 स्वास्थ्य केंद्रों पर 30 नवंबर से लटका ताला, बैरंग लौट रहे वैक्सीनेशन कराने पहुंच रहे लोग

मुरादाबाद8 महीने पहले
मुरादाबाद के 66 स्वास्थ्य केंद्रों पर 30 नवंबर से ताला लटका है और कोविड वैक्सीनेशन का काम पूरी तरह से ठप है।

देश में ओमिक्रॉन के 5 केस सामने आ चुके हैं। लोगों में इसकी दहशत बढ़ती जा रही है। इस बीच मुरादाबाद में कोविड वैक्सीनेशन का काम पिछले 6 दिनों से ठप है। जिले के 66 स्वास्थ्य केंद्रों पर 30 नवंबर से ताला लटका है। NHM संविदा कर्मियों की बेमियादी हड़ताल की वजह से मुरादाबाद में स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरह चरमरा चुकी हैं। इमरजेंसी को छोड़ सभी स्वास्थ्य सेवाएं बंद हैं। जिले में चल रहा कोविड वैक्सीनेशन का काम पूरी तरह से रुक गया है। वैक्सीनेशन सेंटरों पर पहुंच रहे लोग बैरंग लौट रहे हैं।

कर्मचारी बोले- मांगे पूरी होने तक चलेगी हड़ताल
स्वास्थ्य केंद्रों पर लटके ताले जल्द खुलने की उम्मीद भी नहीं है। NHM संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के जिला महामंत्री विपिन भट्ट का कहना है कि संगठन ने 7 सूत्रीय मांगों को पूरा करने के लिए बेमियादी हड़ताल की है। मांगे पूरी होने तक हड़ताल जारी रहेगी। विपिन ने कहा कि सोमवार को लखनऊ में अपर मुख्य सचिव से वार्ता होनी है। यदि वार्ता में मांगे नहीं मानी गईं तो इमरजेंसी सेवाएं भी ठप कर दी जाएंगी।

मुरादाबाद में CMO कार्यालय पर धरना देकर बैठे NHM संविदा स्वास्थ्य कर्मी।
मुरादाबाद में CMO कार्यालय पर धरना देकर बैठे NHM संविदा स्वास्थ्य कर्मी।

नर्स से लेकर डॉक्टर तक 1100 स्वास्थ्य कर्मी हड़ताल पर
मुरादाबाद में NHM के तहत करीब 1100 संविदा कर्मचारी जिले के 66 स्वास्थ्य केंद्रों पर तैनात हैं। इनमें डॉक्टर, फॉर्मेसिस्ट, स्टाफ नर्स, डाटा एंट्री ऑपरेटर, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी तक सभी शामिल हैं। 30 नवंबर से ये सभी हड़ताल पर हैं। जिसकी वजह से जिले के 7 CHC, 39 एडिशनल CHC और 26 नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं। इनमें से कई जगहों पर चिकित्साधिकारी के पद पर भी संविदा पर तैनात डॉक्टर हैं। मुरादाबाद जिला अस्पताल और जिला महिला अस्पताल में भी बड़ी संख्या में संविदा कर्मी हैं जो हड़ताल पर हैं।

ताला देख बैरंग लौट रहे वैक्सीनेशन को आने वाले
शहर के मझोला नगरीय स्वास्थ्य केंद्र पर स्थानीय निवासी लक्ष्मी ने बताया कि केंद्र पर एक सप्ताह से ताला लटका है। वैक्सीनेशन को लोग आते हैं और ताला देखकर लौट जाते हैं। वैक्सीनेशन को पहुंचे सुनील सक्सेना ने बताया कि 3 दिन से ताला देखकर लौट जाते हैं। नगरीय स्वास्थ्य केंद्र बंगला गांव पर वैक्सीनेशन को पहुंचे संजीव कुमार ने बताया कि 2 दिन से ताला देख लौट जाते हैं।

खबरें और भी हैं...