पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

संभल में भाकियू अराजनैतिक असली का धरना प्रदर्शन:दैनिक भास्कर ग्रुप व एक टीवी चैनल पर हुई ईडी की छापेमारी का हुआ विरोध, किसान नेता बोले- मीडिया की आवाज दबाने की हो रही कोशिश

संभल10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
संभल में दैनिक भास्कर के दफ्तरों पर पड़ी ईडी के छापे के विरोध में भाकियू अराजनैतिक असली ने दिया धरना। - Dainik Bhaskar
संभल में दैनिक भास्कर के दफ्तरों पर पड़ी ईडी के छापे के विरोध में भाकियू अराजनैतिक असली ने दिया धरना।

दैनिक भास्कर ग्रुप के अलग-अलग कई दफ्तरों व यूपी के एक टीवी चैनल के दफ्तर में इन्कम टैक्स ने छापेमारी की है। जिसका देश भर के अलग-अलग हिस्सों में लोग व पार्टियां विरोध कर रही है। लोगों का कहना है कि मौजूदा सरकार मीडिया की आवाज को दबाने की कोशिश कर रहा है। क्योंकि दैनिक भास्कर किसानों की आवाज उठाता आया है, कोरोना काल में व्यवस्थाओं का सच सबके सामने रख दिया। इसीलिए यह छापेमारी की गई है। इस छापेमारी का विरोध करने के लिए भाकियू अराजनैतिक असली ने धरना प्रदर्शन किया।

बस स्टैंड पर हुआ प्रदर्शन
मामला थाना धनारी क्षेत्र के कस्बा बस स्टैंड धनारी का है। जहां गुरूवार को भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक असली के पदाधिकारियों ने धरना दिया। दरअसल, दैनिक भास्कर समूह के कई दफ्तरों पर ईडी समेत कई एजेंसियों ने छापेमारी की। जिससे लोगों में नाराजगी है। इसीलिए किसान नेताओं ने प्रदर्शन शुरू कर दिया। उनका कहना है कि दैनिक भास्कर ने निष्पक्ष पत्रकारिता की है। फिर चाहे वह कोरोना काल में लाशों के सही आकड़े दिखाने की बात हो, या फिर किसानों की बात को सामने रखनी की। भास्कर ग्रुप ने हमेशा ही सत्य का समर्थन किया है। लोगों का कहना है कि इसीलिए यह छापेमारी की कार्रवाई की गई है।

राष्ट्रीय प्रमुख सचिव बोले- मीडिया की आवाज दबाना गलत है
यूनियन के राष्ट्रीय प्रमुख सचिव ऋषिपालसिंह यादव ने कहा कि दैनिक भास्कर देश व प्रदेश में हो रही घटनाओं और आम जनमानस की आवाज को उठा रहा है। इसीलिए सरकार की आंखों की किरकिरी बन चुका है। मीडिया की आवाज को दबाने के लिए सरकार ने ईडी व अन्य संस्थाओं के छापे पड़वाए है जो कि लोकतंत्र की हत्या है। लोकतांत्रिक व्यवस्था में मीडिया चौथा स्तंभ है ।

खबरें और भी हैं...