मुरादाबाद...दिल्ली और हरिद्वार हाईवे पर किसानों का प्रदर्शन:2 घंटे हाईवे पर लगी रही वाहनों की कतारें, दलपतपुर में रोडवेज बस में तोड़फोड़ की कोशिश

मुरादाबाद8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कृषि कानूनों के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा के भारत बंद के आह्वान पर सोमवार को किसानों ने मुरादाबाद में हाईवे को 3 घंटे जाम रखा। - Dainik Bhaskar
कृषि कानूनों के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा के भारत बंद के आह्वान पर सोमवार को किसानों ने मुरादाबाद में हाईवे को 3 घंटे जाम रखा।

संयुक्त किसान मोर्चा के भारत बंद के आह्वान पर किसानों ने सोमवार को 2 स्थानों पर हाईवे जाम किया। किसानों का एक धड़ा लखनऊ - दिल्ली नेशनल हाईवे पर टोल प्लाजा पर धरना देकर बैठ गया। जबकि दूसरे धड़े ने छजलैट में हरिद्वार हाईवे जाम कर दिया।

करीब 3 घंटे तक किसान दोनों स्थानों पर हाईवे पर डटे रहे। इस दौरान दलपतपुर में एक रोडवेज बस में कुछ प्रदर्शनकारियों ने तोड़फोड़ की कोशिश की। हालांकि पुलिस और किसान नेताओं ने स्थिति बिगड़ने से पहले संभाल ली। छजलैट में भी छिटपुट बातों को छोड़कर किसानों का धरना प्रदर्शन और जाम का कार्यक्रम शांतिपूर्ण रहा। इस दौरान दोनों स्थानों पर दूर तक वाहनों की कतारें लगी रहीं।

दलपतपुर में जाम के दौरान एक रोडवेज बस में तोड़फोड़ की कोशिश की गई।
दलपतपुर में जाम के दौरान एक रोडवेज बस में तोड़फोड़ की कोशिश की गई।
पुलिस और किसान नेताओं ने किसी तरह आक्रोशित लोगों को रोका।
पुलिस और किसान नेताओं ने किसी तरह आक्रोशित लोगों को रोका।

दलपतपुर टोल प्लाजा पर बैठे किसान, दूर तक जाम

मुरादाबाद में किसानों ने दिल्ली - लखनऊ हाईवे पर दलपतपुर टोल प्लाजा पर जाम लगा दिया। किसान दोपहर करीब 12 बजे यहां धरना देकर बैठे और 3 बजे तक यहां धरना प्रदर्शन चलता रहा। इस दौरान एंबुलेंस और स्कूली वाहनों के अलावा किसी को भी निकलने की परमिशन नहीं थी। पुलिस ने किसानों को समझाने की कोशिश की लेकिन वह 3 घंटे तक हाईवे पर डटे रहे। इस दौरान किसान नेता रणवीर आदि ने केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

रेलवे स्टेशन पर सुबह से ही सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त रहे।
रेलवे स्टेशन पर सुबह से ही सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त रहे।

कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग

छजलैट में हरिद्वार हाईवे पर जाम लगाकर बैठे किसानों ने भी केंद्र सरकार को जमकर काेसा। किसान नेताओं ने केंद्र सरकार से कृषि कानूनों को तुरंत रद्द करने की मांग की है। यहां किसान नेता डॉ. नौ सिंह और ऋषिपाल सिंह ने कहा कि किसानों की आय दोगुना करने का दावा करने वाली मोदी सरकार ने किसानों को भुखमरी के कगार पर ला खड़ा किया है।

किसानों को रेल ट्रैक पर आने से रोकने के लिए पुलिस सुबह से ही मुस्तैद थी।
किसानों को रेल ट्रैक पर आने से रोकने के लिए पुलिस सुबह से ही मुस्तैद थी।

रेलवे स्टेशन पर रही कड़ी चौकसी

किसान नेताओं द्वारा ट्रैक पर आने की आशंका में रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त रहे। सुबह से ही मुरादाबाद स्टेशन पर भारी तादाद में फोर्स तैनात किया गया था। स्टेशन के बाहर और सभी प्लेटफार्म पर भारी फोर्स तैनात की गई थी। स्टेशन के आउटर के इलाकों पर भी पुलिस तैनात की गई थी। जिन स्थानों पर धरना प्रदर्शन हो रहे थे, उनके नजदीकी रेलवे स्टेशनों पर भी पुलिस तैनात की गई थी।

खबरें और भी हैं...