पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रामपुर में ब्लास्ट के साथ लगी भीषण आग:मिस्टनगंज घनी आबादी वाले इलाके में घटना; घर में रखे थे केरोसिन से भरे 15 ड्रम, CFO ने कहा- पेट्रोल बनाता था मकान मालिक , गैस सिलेंडर भी फटे

रामपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आग लगने से पूरे इलाके में अफरातफरी का माहौल है। अभी तक आग में किसी के हताहत होने की जानकारी नहीं है। - Dainik Bhaskar
आग लगने से पूरे इलाके में अफरातफरी का माहौल है। अभी तक आग में किसी के हताहत होने की जानकारी नहीं है।

रामपुर शहर में कोतवाली क्षेत्र में मिस्टनगंज मंडी इलाके में शनिवार दोपहर एक घर में भीषण आग लग गई। घर में केरोसिन से भरे 15 ड्रम और कई गैस सिलेंडर थे। जो तेज धमाके के साथ फट गए। भीषण आग से इलाके में अफरातफरी मच गई। गनीतम रही कि कोई जनहानि नहीं हुई

घटना शाम को करीब 5:30 बजे चौकी हजयानी से महज 100 मीटर की दूरी पर हुई। करीब डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद फायर ब्रिगेड की तीन गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। इस दौरान पूरे इलाके में सहमे रहे। पुलिस आग के कारणों का पता लगाने के लिए मकान मालिक से पूछताछ कर रही है।

मकान मालिक केरोसिन से पेट्रोल बनाता था: CFO

घटनास्थल पर पहुंचे रामपुर के CFO अंकुश मित्तल ने बताया कि जिस घर में आग लगी वह मोहिसन का है। उन्होंने बताया कि शुरुआती छानबीन में पता चला है कि मकान मालिक अवैध रूप से केरोसिन से पेट्रोल बनाता था। इसलिए बडे़ पैमाने पर घर में केरोसिन था। CFO ने बताया कि आसपास जानकारी करने पर पता चला है कि शुक्रवार रात को ही केरोसिन के 15 ड्रम इस घर में उतरे थे। इसके अलावा बड़े पैमाने पर यहां गैस के सिलेंडर थे। आग लगी तो पहले गैस सिलेंडर फटे। इसके बाद केरोसिन के ड्रमों में आग लग गई। जिससे आग बेकाबू हो गई। CFO ने बताया कि आग को आसपास के घरों में फैलने से पहले ही काबू कर लिया गया। इसके लिए फायर ब्रिगेड की तीन गाड़ियों का इस्तेमाल किया गया।

पुलिस चौकी के बगल में चल रहा था अवैध तेल का खेल

जिस घर में आग लगी वह पुलिस चौकी से महज 100 मीटर की दूरी पर है। घटना के बाद लोगों ने पुलिस और फायर ब्रिगेड को जानकारी दी है कि यहां अवैध रूप से पेट्रोल बनाया जाता था। लेकिन हैरत की बात है कि पुलिस ने अभी तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की थी।

इससे पुलिस की भूमिका पर भी सवाल उठ रहे हैं। सवाल यह भी है गरीबों में बंटने केे लिए आने वाला केरोसिन आखिर यहां कैसे स्टोर हो रहा था।