पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Moradabad
  • First Said Moradabad SP Railway Aparna Gupta Does Not Do Any Work Without Bribe, Said After Two Days, She Is Honest, Madam, Did A Lot Of Work For Police Welfare

IPS की हनक, भ्रष्टाचार की शिकायत कर पलटी एसोसिएशन:पहले कहा- बगैर घूस कोई काम नहीं करतीं मुरादाबाद की SP रेलवे अपर्णा गुप्ता, दो दिन बाद बोले, ईमानदार हैं मैडम, पुलिस वेलफेयर के बहुत काम किए

मुरादाबाद2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मुरादाबाद की SP रेलवे अपर्णा गुप्ता पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं। हालांकि आरोप लगाने वाली पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन 2 दिन के भीतर ही मुकर गई है। - Dainik Bhaskar
मुरादाबाद की SP रेलवे अपर्णा गुप्ता पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं। हालांकि आरोप लगाने वाली पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन 2 दिन के भीतर ही मुकर गई है।

2015 बैच की IPS अपर्णा गुप्ता फिर से सुर्खियों में हैं। इस बार उन पर पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन ने भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं। हालांकि 2 दिन के भीतर ही एसोसिएशन अपने आरोपों से मुकर गई है।

मुरादाबाद की SP रेल पर लगे इन आरोपों से महकमे में खलबली है। GRP के साथ ही पूरी IPS लॉबी में भी इसकी चर्चा है। वहीं, IPS अपर्णा गुप्ता का कहना है कि उन्होंने तो सालों से जमे भ्रष्टाचार की जड़ों पर वार किया है। बोलीं, एसोसिएशन ने खुद छानबीन की होगी और सच पता चलने पर खंडन जारी किया होगा।

एसोसिएशन ने पहले क्या कहा-

पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन की ओर से पहले लिखा गया पत्र।
पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन की ओर से पहले लिखा गया पत्र।

अपराजपत्रित पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष बृजेंद्र सिंह यादव ने 18 जुलाई को एक पत्र मुख्यमंत्री को भेजा। इसमें कहा, - 'SP अपर्णा गुप्ता ने सिपाहियों का जीना हराम कर रखा है। हर काम के लिए वह पुलिस वालों से अवैध वसूली करती हैं। सिपाहियों को पोस्टिंग देने की एवज में प्रति सिपाही 75 हजार रुपये वसूले हैं। जो नहीं दे सके उनकी उल्टी सीधी पोस्टिंग कर दी।' आरोप लगाया, 'मैडम ने साफ कह रखा है कि मुझे तो पैसा चाहिए, कैसे भी लाओ। TA-DA के बिल पास नहीं करती। इसकी एवज में 20 हजार रुपये वसूले जाते हैं। ट्रेन में छोटी से छोटी घटना होने पर दंडात्मक कार्रवाई और PE शुरू करने का डर दिखाकर वसूली की जाती है।' एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री से मामले में जांच कराने की मांग की थी।

दो दिन में मुकरी एसोसिएशन ने गढ़े शान में कसीदे

एसोसिएशन ने 2 दिन बाद कहा, कर्मचारी ही कर रहे SP के नाम पर भ्रष्टाचार।
एसोसिएशन ने 2 दिन बाद कहा, कर्मचारी ही कर रहे SP के नाम पर भ्रष्टाचार।

एसाेसिएशन के अध्यक्ष बृजेंद्र सिंह ने दूसरा लेटर 21 जुलाई को जारी किया। इसमें कहा, 'SP GRP अपर्णा गुप्ता के नाम को बदनाम करने की साजिश रची गई थी। कहा,- 'कुछ कर्मचारियों द्वारा एसोसिएशन के संज्ञान में गलत तथ्य लाए गए। जिसके चलते SP रेलवे अपर्णा गुप्ता की शिकायत कर दी गई थी।'

कहा- 'एसोसिएशन ने जांच कराई तो पता चला कि IPS अपर्णा गुप्ता ने कर्मचारियों के हित में पुलिस लाइन GRP में बहुत सारे कार्य कराए गए हैं। लंबे समय से व्याप्त भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाया गया है।'

एसोसिएशन ने कहा- IPS अपर्णा गुप्ता ईमानदार छवि की अधिकारी हैं। उन्होंने काफी समय से जमे कर्मचारियों को हटाया है। कर्मचारियों के टूटे फूटे आवास दुरुस्त कराए हैं। कर्मचारियों के लिए भोजनालय बनवाया है। क्लीन चिट देते हुए कहा कि मैडम ने जो भी तबादले किए हैं वो नियमानुसार थानाध्यक्षों की लिखित डिमांड पर किए हैं। इसलिए एसोसिएशन उन पर लगे आरोपों का खंडन करती है। उल्टा एसोसिएशन ने मांग कर दी है कि मुरादाबाद GRP के कर्मचारियों की जांच हो। जो भी मैडम के नाम पर वसूली में लिप्त पाया जाए उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए।

एसोसिएशन का 21 जुलाई को लिखा गया दूसरा लेटर।
एसोसिएशन का 21 जुलाई को लिखा गया दूसरा लेटर।

मैंने कड़े एक्शन लिए, पता था ऐसे आरोप लगेंगे: अपर्णा

SP रेलवे अपर्णा गुप्ता का कहना है कि उन्होंने कई साल से पसरे भ्रष्टाचार को खत्म किया है। इसके लिए कई कठोर कदम उठाए। शायद इसी से खिन्न होकर किसी ने झूठे और मनगढ़ंत आरोप लगाए हैं। अपर्णा कहती हैं, 'मुझे पता था इस तरह की कठोर कार्रवाइ्यां करने पर ऐसे आरोप तो मुझ पर लगने ही थे।'

वो कहती हैं, 'मैंने क्राइम रेट को 50 फीसदी गिराया है। यह सख्ती के बगैर संभव नहीं था। उनका कहना है कि उन्हें सोशल मीडिया से पता चला है कि एसोसिएशन ने शिकायत की और फिर खुद खंडन किया है। बोलीं, 'एसोसिएशन ने खुद तहकीकात की होगी और सच पता लगने पर खंडन किया होगा। उनके द्वारा किए गए पुलिस वेलफेयर के काम भी एसोसिएशन को पता चले होंगे।

स्टेनो को हटाया, SP पर लगे आरोपों की जांच CO करेंगे

SP रेलवे अपर्णा गुप्ता का कहना है कि उन्होंने पहले से चले आ रहे भ्रष्टाचार की शिकायतें मिलने पर कई कर्मचारियों को हटाया है। लाइन में तैनात तीन कर्मी हाल ही में ट्रांसफर किए गए हैं। स्टेनो हितेंद्र को भी उनकी रिपोर्ट पर हटा दिया गया है।

भ्रष्टाचार में स्टेनो की भूमिका थी या नहीं इसकी जांच हो रही है। SP रेलवे का कहना है कि, एक लेटर पब्लिक प्लेटफार्म पर आया है तो उसकी जांच होना जरूरी है। इसलिए उन्होंने मामले की जांच के आदेश CO GRP मुरादाबाद को दिए हैं।

मैडम ईमानदार, इसलिए वापस लिए आरोप: बृजेंद्र

पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष बृजेंद्र सिंह यादव का कहना है कि अपर्णा गुप्ता ईमानदार अधिकारी हैं। कुछ कर्मचारियों ने झूठ बोलकर उनसे पत्र जारी करा लिया था। सच पता चलने पर उन्होंने खंडन कर दिया।

कानपुर में निलंबित हुई थीं अपर्णा
कानुपर के चर्चित संजीत अपहरण व हत्याकांड में अपर्णा गुप्ता को सस्पेंड कर दिया गया था। वह कानपुर में एसपी साउथ थीं। शासन ने 24 जुलाई 2020 को अपर्णा समेत 11 पुलिस वालों को इस मामले में निलंबित किया था।

खबरें और भी हैं...