पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Moradabad
  • He Breathed His Last At Three O'clock In The Hospital Of Meerut, Was A RSS Pracharak, Had Also Contested The Election Of MP From BJP, Played A Big Role In The Establishment Of Saraswati Shishu Mandir Schools.

श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन के सूत्रधार रहे दिनेश त्यागी का निधन:1982 में मुरादाबाद से छेड़ा था राम जन्म भूमि मुक्ति आंदोलन का बिगुल; RSS में कई अहम पदों पर रहे, BJP से MP का चुनाव भी लड़े थे

मुरादाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्री राम जन्म भूमि आंदोलन के प्रणेता रहे दिनेश चंद्र त्यागी का शुक्रवार को मेरठ के अस्पताल में निधन हो गया। - Dainik Bhaskar
श्री राम जन्म भूमि आंदोलन के प्रणेता रहे दिनेश चंद्र त्यागी का शुक्रवार को मेरठ के अस्पताल में निधन हो गया।

श्री राम जन्म भूमि मुक्ति आंदोलन के प्रणेता रहे RSS के वयोवृद्ध नेता दिनेश चंद्र त्यागी का शुक्रवार को निधन हो गया। दोपहर करीब 3:30 बजे मेरठ मेडिकल कालेज में उन्होंने अंतिम सांस ली। वह करीब 78 वर्ष के थे। तबियत बिगड़ने पर उन्हें 20 दिन पहले मुरादाबाद के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 22 जुलाई को ही उन्हें मेरठ रेफर किया गया था।

दिनेश त्यागी के भतीजे सिद्धार्थ बताते हैं, उन्हें किडनी की दिक्कत थी। 30 जून को तबियत बिगड़ने पर उन्हें एशियन विवेकांनद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। थोड़ा आराम होने पर वह अस्पताल से लौट आए थे। 17 जुलाई को उन्हें फिर से जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। तबियत ज्यादा बिगड़ने पर उन्हें 22 जुलाई को मेरठ मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर किया गया था। जहां शुक्रवार को दोपहर 3:30 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली।

मुरादाबाद से डाली श्री राम जन्म भूमि मुक्ति आंदोलन की बुनियाद

मुरादबाद को कर्मभूमि बनाने वाले दिनेश चंद्र त्यागी का जन्म 13 अगस्त 1943 को अमरोहा जनपद (तब मुरादाबाद ही) की धनौरा तहसील के गांव पेली कपसुआ उर्फ पेली तगा में हुआ था। RSS के विभागीय प्रचारक और हिंदू जागरण मंच के लिए कार्य करते हुए उन्होंने 1982 में मुरादाबाद में बड़ा हिंदू सम्मेलन किया था। इसी सम्मेलन में उन्होंने तत्कालीन कैबिनेट मंत्री दाऊ दयाल खन्ना के साथ मिलकर श्री राम जन्म भूमि को मुक्त कराने का मुद्दा उठाया था।

1982 में मुरादाबाद में टाउन हाल के पास बजरंग बली मंदिर में यह हिंदू सम्मेलन हुआ था। इस सम्मेलन में श्री राम जन्म भूमि मुक्ति आंदोलन का प्रस्ताव पास हुआ था। इसके बाद तत्कालीन कैबिनेट मंत्री और कांग्रेसी नेता दाऊ दयाल खन्ना ने अयोध्या में राममंदिर निर्मााण के लिए सरकार को चिट्ठी भी लिखी थी।

इसके बाद 1983 में मुफ्फरनगर में दिनेश त्यागी ने एक बड़ा हिंदू सम्मेलन आयोजित किया। यहां बड़ी संख्या में लोग पहुंचे थे और राम जन्म भूमि को मुक्त कराने के लिए सभी ने हामी भरी थी। इसके ठीक बाद दिल्ली में हुए हिंदू सम्मेलन में बाकादा इसका प्रस्ताव पास कराकर दिनेश त्यागी ने राम मंदिर मुद्दे को राष्ट्रीय मुद्दा बना दिया था। आंदोलन के शुरुआती दौर में बनी श्री राम जन्म भूमि मुक्ति यज्ञ समिति के वह संयुक्त सचिव भी रहे।

दिनेश त्यागी का सफरनामा एक नजर में

  • RSS में मुरादाबाद के जिला प्रचारक और बाद में मेरठ व मुरादाबाद विभाग के विभाग प्रचारक रहे।
  • राष्ट्रीय शिक्षा नीति के निदेशक रहे। करीब 150 सरस्वती शिशु मंदिर स्कूलों के निर्माण में भूमिका रही।
  • हिंदू महासभा के 11 वर्षों तक राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे।
  • विश्व हिंदू महासंघ के अंतर्राष्ट्रीय सचिव रहे।
  • 1984 में मुरादाबाद से BJP के टिकट पर MP का चुनाव लड़ा। कांग्रेस के हाफिज मोहम्मद सिद्दीक से हार गए।
  • वर्तमान में राष्ट्रीय शिक्षा समिति के निदेशक और सांस्कृतिक गौरव संस्थान के राष्ट्रीय महामंत्री थे।

अन्य

  • मुरादाबाद में 1980 में पंडित शंभु दुबे सरस्वती शिशु मंदिर की स्थापना की।
  • दो पुस्तकें लिखीं - 'हिंदू समाज के तथ्य व रहस्य' भाग 1 और भाग 2

24 जुलाई को मोक्षधाम पर होगा अंतिम संस्कार

RSS के पर्यावरण नगर प्रमुख विपिन गुप्ता ने बताया कि 24 जुलाई को सुबह 10 बजे मोक्षधाम पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। उनके पार्थिव शरीर को देर शाम मेरठ से मुरादाबाद लाया गया है। अंतिम दर्शनों के लिए उनके शव को सिविल लाइंस स्थित पंडित शंभुनाथ सरस्वती शिशु मंदिर में रखा गया है।

दिनेश त्यागी इसी स्कूल में रहते थे। वह संघ के पूर्ण कालिक प्रचारक थे और उन्होंने शादी नहीं की थी। मुरादाबाद के अलावा वह विश्च हिंदू परिषद के दिल्ली आरके पुरम स्थित मुख्य कार्यालय पर भी प्रवास करते थे।

खबरें और भी हैं...