लखीमपुर जाते हुए रामपुर में बोले राकेश टिकैत:सरकारी गुंडागर्दी देखनी है तो UP में आकर देखो, कहा- इस्तीफा दें CM योगी और गृह राज्य मंत्री, UP में लगे गवर्नर रूल

मुरादाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लखीमपुर खीरी जाते समय रामपुर में रुके किसान नेता राकेश टिकैत ने उत्तर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग की है। - Dainik Bhaskar
लखीमपुर खीरी जाते समय रामपुर में रुके किसान नेता राकेश टिकैत ने उत्तर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग की है।

लखीमपुर खीरी में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष मिश्र ने प्रदर्शन कर रहे किसानों पर कथित तौर पर गाड़ी चढ़ा दी। इस घटना में 8 लोगों की मौत हुई है। किसान नेता राकेश टिकैत लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हो चुके हैं। लखीमपुर जाते हुए रामपुर में रुके टिकैत ने UP में गवर्नर रूल लागू करने की मांग की है।

रविवार रात करीब 9 बजे रामपुर पहुंचे राकेश टिकैत ने गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस्तीफा मांगा है। टिकैत ने कहा कि लखीमपुर खीरी में जो हुआ वह सरकारी गुंडागर्दी का उदाहरण है। बोले - आज आपको कहीं सरकारी गुंडागर्दी देखनी है तो UP में आकर देखिए।

गृहराज्य मंत्री और उनके बेटे पर हो मुकदमा

BKU प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि पूरी घटना को देश के गृह राज्यमंत्री और उनके बेटे ने मिलकर अंजाम दिया है। टिकैत बोले - किसानों ने हेलीपैड पर कब्जा कर लिया था। गृह राज्यमंत्री को काले झंडे दिखाए थे। टिकैत ने कहा कि इसके बाद मंत्री का बेटा गाड़ियों में गुंडे लेकर पहुंचा और किसानों पर गोली चलवाई व गाड़ी चढ़ा दी। मामले में सरकार को तुरंत मंत्री और उनके बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज करना चाहिए। गृह राज्यमंत्री को तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए। टिकैत बोले यूपी के सीएम से भी BKU इस्तीफे की डिमांड करता है।

ये चाइना नहीं है कि विरोध पर ट्रक चढ़ा देंगे

राकेश टिकैत बोले UP में गुंडागर्दी की हद हो गई है। यहां तो गवर्नर रूल लगना चाहिए। हमारा विरोध सरकार से है। किसानों ने काले झंडे दिखाए। लेकिन काले झंडे दिखाने का ये मतलब नहीं है कि आप गाड़ी चढ़ा देंगे। टिकैत बोले- ये चाइना नहीं है कि विरोध करने पर बुलडोजर और ट्रक लोगों पर चढ़वा देंगे। टिकैत ने कहा कि वह मौके पर जा रहे हैं और रणनीति बनाएंगे। बोले - कुल 8 लोगों की मौत हुई है। जिनमें से चार की मौत गाड़ी पलटने हुई है। मरने वालों में बाकी चार किसान हैं, जिन्हें कुचलकर मारा गया है।

ये षडयंत्र है, मंत्री ने पहले ही धमकाया था
राकेश टिकैत ने कहा कि लखीमपुर खीरी की घटना इत्तेफाक नहीं है। बल्कि एक साजिश है। बोले- अजय मिश्र ने मंत्री बनते ही धमकाया था कि किसानों काे देख लूंगा। इसलिए इस षडयंत्र की सही से जांच होकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

मुझ पर पथराव हाे सकता है

रामपुर से लखीमपुर खीरी को रवाना होते समय टिकैत ने अपने ऊपर हमले की आशंका जाहिर की है। टिकैत बोले - मुझसे पुलिस वालों ने मना किया है कि आप लखीमपुर खीरी नहीं जाएं। रास्ते में पथराव हो सकता है। किसान नेता ने कहा कि BJP के लोग पथराव करा सकते हैं। लेकिन वह मौके पर जरूर जाएंगे। टिकैत ने यह भी कहा कि किसान आंदोलन को भटकाने के लिए ब्राहम्मण और सिखों में झगड़ा कराने की साजिश रची जा रही है।

खबरें और भी हैं...