• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Moradabad
  • In Nawabpura, Houses Were Built Within A Radius Of 74 Meters Of The Ramganga River, When The Bulldozer Started, SP MLA Ikram Reached To Stop, The Team Said Talk To The Commissioner.

मुरादाबाद में अवैध निर्माणों पर गरजा बुलडोजर:नवाबपुरा में रामगंगा नदी के 74 मीटर के दायरे में बने थे मकान, बुलडोजर चला तो रुकवाने पहुंचे SP विधायक इकराम, टीम ने कहा- कमिश्नर साहब से बात करो

मुरादाबाद4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुरादाबाद में जिगर कालोनी से लेकर जामा मस्जिद तक रामगंगा नदी में 74 मीटर की सीमा में बने 4000 मकानों को तोड़ा जाएगा। - Dainik Bhaskar
मुरादाबाद में जिगर कालोनी से लेकर जामा मस्जिद तक रामगंगा नदी में 74 मीटर की सीमा में बने 4000 मकानों को तोड़ा जाएगा।

मुरादाबाद में रामगंगा नदी में बनी अवैध बिल्डिंगों पर मंगलवार को फिर से बुलडोजर गरजा। नवाबपुरा इलाके में रामगंगा नदी में बने करीब 50 अवैध निर्माणों को ध्वस्त कर दिया गया। अवैध निर्माणों पर बुलडोजर चलने की सूचना पर समाजवादी पार्टी (SP) के विधायक हाजी इकराम मौके पर पहुंचे। सपा विधायक ने ध्वस्तीकरण रोकने की मांग की। लेकिन टीम ने कमिश्नर के आदेश का हवाला देकर ध्वस्तीकरण अभियान को रोकने से इंकार कर दिया। इससे पहले प्रशासन, एमडीए, सिंचाई विभाग और नगर निगम की संयुक्त टीम चक्कर की मिलक और बरबलान में रामगंगा में बने अवैध निर्माणों को तोड़ चुकी है।

मुरादाबाद में नवाबपुरा में अवैध निर्माणों पर चला बुलडोजर।
मुरादाबाद में नवाबपुरा में अवैध निर्माणों पर चला बुलडोजर।

74 मीटर के दायरे में प्रतिबंधित है निर्माण

रामगंगा नदी के किनारे 74 मीटर की सीमा तक किसी भी प्रकार का निर्माण प्रतिबंधित है। लेकिन इसके बावजूद सिंचाई विभाग, पॉल्यूशन कंट्रोल डिपार्टमेंट, एमडीए और नगर निगम के अभियंताओं की मिलीभगत से जिगर कालोनी से लेकर जामा मस्जिद तक रामगंगा में तमाम अवैध निर्माण हो चुके हैं। रामगंगा के किनारे 74 मीटर तक की भूमि तटबंध के आरक्षित है। अवैध निर्माणों की वजह से तटबंध का प्रोजेक्ट भी अधर में लटक गया है।

नवाबपुरा में अवैध निर्माणों को ध्वस्त करने के दौरान सिटी मजिस्ट्रेट और पुलिस टीम मौजूद रही।
नवाबपुरा में अवैध निर्माणों को ध्वस्त करने के दौरान सिटी मजिस्ट्रेट और पुलिस टीम मौजूद रही।

सिटी मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में चला अभियान

सिटी मजिस्ट्रेट MP सिंह के नेतृत्व में मंगलवार को दोपहर करीब 12 बजे ध्वस्तीकरण अभियान शुरू हुआ। यह अभियान शाम को करीब साढ़े चार बजे तक चला। टीम के साथ भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद रहा। कुछ लोगों ने विरोध भी किया, लेकिन पुलिस की मौजूदगी की वजह से लोग अभियान को नहीं रोक पाए।

रामगंगा में 74 मीटर के दायरे में बने सभी निर्माणों को तोड़ा जा रहा है।
रामगंगा में 74 मीटर के दायरे में बने सभी निर्माणों को तोड़ा जा रहा है।

MLA इकराम को बैरंग लौटना पड़ा

अवैध निर्माणों पर चलता बुलडोजर रुकवाने के लिए मुरादाबाद देहात सीट से सपा के विधायक हाजी इकराम कुरैशी भी मौके पर पहुंचे। नवाबपुरा पहुंचकर उन्होंने टीम से अभियान रोकने को कहा। लेकिन अधिकारियों ने विधायक से कहा कि अभियान मंडलायुक्त आन्जनेय कुमार सिंह के आदेश पर चल रहा है। सिर्फ कमिश्नर के आदेश पर ही इसे रोका जा सकता है। अधिकारियों ने कहा कि विधायक को अभियान रुकवाना है तो उन्हें कमिश्नर से बात करनी होगी। इसके बाद हाजी इकराम बैरंग लौट गए।

रामगंगा नदी के किनारे की 74 मीटर तक की भूमि तटबंध के लिए रिजर्व है।
रामगंगा नदी के किनारे की 74 मीटर तक की भूमि तटबंध के लिए रिजर्व है।

सपा सांसद भी उतरे थे विरोध में

जामा मस्जिद इलाके में बरबलान में कुछ दिन पहले टीम ने रामगंगा में बने अवैध मकान और बारातघर को तोड़ा था। उस समय मुरादाबाद के समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. एसटी हसन विरोध में उतरे थे। सांसद ने डीएम से मुलाकात कर कहा था कि प्रशासन गरीबों के घर उजाड़ रहा है, जिसे तुरंत रोका जाए। उस समय अभियान को कुछ समय के लिए रोक दिया गया था। मंगलवार को फिर से अभियान शुरू किया गया है।

गरीबों के घर तोड़े, इंजीनियरों पर एक्शन क्यों नहीं

रामगंगा नदी में बने अवैध मकान, दुकान और फैक्ट्रियों पर बुलडोजर चल रहा है। चक्कर की मिलक, बरबलान और नवाबपुरा को मिलाकर प्रशासन अभी तक करीब 200 अवैध मकानों को ध्वस्त कर चुका है। ऐसे में यह सवाल भी उठ रहा है कि प्रशासन ने गरीबों के मकान तो तोड़ दिए। लेकिन सिंचाई विभाग, एमडीए और पॉल्यूशन कंट्रोल डिर्पाटमेंट के जिन अधिकारियों की मिलीभगत से यह अवैध निर्माण हुए, उन पर कोई एक्शन नहीं हुआ।

समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. एसटी हसन और विधायक हाजी इकराम ने इस अभियान का विरोध किया है।
समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. एसटी हसन और विधायक हाजी इकराम ने इस अभियान का विरोध किया है।

जिगर कालोनी से जामा मस्जिद तक 4000 मकान टूटेंगे

जिगर कालोनी से लेकर जामा मस्जिद तक रामगंगा नदी में बने 4000 मकान तोड़े जाएंगे। कमिश्नर आन्जनेय कुमार सिंह के आदेश पर गठित संयुक्त टीम ने 74 मीटर के दायरे में हुए इन अवैध निर्माणों को चिन्हित किया है।

खबरें और भी हैं...