पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Moradabad
  • Irrigation Department Removed Pantoon Bridge On Ramganga Feeder Canal Due To Increase In Water, Villagers Forced To Travel 400 Meters In Water With The Help Of Rope

अमरोहा... उफान पर नहर, दांव पर जिंदगी:सिंचाई विभाग ने रामगंगा नहर से हटाया पांटून पुल, जान जोखिम में डालकर एक नाव पर 50 से अधिक लोग कर रहे सफर

मुरादाबाद/अमरोहा2 महीने पहले

उत्तर प्रदेश में अमरोहा के 10 गांवों के लोगों इन दिनों अपनी जिंदगी दांव पर लगाकर सफर करने को मजबूर हैं। यहां बारिश के चलते ​​​​​​रामगंगा पोषक नहर में इन दिनों बाढ़ जैसे हालात हैं। पानी के तेज बहाव में बह जाने के डर से सिंचाई विभाग ने नहर पर ग्रामीणों के आने जाने के लिए बना पांटून पुल हटा लिया है। इसकी वजह से लोग अब एक रस्से और जुगाड़ की नाव के सहारे पानी में 400 मीटर का सफर कर रहे हैं।

गजरौला से करीब 9 किमी की दूरी पर चकनवाला गांव है। यहां रामगंगा पोषक नहर पर सिंचाई विभाग द्वारा पांटून पुल बनाया गया था। ताकि खादर में स्थित गांवों के लोग आसानी से आ-जा सकें। लेकिन बारिश के बाद नहर में पानी बढ़ा तो इस पुल को हटा लिया गया। ऐसे में ग्रामीणों ने खुद इस नहर को पार करने का जुगाड़ किया है। नहर के दोनों छोर को जोड़ते हुए 400 मीटर लंबा रस्सा बांधा गया है।

बहाव तेज, रस्से के सहारे चलती है नाव

पानी में खतरे से भरा सफर तय करते लोग।
पानी में खतरे से भरा सफर तय करते लोग।

रामगंगा पोषक नहर में बाढ़ की स्थिति है। तेज बहाव की वजह से नाव चल पाना मुश्किल है। इसलिए यहां ग्रामीणों ने रस्सा बांधा है। इसी के सहारे नाव एक छोर से दूसरे छोर तक पहुंचती है। 10 गांवों के लोगों का आवागमन एक नाव से नहीं हो सकता। इसलिए लकड़ियों को एक साथ बांधकर जुगाड़ की कई नाव भी तैयार की गई हैं। हर छोटे-बड़े काम के लिए लोगों को घरों से निकलते समय इस नहर को पार करना जरूरी है। इसलिए दिन में कई-कई बार लोगों को अपनी जान जोखिम में डालनी पड़ती है।

इन गांवाें के लोग हैं प्रभावित

  • चकनवाला, शीशोंवाली, दारानगर, मंदिर वाली भुड्डी, टिकोवली, रमपुरा, विसालवली, सुल्तानपुर आदि।

बीमार हो या बच्चे, सभी को तय करना है खतरे का सफर

नहर के दूसरी तरफ खादर में बसे 10 गांवों के लिए आने वाले दो महीने बेहद खतरों से भरे हैं। सिंचाई विभाग तब तक यहां दोबारा से पांटून पुल नहीं बनाएगा, जब तक नहर में पानी कम नहीं होता। इस दौरान इन गांवों में चाहे कोई बीमार हो या फिर कोई दूसरी परेशानी हो, सभी को रस्से के सहारे नहर पार करनी है। दाेपहिया वाहन भी इन्हीं जुगाड़ की नावों से इधर से उधर जाते हैं। ग्रामीणों में इसे लेकर बेहद गुस्सा है। वह समस्या से जल्द से जल्द निजात चाहते हैं।

रस्सी के सहारे नाव को पार कराया जा रहा है।
रस्सी के सहारे नाव को पार कराया जा रहा है।

एसडीएम बोले-हालात पर नजर है, पुल निर्माण जल्द होगा

SDM मंडी धनौरा मांगे राम चौहान का कहना है कि सिंचाई विभाग ने बह जाने की आशंका में पांटून पुल को हटाया है। हालात पर प्रशासन की नजर है। नाव की व्यवस्था की जा रही है। स्थानीय लोगों ने भी अपने स्तर से व्यवस्थाएं की हैं। उनका कहना है कि यहां पुल स्वीकृत हाे चुका है। कार्यदायी संस्था इस पर जल्द काम शुरू करने वाली है। आने वाले दिनों में दिक्कत नहीं होगी

नाव पर ही बाइक और ग्रामीण एक साथ नहर को पार कर रहे हैं।
नाव पर ही बाइक और ग्रामीण एक साथ नहर को पार कर रहे हैं।
खबरें और भी हैं...