पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मुरादाबाद SSP आफिस में बेहोश होकर गिरी फरियादी महिला:जेठानी ने की थी तबे से पिटाई, जहर की शीशी लेकर पहुंची SSP आफिस, बोली- जेठानी को जेल भेजो नहीं तो कर लूंगी आत्महत्या

मुरादाबाद19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
SSP आफिस फरियाद लेकर पहुंची महिला बेहोश होकर गिर पड़ी। पुलिस ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया है। - Dainik Bhaskar
SSP आफिस फरियाद लेकर पहुंची महिला बेहोश होकर गिर पड़ी। पुलिस ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया है।

फरियाद लेकर पहुंची एक महिला SSP आफिस में बुधवार को बेहोश होकर गिर पड़ी। आनन फानन में पुलिस ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। महिला के पर्स से जहर की शीशी भी मिली है। महिला पुलिस वालों से कह रही थी कि यदि उसकी जेठानी को जेल नहीं भेजा तो वह जान दे देगी। महिला का अपनी जेठानी से झगड़ा हुआ था।

मामला शहर के कटघर थाना क्षेत्र के मोहल्ला बरबलान का है। यहां रहने वाले राजेश उर्फ गुड्डे की माेबाइल की दुकान है। राजेश का कहना है कि उनके भाई ओमप्रकाश और कमल व इनकी बीवियां श्वेता और गोली उनकी पत्नी यामिनी को तंग करते हैं। आरोप है कि 13 जुलाई की रात यामिनी को उसकी जेठानी गोली ने रोटी बनाने वाला तबा मार दिया। इसी की शिकायत लेकर वह बुधवार सुबह SSP आफिस पहुंची थी।

'मुझे रोज परेशानी करती है जेठानी'

जिला अस्पताल में भर्ती यामिनी ने बताया, 'जेठानी रोज परेशान करती है। कभी खाने के बर्तन हटा देती है तो कभी कमरे में ताला लगा देती है।' बोली, 'ताला लगाकर मुझे बाहर निकाल दिया है। सुबह 8 बजे से SSP आफिस में इंतजार कर रही थी।' यामिनी का कहना है कि अवसाद की वजह से वह बेहोश होकर गिर गई। बोली, 'जेठ - जेठानी रोजाना मानसिक यातनाएं दे रहे हैं।' यामिनी ने कहा कि वह पर्स में जहर की शीशी लेकर गई थी। लेकिन उन्होंने जहर खाया नहीं है। बोलीं, यदि इंसाफ नहीं मिला तो मैं जहर खाकर जान दे दूंगी।

कटघर पुलिस पर नहीं है भरोसा

यामिनी के पति राजेश का कहना है कि पहले भी उनके भाइयों व भाभियों ने उन्हें मारा पीटा था। आरोप लगाया कि उन्हें व उनकी पत्नी को जान से मारने की कोशिश भी की थी। तब उन्होंने कटघर थाने में जाकर शिकायत की थी। लेकिन कटघर पुलिस ने उल्टा उन्हें ही डांटकर घर भेज दिया था।

SSP की गाड़ी देख ड्रामा करने लगी महिला

मौके पर मौजूद SSP के PRO का कहना है कि महिला बेहोश नहीं हुई थी। बल्कि SSP की गाड़ी देख फर्श पर लेट गई थी। वह बेहोश होने का ड्रामा कर रही थी। उसे SSP से मिला दिया गया था। महिला को महिला कांस्टेबल की मदद से जिला अस्पताल में भर्ती करा दिया गया। महिला जिस शीशी में जहर बता रही थी। उसे खोल कर चेक किया गया तो उसमें जहर नहीं था। शीशी खाली थी।

खबरें और भी हैं...