• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Moradabad
  • Mother Was Raising Donations Of Rs 100 100 To Save The Life Of Her Son Injured In The Accident, Commissioner Anjaneya Paid The Entire Bill Of The Hospital

मुरादाबाद... मौत से जूझते छात्र के लिए फरिश्ता बने कमिश्नर:एक्सीडेंट में घायल बेटे की जान बचाने को 100-100 रुपये चंदा जुटा रही थी विधवा मां, कमिश्नर आन्जनेय ने भरा हॉस्पिटल का पूरा बिल

मुरादाबाद4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बिजनौर में हादसे में गंभीर रूप से जख्मी युवक विशाल का पूरा इलाज खर्च मुरादाबाद के कमिश्नर आन्जनेय कुमार सिंह उठा रहे हैं। - Dainik Bhaskar
बिजनौर में हादसे में गंभीर रूप से जख्मी युवक विशाल का पूरा इलाज खर्च मुरादाबाद के कमिश्नर आन्जनेय कुमार सिंह उठा रहे हैं।

मुरादाबाद के कमिश्नर आन्जनेय कुमार सिंह ने एक्सीडेंट के बाद मौत से जूझते एक छात्र के इलाज का जिम्मा उठाया है।

बिजनौर के स्योहारा थाना क्षेत्र में बुढ़नपुर निवासी विशाल (20) का 2 अक्तूबर को एक्सीडेंट हुआ था। जिसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गया था। वह 12 वीं का छात्र है। उसके पिता जोगेंद्र सिंह की डेढ़ साल पहले मौत हो चुकी है। घर में विधवा मां सरिता देवी के अलावा छोटा भाई है।

मुरादाबाद के मंडलायुक्त आन्जनेय कुमार सिंह।
मुरादाबाद के मंडलायुक्त आन्जनेय कुमार सिंह।

मां जुटा रही थी चंदा, दोस्तों ने बनाया व्हाट्सएप ग्रुप

पिता की मौत के बाद विशाल के परिवार के पास आमदनी का कोई जरिया नहीं बचा है। लिहाजा विधवा मां के पास मौत से जूझते बेटे के इलाज के लिए पैसे नहीं थे। उन्होंने बेटे के लिए इलाज के लिए 100-100 रुपये चंदा जुटाना शुरू किया। विशाल के दोस्तों ने भी व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर मदद जुटानी शुरू की।

आप इलाज करो, बिल की व्यवस्था हम कराएंगे

घायल विशाल के पड़ोसी सौरभ बताते हैं कि चंदा करने के बाद भी वह सब मिलकर इलाज खर्च नहीं जुटा पा रहे थे। लिहाजा उन लोगों ने मुरादाबाद के कमिश्नर आन्जनेय कुमार सिंह का दरवाजा खटखटाया। छात्र की नाजुक हालत और परिवार की कमजोर आर्थिक स्थिति देखते हुए कमिश्नर ने तुरंत मदद की। छात्र साईं अस्पताल में भर्ती था। कमिश्नर ने साई अस्पताल के मैनेजमेंट को फोन करके कहा कि इलाज के अभाव में छात्र की जान नहीं जानी चाहिए। जो भी बेहतर ट्रीटमेंट हो सकता है, वह उसे दिया जाए। उन्होंने अस्पताल प्रबंधन से कहा कि इलाज खर्च की व्यवस्था वह करवा देंगे।

अस्पताल से आज मिलेगी छुट्टी

घायल छात्र विशाल 12 दिन अस्पताल में रहने के बाद अब पूरी तरह ठीक है। सौरभ ने बताया कि गुुरुवार को विशाल को साईं अस्पताल से छुट्टी मिल जाएगी। सौरभ का कहना है कि कमिश्नर आन्जनेय कुमार सिंह ने बुधवार को ही हॉस्पिटल का पूरा 12 दिन का बिल जमा करवाकर रसीद उनके पास भिजवा दी है। बेटे का जीवन बचने से मां सरिता देवी भावुक हैं। उन्हें यकीन नहीं था कि इस कठिन वक्त में उन्हें इतनी बड़ी मदद भी मिल सकती है।

छात्र विशाल की फाइल फोटो।
छात्र विशाल की फाइल फोटो।

इलाज के अभाव में नहीं होनी चाहिए कोई मौत

कमिश्नर आन्जनेय कुमार सिंह कहते हैं कि समाज में हर किसी की जिम्मेदारी है वह अपने आसपास के जरूरतमंद लोगों की मदद करे। बोले- हम 21 वीं सदी में जी रहे हैं। हरेक सक्षम नागरिक का फर्ज है कि उसके आसपास इलाज के अभाव में किसी की मौत न हो और कोई भूखा न सोए। कमिश्नर ने कहा कि इस तरह की मदद के लिए सरकारी निधि भी है। लेकिन प्रक्रिया की वजह से कई बार हम उतनी त्वरित गति से सरकारी निधि का उपयोग नहीं कर पाते हैं। जबकि जरूरतमंद को तत्काल मदद चाहिए होती है। ऐसे में व्यक्तिगत स्तर से मदद देने के साथ ही समाजसेवी संस्थाओं का भी सहयोग लिया जाता है।

खबरें और भी हैं...