पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Moradabad
  • Railway Started Again With Luxurious Interior Ujjain Express, Which Was Closed For Two And A Half Years, Modern Coaches In The Train, Installed RO For Drinking Water

5 स्टार सुविधाओं वाली ट्रेन से करिए महाकाल के दर्शन:शानदार इंटीरियर के साथ रेलवे ने फिर शुरू की उज्जैन एक्सप्रेस, पौने दो साल से बंद था संचालन, ट्रेन में मॉडर्न कोच, पेयजल के लिए RO लगाए

मुरादाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पौने दो साल से बंद पड़ी उज्जैन एक्सप्रेस को फिर से शुरू कर दिया गया है। ट्रेन प्रत्येक शुक्रवार और शनिवार को देहरादून से चलेगी। - Dainik Bhaskar
पौने दो साल से बंद पड़ी उज्जैन एक्सप्रेस को फिर से शुरू कर दिया गया है। ट्रेन प्रत्येक शुक्रवार और शनिवार को देहरादून से चलेगी।

करीब पौने दो साल से बंद पड़ी देहरादून - उज्जैन एक्सप्रेस नए लुक में फिर शुरू हो गई है। देहरादून में यार्ड रिमाॅडलिंग की वजह से इस ट्रेन को 8 नवंबर 2019 को रद्द किया गया था। बाद में कोविड की वजह से इसका संचालन शुरू नहीं हो सका। रेलवे ने इस ट्रेन में पुराने कोच बदलकर नए मॉडर्न कोच लगाए हैं। शुद्ध पेयजल के लिए कोचों में RO लगाया गया है। इंटीरियर को फाइव स्टार लुक देने की कोशिश की गई है।

ट्रेन देहरादून से प्रत्येक सप्ताह शुक्रवार और शनिवार को सुबह 5:50 पर चलेगी। देहरादून-हरिद्वार- रुड़की- सहारनपुर- देवबंद, मुजफ्फरनगर - मेरठ- गाजियाबाद- हजरत निजामुद्दीन-आगरा-मथुरा-ग्वालियर- उज्जैन होते हुए यह ट्रेन अगले दिन सुबह 6:10 पर इंदौर पहुंचेगी। महाकाल के भक्तों के लिए ये एक बड़ी खबर है। इस ट्रेन के शुरू होने से उज्जैन में महाकाल के दर्शन करने जाने वालों को बड़ी सहूलियत मिलेगी।

कोचों में लगाया गया है आरओ।
कोचों में लगाया गया है आरओ।

ट्रेन में 7 स्लीपर कोच, एक कोच AC 2 और दो AC 3

उज्जैन एक्सप्रेस में माॅडर्न कोच लगाए गए हैं।
उज्जैन एक्सप्रेस में माॅडर्न कोच लगाए गए हैं।

सीनियर DCM रेखा शर्मा ने जानकारी दी है कि ट्रेन में AC 2 का एक कोच होगा। इसके अलावा AC 3 के 2 और 7 कोच स्लीपर क्लास के होंगे। 3 जनरल कोच भी इस ट्रेन में एड किए गए हैं। हरेक AC कोच में प्रत्येक सीट पर मोबाइल चार्जिंग प्वाइंट बनाया गया है। AC कोचों में सीनरी डिजिटल दीवार घड़ियां लगाई गई हैं। सभी कोचों में समय सारिणी भी लगाई गई है। इसके साथ ही कोचों में विनायल वर्क भी किया गया है।

HOG तकनीकि के इस्तेमाल से नहीं होगा जनरेटर का शोर

इंदौर एक्सप्रेस की तस्वीर।
इंदौर एक्सप्रेस की तस्वीर।

ट्रेन में HOG तकनीकि का इस्तेमाल किया गया है। यह तकनीकि ट्रेनों में AC चलाने के लिए लगे डीजल जनरेटर के शोर और प्रदूषण को कंट्रोल करेगी। इससे यात्रियों को काफी राहत मिलेगी। हरेक कोच में शुद्ध् पेयजल के लिए RO भी लगाए गए हैं। सभी पुराने कोचों को आधुनिक कोचों से बदल दिया गया है। ट्रेन का संचालन 23 जुलाई से शुरू कर दिया गया है। रेलवे ने ट्रेन को पहले से काफी आरामदायक बनाया है। इसके इंटीरियर को भी आधुनिक लुक दिया गया है।

खबरें और भी हैं...