मुरादाबाद में माध्यमिक शिक्षकों का DIOS ऑफिस पर धरना:बोले- हम ठीक से निभा रहे अपना फर्ज तो क्यों सहें अफसरों का भ्रष्टाचार

मुरादाबाद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मुरादाबाद में उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ (सेवारत) ने DIOS कार्यालय पर धरना दिया। - Dainik Bhaskar
मुरादाबाद में उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ (सेवारत) ने DIOS कार्यालय पर धरना दिया।

मुरादाबाद में उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ सेवारत के बैनर तले शिक्षकों ने DIOS (जिला विद्यालय निरीक्षक) दफ्तर में प्रदर्शन किया। धरने पर बैठे माध्यमिक शिक्षकों का आरोप था कि विभाग में कदम - कदम पर भ्रष्टाचार है। शिक्षकों को हर छोटे - बड़े काम के लिए दफ्तरों में दाम चुकाने पड़े रहे हैं।

धरने पर बैठे शिक्षकों ने जिला विद्यालय निरीक्षक को ज्ञापन सौंपा। इसमें लेखाधिकारी कार्यालय में भी भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए हैं। शिक्षकों ने चेतावनी दी है कि यदि हालात नहीं सुधरे तो शिक्षक कड़े कदम उठाने को मजबूर होंगे।

शिक्षकों की नियुक्ति में भी भ्रष्टाचार के आरोप
शिक्षकों का आरोप था कि कुछ प्रबंधक शिक्षक - शिक्षिकाओं के चयन में भी लापरवाही बरत रहे हैं। TGT और PGT के नवनियुक्त शिक्षकों को विद्यालय में नियुक्ति देने में भी भ्रष्टाचार किया जा रहा है। दूर दराज के स्कूलों में काम करने वाले शिक्षकों के वेतनमान का निर्धारण समय से नहीं किया जा रहा है। इसके अलावा DIOS कार्यालय द्वारा शिक्षकों के NPS का अंशादान भी उनके खातों में जमा नहीं किया गया है।

DIOS कार्यालय पर धरने में मौजूद शिक्षक।
DIOS कार्यालय पर धरने में मौजूद शिक्षक।

मनमानी बंद करें लेखाधिकारी
संघ ने कहा कहा कि लेखाधिकारी द्वारा शिक्षकों के देयों काे रोका जा रहा है। समय पर उनके भुगतान नहीं हो रहे हैं। लेखाधिकारी कार्यालय में भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए शिक्षकों ने कहा कि लेखाधिकारी मनमानी बंद करें। शिक्षकों का उत्पीड़न हुआ तो वह कठोर निर्णय लेने को मजबूर होंगे।

ये रहे धरना प्रदर्शन में
शिक्षकों के धरने को उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ सेवारत के प्रदेश महामंत्री डॉ. सुनीत गिरी, प्रदेश मंत्री अनिल चौहान, मंडल अध्यक्ष अनिल कुमार, जिला मंत्री पुष्पेश मिश्रा, जिला उपाध्यक्ष आफताब आलम ने भी संबोधित किया। इस दौरान राकेश वर्मा, राजीव कुमार शर्मा, सुधीर कुमार, अरुण त्यागी, बृजेश, मयंक त्यागी, वीरेंद्र सिंह, राकेश कुमार आदि मौजूद रहे।