मर्डर से पहले मौत का टिकटॉक:मुरादाबाद में खिलौना व्यापारी ने मर्डर से कुछ महीने पहले बनाया था अपनी मौत का टिकटॉक वीडियो

मुरादाबाद10 महीने पहले
खिलौना व्यापारी कुशांक गुप्ता की फाइल फोटो।

मुरादाबाद के युवा खिलौना व्यापारी कुशांक गुप्ता ने अपने मर्डर से कुछ महीने पहले खुद अपनी मौत का टिकटॉक वीडियो बनाया था। इसे उन्होंने अपने फेसबुक एकाउंट पर भी शेयर किया था। इस वीडियो में कुशांक के मुंह से खून बहता हुआ दिखता है और वह नीचे गिर जाते हैं। बैकग्राउंड में एक गाना है- जिंदगी बेवफा है ये माना मगर...छोड़कर रहा में...। सिविल लाइंस में अरन्या सिग्नेचर अपार्टमेंट में रहने वाले खिलौना व्यापारी कुशांक गुप्ता (30 साल) की बुधवार रात उनकी दुकान पर गोली मारकर हत्या कर दी गई। कुशांक शहर के पॉश एरिया रामगंगा विहार में सोनकपुर स्पोर्ट्स स्टेडियम के पास सिद्धबली स्पोर्ट्स के नाम से खिलौनों और खेलकूद के सामान की दुकान करते थे। बुधवार रात नकाबपोश बदमाश ने दुकान में घुसकर कुशांक के सिर में गोली मार दी थी। घटना के समय कुशांक अपनी दुकान को बंद करके घर जाने की तैयारी में जुटे हुए थे।

खिलौना व्यापारी कुशांक गुप्ता की गोली मारकर हत्या कर दी गई।
खिलौना व्यापारी कुशांक गुप्ता की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

शशांक के मर्डर के बाद सोशल मीडिया पर टिकटॉक वीडियो
युवा खिलौना व्यापारी के मर्डर के बाद सोशल मीडिया पर उनका टिकटॉक वीडियो लोग तेजी से साझा कर रहे हैं। सबकी जुबान पर बस यही है कि काश, यह टिकटॉक वीडियो सच नहीं होता। आसपास के दुकानदार और उनके परिचित बताते हैं कि कुशांक जिंदादिल इंसान थे। वह लोगों की मदद करने के लिए तत्पर रहते थे। आसपास के लोगों से उनका दोस्ताना व्यवहार था। सड़क, सफाई और दूसरे सामाजिक मुद्दों में भी वह बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते थे।

टिकटॉक में अपनी मौत का अभिनय करते हुए व्यापारी कुशांक गुप्ता।
टिकटॉक में अपनी मौत का अभिनय करते हुए व्यापारी कुशांक गुप्ता।

स्ट्रीट डॉग से था बेहद लगाव
कुशांक को स्ट्रीट डॉग से बेहद लगाव था। घटना के बाद मौके पर पहुंचे SSP बबलू कुमार को आसपास के लोगों ने उनकी दुकान के बाहर स्ट्रीट डॉग के बारे में बताया। लोगों ने बताया कि शाम को ही कुशांक ने जख्मी स्ट्रीट डॉग की मरहम पट्टी करके उसे खाने को कुछ सामान दिया था। अपनी दुकान के गेट के पास उसे ठंड से बचाने का इंतजाम भी किया था। कुशांक को स्ट्रीट डॉग से प्यार था। वह सड़क पर घूमते आवारा कुत्तों के लिए रोजाना खाने- पीने की चीजें लाते थे। बीमार होने पर उनकी सेवा भी करते थे। उन्होंने स्ट्रीट डॉग के लिए जगह - जगह छोटे - छोटे शैड बनाए थे। ताकि वह ठंड से बच सकें।

कुशांक को कुत्तों से बेहद लगाव था।
कुशांक को कुत्तों से बेहद लगाव था।

हर मुद्दे पर बेबाक रहते थे कुशांक
कुशांक की शादी को अभी करीब डेढ़ साल हुआ था। वह पत्नी ज्योति के साथ बेहद खुश रहते थे। अभी तक दोनों के कोई संतान नहीं थी। एक खुशहाल जिंदगी जी रहे कुशांक अपने आसपास होने वाली चीजों पर बेबाक राय रखते थे। सड़क खराब हो या फिर जलभराव हर चीज पर उनकी सोशल मीडिया पोस्ट मिलेंगी। निडर होकर वह अपनी बात रखते थे। इंडियन टीम के जीतने पर कुशांक की दुकान पर सेलिब्रेशन तय था। इसी तरह शहर में होने वाले दूसरे आयोजनों में भी कुशांक गुप्ता बढ़चढ़कर हिस्सा लेते थे।

पत्नी ज्योति गुप्ता के साथ कुशांक।
पत्नी ज्योति गुप्ता के साथ कुशांक।
कुशांक को स्ट्रीट डॉग से था बेहद लगाव।
कुशांक को स्ट्रीट डॉग से था बेहद लगाव।
स्ट्रीट डॉग्स के लिए रोजाना कुछ न कुछ करते थे कुशांक।
स्ट्रीट डॉग्स के लिए रोजाना कुछ न कुछ करते थे कुशांक।
कुशांक के प्यार की वजह से ही उनकी दुकान के बाहर हमेशा स्ट्रीट डॉग्स खड़े रहते थे।
कुशांक के प्यार की वजह से ही उनकी दुकान के बाहर हमेशा स्ट्रीट डॉग्स खड़े रहते थे।
खबरें और भी हैं...