बांग्लादेश से आया मजदूर बरेली में करने लगा डॉक्टरी:रामपुर की गत्ता फैक्ट्री में 5 साल मजदूरी की, फिर यहीं बनवा लिया फर्जी आधार कार्ड और पासपोर्ट

मुरादाबाद5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रामपुर पुलिस की गिरफ्त में बांग्लादेशी नागरिक देवाशीष विश्वास। - Dainik Bhaskar
रामपुर पुलिस की गिरफ्त में बांग्लादेशी नागरिक देवाशीष विश्वास।

2012 में बांग्लादेश से आया एक मजदूर पिछले 4 साल से भी अधिक समय से बरेली में डॉक्टर बनकर क्लीनिक चला रहा था। सिस्टम की आंखों में धूल झोंककर उसने रामपुर के पते पर अपना आधार कार्ड, पैन, ड्राइविंग लाइसेंस और पासपोर्ट तक बनवा लिया था। उसने अपने बांग्लादेशी होने के सभी सुबूत भी मिटा दिए। खुफिया एजेंसियों के इनपुट के बाद बांग्लादेशी नागरिक देवाशीष विश्वास को रामपुर की शाहबाद पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उसके खिलाफ पासपोर्ट अधिनियम और 14 A विदेशी अधिनियम समेत विभिन्न धाराओं में FIR दर्ज की गई है।

वीजा पर कलकत्ता आया फिर रामपुर में की मजदूरी
पकड़ा गया देवाशीष विश्वास बांग्लादेश में जसर जनपद के चौगासा थाना क्षेत्र में वारी अली गांव का रहने वाला है। 2012 में वह अपने पासपोर्ट और वीजा पर पश्चिम बंगाल में कलकत्ता आया था। 2013 में वहां से रामपुर आ गया और यहां प्लाई फैक्ट्री में काम करने लगा। मजदूरी के दौरान वह रामपुर में ही शाहबाद में मोहल्ला सादात में किराए पर रहता था।

किराए के पते पर बनवाए सारे दस्तावेज
देवाशीष ने शाहबाद में अपने किराए के घर के पते पर ही पहले ड्राइविंग लाइसेंस बनवाया। इसके बाद आधार कार्ड, पैन कार्ड और फिर पासपोर्ट भी बनवा लिया। शाहबाद में ही उसने अपना बैंक खाता भी खुलवा लिया। इसके बाद उसने अपने बांग्लादेशी होने के सारे सुबूत मिटा दिए और सभी लोगों से खुद को भारतीय ही बताने लगा। 2017 के आखिर तक देवाशीष ने रामपुर की गत्ता फैक्ट्री में ही मजदूरी की।

2017 में बरेली में खोला क्नीनिक
2017 के अंत में देवाशीष विश्वास रामपुर छोड़कर बरेली में जा बसा। बरेली में उसने सिरौली कस्बे में मोहल्ला साहूकारा को अपना ठिकाना बनाया। यहां मजदूरी करने के बजाए देवाशीष विश्वास ने डॉक्टरी शुरू कर दी। उसने यहां अपना क्लीनिक खोल लिया और मरीजों का छोटा- मोटा इलाज करने लगा।

इन धाराओं में हुई FIR
देवाशीष विश्वास के खिलाफ शाहबाद थाने में IPC की धारा 420, 467, 468, 471 और 121 (A) पासपोर्ट अधिनियम 1967 व 14 A विदेशी अधिनियम में FIR दर्ज की गई है। सोमवार को उसे कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया है।