अंबेडकर सार्वजनिक पुस्तकालय का बोर्ड लगाने पर हंगामा:कैथोड़ा में पुलिस ने दोनों पक्षों को समझाकर बोर्ड उखड़वाया, गांव में पुलिस तैनात

जानसठ8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कैथोड़ा में अंबेडकर सार्वजनिक पुस्तकालय का बोर्ड लगाने पर हंगामा हो गया। - Dainik Bhaskar
कैथोड़ा में अंबेडकर सार्वजनिक पुस्तकालय का बोर्ड लगाने पर हंगामा हो गया।

जानसठ क्षेत्र के थाना मीरापुर के गांव कैथोड़ा में खाली पड़ी भूमि में दलित समाज द्वारा अंबेडकर सार्वजनिक पुस्तकालय का बोर्ड लगाने के बाद दो पक्षों में हंगामा हो गया। हंगामे की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने दोनों पक्षों की बात सुनी और बोर्ड को उखड़वाकर मामले को शांत कराया।

कैथोड़ा गांव में बालाजी मंदिर के निकट शनिवार की शाम दलित समाज के लोगों ने रास्ते के सामने खाली पड़ी भूमि पर डॉ. अम्बेडकर सार्वजनिक पाठशाला एवं बाल जीवन प्रा. पाठशाला का बोर्ड लगा दिया। कैथोड़ा निवासी रमेश सैनी का आरोप है कि टेकचंद पक्ष के लोगों ने उसके रास्ते के सामने बोर्ड को लगा दिया है, जबकि टेकचंद पक्ष का आरोप है कि खसरा नम्बर 582 भूमि डॉ. अम्बेडकर सार्वजनिक पाठशाला की है।

एसडीएम ने दिया निष्पक्ष जांच का भरोसा

इस दौरान दोनों पक्षों के दर्जनों लोग मौके पर आ गए तथा हंगामा हो गया। हंगामे की सूचना पर इंस्पेक्टर दिनेश कुमार, एसएसआई संजय राणा, एसआई अनित यादव पुलिसबल के साथ मौके पर पहुंच गए तथा दोनों पक्षों की बात सुनी। पुलिस ने एसडीएम जानसठ को मामले से अवगत कराया और अगली सुबह एसडीएम के पास जाने की बात कहकर दोनों पक्षों को शांत किया। पुलिस ने लगाए गए बोर्ड को उखड़वा दिया।

लेखपाल को सुनाई खरी खोटी

हंगामे के दौरान हल्का लेखपाल ओमबीर सिंह व हाशमपुर के लेखपाल भी मौके पर आ गए और दलित पक्ष के लोगों द्वारा लगाए गए बोर्ड की भूमि को कागजात में ढ़ूंढते रहे। दलित पक्ष के लोगों का आरोप है कि पूर्व लेखपाल के सामने उक्त भूमि पर दूसरे पक्ष के व्यक्ति ने कब्जा कर दीवार का निर्माण कर लिया था, लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई। इस दौरान दलित समाज के लोगों ने हल्का लेखपाल को खरी-खोटी सुनाई। इंस्पेक्टर मीरापुर दिनेश कुमार ने बताया कि दोनों पक्षों को समझाने के बाद बोर्ड को उखडवाकर पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

खबरें और भी हैं...