मुजफ्फरनगर...17 छात्राओं से छेड़छाड़ के दूसरे आरोपी का सरेंडर:प्रबंधक अर्जुन को पुलिस ने किया गिरफ्तार, आरोपी योगेश 14 दिन की न्यायिक हिरासत में

मुजफ्फरनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूली छात्राओं के यौन शोषण का आरोपी स्कूल प्रबंधक अर्जुन सिंह। - Dainik Bhaskar
स्कूली छात्राओं के यौन शोषण का आरोपी स्कूल प्रबंधक अर्जुन सिंह।

17 स्कूली छात्राओंं के साथ यौन शोषण के दूसरे आरोपी अर्जुन ने मंगलवार रात थाना पुरकाजी पहुंचकर पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। जबकि गिरफ्तार किये गए पहले आरोपी योगेश को पुलिस ने विशेष पोक्सो एक्ट कोर्ट में पेश किया। जहां से उसे न्यायिक हिरासत में 21 दिसंबर तक के लिए जेल भेज दिया गया।

10वीं कक्षा की 17 छात्राओं के साथ प्रैक्टिकल एग्जाम के बहाने यौन शोषण किये जाने का मामला सामने आया था। एक छात्रा की अभिभावक की ओर से पांच दिसंबर को दर्ज कराई गई रिपोर्ट में सूर्य पब्लिक स्कूल मजलिसपुर तौफीर माजरा महाराजपुर थाना क्षेत्र भोपा के प्रबंधक योगेश चौहान पुत्र महेन्द्र तथा जीजीएस इंटरनेशनल एकेडमी कम्हेड़ा तुगलकपुर थाना क्षेत्र पुरकाजी के विरुद्ध पोक्सो एक्ट सहित विभिन्न संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया गया था। जिसके उपरांत एसएसपी ने पांच पुलिस टीमों का गठन कर आरोपियों की गिरफ्तारी के निर्देश दिये थे।

पुलिस ने सोमवार देर रात आरोपी योगेश को धमात पुल के पास से गिरफ्तार कर लिया था। जिसे मंगलवार को विशेष पोक्सो एक्ट कोर्ट में पेश किया गया। जहां से कोर्ट ने योगेश को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। उधर दूसरे आरोपी तथा जीजीएस इंटरनेशनल एकेडमी कम्हेड़ा तुगलकपुर पुरकाजी के प्रबंधक अर्जुन सिंह ने मंगलवार रात थाना पुरकाजी पहुंचकर पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।

पुलिस ने दर्ज किये एक पीड़ित छात्रा के बयान

थाना पुरकाजी पुलिस ने एक पीड़ित छात्रा की अभिभावक की तहरीर पर धारा-328,354 व 506 आईपीसी तथा धारा 7/8 पोक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाई शुरू कर दी है। मामले की विवेचना को आगे बढ़ाते हुए पुलिस ने सोमवार को कई पीड़ित छात्राओं के बयान दर्ज किये थे। मंगलवार को भी एक पीड़ित छात्रा के बयान लिये गए।

पिछड़ा वर्ग आयोग अध्यक्ष ने जाकर ली जानकारी

17 स्कूली छात्राओं के साथ यौन शोषण जेसी गंभीर घटना संज्ञान में आने पर प्रदेश के पिछड़ा वर्ग आयोग अध्यक्ष जसवंत सैनी ने गांव पहुंचकर पीड़ित छात्राओं के अभिभावकों से घटना की जानकारी ली। उन्होंने प्रकरण की गंभीरता से जांच कराकर आरोपियों के विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई कराए जाने का आश्वावसन दिया।

पीड़ित छात्राओं के गांव में घटना को लेकर तनाव

घटना को लेकर पीड़ित छात्राओं के अभिभावक व्यथित हैं। आरोपियों की शर्मनाक हरकत को लेकर गांव में दो अलग-अलग वर्ग के लोगों के बीच तनाव पैदा हो गया है। इस मामले में दोनों पक्ष पंचायत करने का मन बना रहे हैं। हांलाकि दोनों ही आरोपी अब पुलिस के शिकंजे में हैं, बावजूद घटना पर लोगों में गुस्सा है।

जांच में दोनों ही विद्यालय की मान्यता नहीं

17 छात्राओं के यौन शोषण की घटना की गूंज शासन स्तर तक पहुंची है। शासन के आदेश पर बेसिक शिक्षा विभाग ने दोनों आरोपियों के विद्यालयों के बारे में जांच की है। दोंनों विद्यालयों की ओर से कक्षा 10 के छात्र-छात्राओं को प्रैक्टिकल एग्जाम दिलाए जा रहे थे। जबकि दोनों ही विद्यालय आठवी तक ही मान्यता प्राप्त हैं। दोनों विद्यालयों पर शिक्षा विभाग भी शिकंजा कसने जा रहा है।

खबरें और भी हैं...