आचार्य गुरुदत्त आर्य बोले, माता-पिता की सेवा सच्चा तीर्थ:मुजफ्फरनगर के बहादुरपुर गांव में यज्ञ कराकर बच्चों को वैदिक साहित्य किया वितरित

मुजफ्फरनगर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
यज्ञ के बाद वैदिक साहित्य वितरित करते आचार्य गुरुदत्त आर्य। - Dainik Bhaskar
यज्ञ के बाद वैदिक साहित्य वितरित करते आचार्य गुरुदत्त आर्य।

मुजफ्फरनगर के वैदिक विद्या जूनियर हाईस्कूल गांव बहादुरपुर में आयोजित यज्ञ में वेद मंत्रोच्चार से आहुतियां दी गई। आचार्य गुरुदत्त आर्य ने कहा कि माता-पिता की सेवा सच्चा तीर्थ है।

बच्चों को वैदिक साहित्य का वितरण करते आचार्य गुरुदत्त आर्य।
बच्चों को वैदिक साहित्य का वितरण करते आचार्य गुरुदत्त आर्य।

स्कूल प्रांगण में आयोजित यज्ञ में जन कल्याण, राष्ट्रीय एकता और संस्कृति संवर्धन को आहुतियां दी गई। ब्रह्म आचार्य सुरेंद्र शास्त्री तथा यज्ञमान विनोद एवं पूनम आर्य रहे। वैदिक संस्कार चेतना अभियान संयोजक आचार्य गुरुदत्त आर्य ने पुत्र-पुत्रियों को वैदिक सहित्य वितरित किया। आर्य ने कहा कि सदाचरण से सुख, शांति और समृद्धि आएगी। त्याग, सेवा, ईमानदारी, मर्यादा, परोपकार और दान आदि गुणों को जीवन में लायें। संस्कृति और संस्कारों से ही युवा पीढ़ी का निर्माण कीजिये। स्वामी योगानन्द ने कहा कि नशे की बढ़ती प्रवृति समाज के लिए घातक साबित होगी। आर्य प्रतिनिधि सभा प्रधान आनंद पाल सिंह आर्य, धर्ममुनि, गजेंद्र राणा, ब्रज आर्य, नरेंद्र आर्य, आदित्य चाहल आदि मौजूद रहे। प्रधानाचार्य राज कुमार तथा आशा आर्या ने आभार जताया।

खबरें और भी हैं...