मुजफ्फरनगर..क्रिटिकल बूथ तलाशने में जुटा प्रशासन:डीएम-एसएसपी ने विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारियों पर ली बैठक, असामाजिक तत्वों पर कार्रवाई का निर्देश

मुजफ्फरनगर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लोकवाणी भवन में चुनाव संबंधी बैठक लेते डीएम सीबी सिंह तथा साथ में एसएसपी अभिषेक यादव। - Dainik Bhaskar
लोकवाणी भवन में चुनाव संबंधी बैठक लेते डीएम सीबी सिंह तथा साथ में एसएसपी अभिषेक यादव।

विधानसभा चुनाव- 2022 की तैयारियों पर बैठक लेकर डीएम सीबी सिंह ने अधिनस्थों को क्रिटिकल बूथ तलाशने के निर्देश दिये।एसएसपी ने निर्देशित किया कि क्षेत्रवार असामाजिक तत्वों का चिन्हिकरण कर कार्रवाई करें।

लोकवाणी भवन में चुनाव संबंधी बैठक लेते डीएम व एसएसपी तथा अन्य पुलिस व प्रशासनिक अधिकारीगण।
लोकवाणी भवन में चुनाव संबंधी बैठक लेते डीएम व एसएसपी तथा अन्य पुलिस व प्रशासनिक अधिकारीगण।

कलक्ट्रेट स्थित लोकवाणी सभागार में डीएम सीबी सिंह की अध्यक्षता में विधानसभा चुनाव तैयारियों के दृष्टिगत बैठक हुई। जिसमें वल्नरेबिलिटी मैपिंग के परिप्रेक्ष्य में चिन्हीकरण एवं प्रभावी निरोधात्मक कार्रवाई की समीक्षा की गई। मौजूद आरओ, एआरओ, सेक्टर मजिस्ट्रेट, स्टेटिक मजिस्ट्रेट आदि अधिकारियों को दिशा निर्देशित किया गया। उन्हें चुनाव आयोग के निर्देशानुसार वल्नरेबल एरिया व क्रिटिकल बूथों के विवरण तथा संबंधित सूचनाओं का भली-भांति अध्ययन किए जाने के लिए ऐसे मतदान स्थलों का निरीक्षण कर अपूर्ण कार्य पूरे किये जाने के लिए भी निर्देशित किया। साथ ही डीएम यानी जिला निर्वाचन अधिकारी ने सेक्टर अधिकारी व सेक्टर पुलिस अधिकारियों को निर्वाचक नामावली बूथवार सुनिश्चित कर न्यूनतम सुविधाएं, गत दो चुनाव के मतदान प्रतिशत, स्त्री-पुरुष अनुपात एवं आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के प्रकरण, रूट चार्ट के अनुसार कार्रवाई किए जाने के लिए निर्देशित किया। उप जिलाधिकारी एवं पुलिस क्षेत्राधिकारी को निर्देशित किया कि अपने क्षेत्र में आने वाले समस्त क्रिटिकल बूथों का मौके पर जाकर निरीक्षण करें। ऐसे कारकों की पहचान की जाए जो मतदान वाले दिन मतदान को प्रभावित कर सकते हैं। उन पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। ऐसे मतदान स्थलों की सूची तैयार कर तत्काल जिला निर्वाचन अधिकारी कार्यालय को उपलब्ध कराई जाए। एसएसपी अभिषेक यादव ने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि यदि मतदान के समय किसी भी प्रकार का कोई अवरोध अथवा किसी समूह विशेष को डराने अथवा दबाव डालने का कोई प्रकरण संज्ञान में आता है तो तत्काल उस पर कार्यवाही करते हुए उच्च अधिकारियों को अवगत कराएं। गुंडा एक्ट इत्यादि में शामिल रहे शरारती तत्वों पर निगरानी रखी जाए। लगातार ऐसे क्षेत्रों में गश्त करते हुए आम जनमानस को अधिक से अधिक मतदान करने के लिए भी प्रेरित किया जाए। उक्त बैठक में उप जिला निर्वाचन अधिकारी, सिटी मजिस्ट्रेट, समस्त उप जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, पुलिस क्षेत्राधिकारी, रिटर्निंग आफिसर, सेक्टर एवं स्टेटिक मजिस्ट्रेट एवं संबंधित अधिकारीगण उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...