पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मुजफ्फरनगर में शुगर मिलों से निकलने वाला पानी बना आफत:फैक्ट्रियों से निकलने वाली गंदगी और कैमिकल से बीमार पड़ रहे लोग व जानवर; खेतों की फसलें हो रहीं खराब

मुजफ्फरनगर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मुजफ्फरनगर में लोगों के घरों में आ रहा दूषित पानी। - Dainik Bhaskar
मुजफ्फरनगर में लोगों के घरों में आ रहा दूषित पानी।

मुजफ्फरनगर में बढ़ती गन्ने की पैदावार और शुगर मिलों और शराब फैक्ट्रियो से निकलने वाला प्रदूषित पानी जिव जन्तुओ के साथ साथ अब आम लोगों के लिए मौत का अभिशाप बन गया है। इनसे निकलने वाला कैमिकल और जहरीला पानी फसलों को भारी नुकशान पहुंचा रहा है। वहीं सरसादी लाल डिस्टर्ली से निकलने वाले पानी ने पूरे इलाके का पानी दूषित कर दिया है। इसकी वजह से लोगों को बीमारियां हो रही है। दर्जनों लोगो की मौत के बाद भी जिला प्रदूषण बोर्ड और जिला अधिकारी डिस्टर्ली पर कोई कार्यवाही नहीं करते हैं।

शराब फैक्ट्री बनी मुसीबत
मुजफ्फरनगर के दिल्ली देहरादून नेशनल हाइवे 58 पर बनी सरसादी लाल शराब फैक्ट्री का यह मामला है। पिछले कई सालों इसके के चलते दर्जनों गांवों का पानी जहरीला बन गया है। सैकड़ो लोगो की मौत हो चूकी है। थाना मंसूरपुर क्षेत्र में बोपाड़ा ,घांसीपुरा ,खांनपुर ,नावला ,सोंटा ,जोहरा और फहीमपुर जैसे और कई गांव गन्ने की बेहतर पैदावार के लिए जाने जाते थे। इस क्षेत्र के लोगो का आरोप है की 1947 में मिली आजादी के बाद यंहा सरसादी लाल शुगर मिल लगाई गयी थी। कुछ समय बाद शुगर मिल ने अपना कारोबार बढ़ाते हुए शुगर मिल के बराबर में ग्रामीणों के विरोध के बाद भी शराब फैक्ट्री की स्थापना कर डाली।

खेतों में फसल हो रही खराब
शराब फैक्ट्री से निकलने वाले दूषित पानी को सिंचाई विभाग के रजवाहे में छोड़ दिया गया। धीरे धीरे खेतों को सिंचाई देने वाला रजवाहा आज काली नदी में बदल गया है। शराब फैक्ट्री से निकलने वाले दूषित पानी ने पूरे इलाके का जल स्तर को दूषित कर ज़हरीले पानी में बदल दिया है। शराब फैक्ट्री के विरोध में कई बार इलाके के लोगों ने जिला प्रशासन और प्रदुषण विभाग कार्यालय में धरना प्रदर्शन भी किया। आज तक सरसादी लाल डिस्टर्ली पर कोई कार्यवाही नहीं की गयी।

खबरें और भी हैं...