मुजफ्फरनगर में महापंचायत पर गरमाई सियासत:पुष्पवर्षा की परमिशन नहीं मिलने पर जयंत चौधरी बोले -जब तक इस सरकार को सत्ता से बाहर नहीं कर देता, फूल-माला स्वीकार नहीं करूंगा

मुजफ्फरनगर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जयंत चौधरी के निजी सहायक समरपाल सिंह ने शनिवार को डीएम मुजफ्फरनगर को पत्र भेजकर हेलीकॉप्टर से पुष्पवर्षा करने की अनुमति मांगी थी। - Dainik Bhaskar
जयंत चौधरी के निजी सहायक समरपाल सिंह ने शनिवार को डीएम मुजफ्फरनगर को पत्र भेजकर हेलीकॉप्टर से पुष्पवर्षा करने की अनुमति मांगी थी।

मुजफ्फरनगर की किसान महापंचायत पर हेलीकॉप्टर से पुष्पवर्षा की अनुमति नहीं मिलने पर राष्ट्रीय लोकदल अध्यक्ष जयंत चौधरी ने रविवार को बड़ा ऐलान कर दिया। उन्होंने कहा कि जब तक इस सरकार को हम सत्ता से बाहर नहीं कर देते, मैं फूल-माला स्वीकार नहीं करूंगा।

राष्ट्रीय लोकदल ने डीएम मुजफ्फरनगर से पुष्पवर्षा करने की अनुमति मांगी थी।
राष्ट्रीय लोकदल ने डीएम मुजफ्फरनगर से पुष्पवर्षा करने की अनुमति मांगी थी।

पुष्पवर्षा करके हेलीकॉप्टर के दिल्ली लौटने का था कार्यक्रम

जयंत चौधरी के निजी सहायक समरपाल सिंह ने शनिवार को डीएम मुजफ्फरनगर को पत्र भेजकर हेलीकॉप्टर से पुष्पवर्षा करने की अनुमति मांगी थी। कार्यक्रम के मुताबिक, हेलीकॉप्टर दोपहर साढ़े 12 बजे नई दिल्ली के पालम एयरपोर्ट से उड़ान भरता।

1.20 बजे से 2 बजे तक महापंचायत स्थल के ऊपर कई राउंड लगाकर किसानों पर फूल बरसाता और फिर वापस दिल्ली चला जाता। रालोद ने यह भी साफ किया था कि इस हेलीकॉप्टर को मुजफ्फरनगर में नहीं उतारा जाएगा।

रालोद की अनुमति का जवाब सिटी मजिस्ट्रेट ने यह पत्र भेजकर दिया है।
रालोद की अनुमति का जवाब सिटी मजिस्ट्रेट ने यह पत्र भेजकर दिया है।

सिटी मजिस्ट्रेट बोले- पुष्पवर्षा से भगदड़ मचने का था खतरा

मुजफ्फरनगर के सिटी मजिस्ट्रेट अभिषेक कुमार सिंह ने इस अनुमति को रद कर दिया। उन्होंने अपने जवाब में लिखा कि महापंचायत में लाखों लोगों के आने की संभावना है। हेलीकॉप्टर से पुष्पवर्षा करने पर भगदड़ मच सकती है। इससे शांति व्यवस्था भंग हो सकती है और कोई भी हादसा या अप्रिय घटना हो सकती है। इसलिए हेलीकॉप्टर से पुष्पवर्षा करने की अनुमति प्रदान करने की संस्तुति नहीं दी जाती है।

जयंत बोले- यह साबित हुआ, किसानों से डरते हैं योगी
सोमवार को जारी एक बयान में रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी ने कहा कि पक्षपात रवैया अपनाकर जो अधिकारी ऐसे फैसले ले रहे हैं, उन्हें चिह्नित किया जा रहा है। उन्होंने किसानों से कहा कि आज एक बात साबित हो गई है कि योगी आपसे ही डरते हैं। आप आगे बढ़े, अपने हक और अधिकार की लड़ाई को जारी रखें।

जयंत ने कहा कि मैं भी एक प्रतिज्ञा लेना चाहता हूं। जब तक ऐसे अहंकारी लोग जो कहते हैं कि किसानों के रास्ते में कांटे बिछाए जाएं लेकिन फूल न बरसाए जाएं, क्योंकि खतरा बन जाएगा। ऐसी सरकार को जब तक हम सत्ता से बाहर नहीं फेंक देते, मैं भी आपकी फूल-माला स्वीकार नहीं कर पाऊंगा।

खबरें और भी हैं...