जल संरक्षण में मुजफ्फरनगर ने किया नार्थ जोन टाप:यूपी को मिला नेश्नल वाटर अवार्ड-2020, जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने की घोषणा

मुजफ्फरनगर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
काली नदी का फोटो। - Dainik Bhaskar
काली नदी का फोटो।

मुजफ्फरनगर: केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने 3rd नेशनल अवार्ड घोषित करते हुए यूपी को नेश्नल वाटर अवार्ड-2020 प्रदान करने की घोषणा की है। इसके साथ ही उन्होंने जल संरक्षण के लिए बेस्ट डिस्ट्रिक्ट के अंतर्गत मुजफ्फरनगर को नार्थ जोन में सर्वश्रेष्ठ बताते हुए अव्वल करार दिया है। जिले को जल संरक्षण में सर्वोच्च स्थान तक पहुंचाने में यहां की हिंडन तथा काली एवं काली वेस्ट (नागिन) नदियों के पुनरुद्धार ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। डेम एवं सोकपिट निर्माण तथा रेन वाटर हार्वेस्टिंग की बेहतर व्यवस्था जिले को शिखर पर ले गई। सीडीओ आलाेक यादव ने बताया कि इस सब के साथ बड़ा सहयोग वृक्षारोपण तथा भूमि संरक्षण से भी मिला। पंचायती राज एवं लघु सिंचाई विभाग का बेहतर समन्वय तथा प्रबंधन जिले को जल संरक्षण में आगे ले गया।

कई वर्ष पहले शुरू किये गए थे प्रयास

कई वर्ष पूर्व पीएम नरेन्द्र मोदी के गत कार्यकाल में तत्कालीन केन्द्रीय जल संसाधन एवं मौजूदा राज्यमंत्री डा. संजीव बालियान ने जनपद की स्थिति को देखते हुए जल संरक्षण तथा भूगर्भ जल स्तर सुधारने के प्रयास शुरू किये थे। उनके प्रयास से अतिदोहित क्षेत्रों का भूगर्भ जल स्तर सुधारने के लिए आठ करोड़ की विभिन्न कार्ययोजना तैयार कर प्रदेश सरकार को भेजी गई थी। जिन पर 2019-20 में लघु सिंचाई विभाग के अमल के बाद कई परियोजनाओं पर काम शुरू हुआ।

जिले के इन क्षेत्रों में किया गया सुधार

जल संरक्षण के लिए जिले के विकास खंड बुढाना के हुसैनपुर कलां, खरड़ तथा लोई व परासोली में एंव बघरा ब्लाक के गांव निरमाना-1 एवं निरमाना-2 तथा गांव बघरा, पीनना सहित चरथावल ब्लाक के गांव कुटेसरा में नौ तालाबों का निर्माण लगभग 5.5 करोड़ की लागत से कराया गया। विकास खंड चरथावल के गांव पीपलशाह व बिरालसी तथा बुढाना के फुगाना, खेड़ा मस्तान में करीब 1.30 करोड़ की लागत से तालाबों का जीर्णोद्धार कराया गया। इसके साथ ही विभिन्न स्कूल व अन्य स्थानों पर रेन वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था कराई गई। चरथावल ब्लाक क्रिटिकल तथा बुढाना अतिदोहित श्रेणी में आता है।

महाबलिपुरम जूनियर हाईस्कूल में तैयार किया गया रेन वार्टर हार्वेस्टिंग प्लांट।
महाबलिपुरम जूनियर हाईस्कूल में तैयार किया गया रेन वार्टर हार्वेस्टिंग प्लांट।

पानी संरक्षित करते रहे दो चेकडैम

जल संरक्षण के लिए एक करोड़ की लागत से जनपद में ही दो चेकडैम निर्मित कराए गए। इनमें खतौली के नावला तथा रायपुर गांव शामिल किये गए हैं। दोनों चेकडैम की सिंचाई क्षमता 20-20 हैक्टेअर है।

मंत्री बालियान बोले, जिले का सौभाग्य

नार्थ जोन में जनपद को जल संरक्षण के मामले में सर्वश्रेष्ठ जिले के पुरस्कार से नवाजे जाने के बाद केन्द्रीय राज्यमंत्री तथा मुजफ्फरनगर सांसद डा. संजीव बालियान ने कहा कि यह जिले का सौभाग्य है। उन्होंने कहा कि सरकारों का काम ही जनहित में कार्य करना है, लेकिन इस उपलब्धि में जिले की सरकारी एजेंसियों तथा जन सहयोग की भूमिका महत्वपूर्ण है।

खबरें और भी हैं...