पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • 23,000 Rapid Response Teams Revealed About Five Thousand People Due To Pandemic Spreading In Villages Of Gorakhpur, Fever

गोरखपुर के गांवों में फैल रहा कोरोना ?:बुखार से पीड़ित मिले 4857 लोग, 23 रैपिड रिस्पांस टीमों के सर्वे में हुआ खुलासा ; 404 गांवों में 177 संक्रमित मिले

गोरखपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गोरखपुर जिले के गांवों में डोर - Dainik Bhaskar
गोरखपुर जिले के गांवों में डोर

उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव अब सम्पन्न हो गया है। चुनाव के बाद जैसी कि आशंका जताई जा रही थी कि गांवों में कोरोना प्रकोप देखने को मिलेगा। बताया जा रहा है कि गोरखपुर जिले के गांवों में बुखार का प्रकोप फैल गया है। बड़ी संख्या में लोग तेज बुखार से जूझ रहे हैं। गांवों में सर्वे कर रही 23 रैपिड रिस्पांस टीमों (आरआरटी) ने सिर्फ तीन दिन में बुखार के करीब पांच हजार मरीजों की पहचान की है। इन मरीजों में 177 ग्रामीण एंटीजन जांच में संक्रमित मिले। इस दौरान टीम ने 404 गांवों का सर्वे किया है। यह सर्वे नौ मई तक चलेगा। इसके अलावा 18 पीएचसी और 24 सीएचसी पर भी कोरोना जांच चल रही है। इन जांचों में तीन दिन में करीब नौ सौ ग्रामीण संक्रमित मिले।

जिले के ग्रामीण इलाकों में कोरोना संक्रमण के साथ ही रहस्यमय बुखार का प्रकोप पसरा है। पंचायत चुनाव में कोविड प्रोटोकाल दरकिनार रहे। ऐसे में शासन को अंदेशा है कि गांव में बड़ी संख्या में ग्रामीण बुखार या संक्रमण से पीड़ित हो सकते हैं। ऐसे ग्रामीणों की पहचान के लिए शासन बुधवार से नौ मई तक विशेष सर्वे व जांच अभियान संचालित कर रहा है।

23 टीमें कर रही सर्वे
जांच अभियान के नोडल अधिकारी डॉ. एके सिंह ने बताया कि इस अभियान में 23 आरआरटी को लगाया गया है। इन टीमों के साथ आशा कार्यकत्रियों को लगाया गया है। हर टीम रोजाना पांच से छह गांव का सर्वे कर रही है। इन गांवों में संक्रमित तो अपेक्षाकृत कम मिल रहे हैं। लेकिन बुखार के मरीज बड़ी संख्या में मिल रहे हैं। इन मरीजों में कोविड के लक्षण भी हैं। हांलाकि एंटीजन से जांच में अधिकांश निगेटिव हो रहे हैं।

तीन दिन में मिले 4857 बुखार से पीड़ित, 177 संक्रमित
उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में पांच मई से सर्वे शुरू किया गया है। बुखार के मरीजों की पहचान की जा रही है। करीब-करीब हर दूसरे घर या परिवार में बुखार के मरीज मिल रहे हैं। तीन दिनों में टीमों ने 404 गांवों का सर्वे किया। इसमें बुखार से पीड़ित 4857 ग्रामीण मिले। जिसमें एंटीजन से जांच में 177 संक्रमित मिले। ग्रामीण क्षेत्र के अस्पतालों में भी बड़ी संख्या में बुखार के मरीज पहुंच रहे हैं। जिले में 24 सीएचसी और 18 पीएचसी है। इन अस्पतालों में ओपीडी बंद हैं। इमरजेंसी में बुखार के मरीजों का इलाज हो रहा है।

कैम्पियरगंज सीएचसी
सीएचसी में रोजाना बुखार के 30 से 35 मरीज आ रहे हैं। इस अस्पताल में पिछले पांच दिन में कुल 348 सैंपलिंग हुई, इसमें 28 पॉजिटिव मिले। ग्राम इंदरपुर में मामले ज्यादा है। यहां दो दिन में आशा सर्वे में बुखार से 415 लोग पीड़ित मिले।

खजनी पीएचसी
पीएचसी में 30 से 40 मरीज बुखार का इलाज कराने पहुंच रहे हैं। पांच दिन में 17 लोग अस्पताल की जांच में संक्रमित मिले। दो दिन में बहुरिपार, बघैला, पैसा में सर्वे हुआ। यहां आशा कार्यकत्रियों ने 350 बुखार से पीड़ितों को दवाएं दी। लोगों ने बताया कि सर्दी, जुकाम और हल्का बुखार है।

ब्रह्मपुर पीएचसी
बीते पांच दिन में अस्पतल में 350 लोगों की एंटीजन से जांच हुई। जिसमे 15 पॉजिटिव पाए गए। सबसे ज्यादा संक्रमित ब्रह्मपुर में लोग हैं। क्षेत्र में कोविड से 50 लोग संक्रमित हैं। अभी तक लगभग आधा दर्जन लोगों की मौत हो चुकी है। शुक्रवार को राजधानी में जांच कर दवा देने के लिए टीम गई थी।

खोराबार पीएचसी
पीएचसी पर ओपीडी बंद हैं। इमरजेंसी में पांच दिनों में 734 लोगों की जांच हुई। जिसमें 95 संक्रमित मरीज मिले हैं। सर्वाधिक संक्रमित खोराबार एवं जंगल सिकरी के हैं। आरआरटी द्वारा दो दिन में बुखार से पीड़ित 90 लोगों की जांच की। जिसमें पांच लोग पॉजिटिव मिलें हैं।

पिपराइच सीएचसी
ओपीडी बंद है। यहां प्रतिदिन इमरजेंसी में 12 से 15 मरीज बुखार के आ रहे हैं। अस्पताल में पिछले पांच दिन में 305 लोगों की जांच की गई। जिसमें 45 पॉजिटिव पाए गए। गांव में जांच के लिए गई टीम को 139 बुखार, 45 सर्दी-खांसी तथा जुकाम से पीड़ित मिले।

बासगांव पीएचसी
अस्पताल के इमरजेंसी में बुखार के मरीज बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। शुक्रवार को यहां 50 लोगों की एंटीजन जांच की गई। जिसमें सात संक्रमित मिले। भटवली, उनवल, बिशुनपुर तथा पाली खास गांव में आशा कार्यकत्रियों ने घर-घर पहुंचकर सर्वे किया। जिनको सर्दी, बुखार,जुकाम की शिकायत है उन्हें दवा वितरित किया जा रहा है।

सीएचसी पाली
ओपीडी बन्द है। इमर्जेंसी में अस्पताल पर बुखार के 50 से 70 मरीज रोजाना आ रहे है। बीते पांच दिनों 419 लोगों की जांच हुई है। उसमें 22 संक्रमित मिले है। थरूआपार में सात ग्रामीण संक्रमित हैं। सभी गावों मे औसतन 8 से 10 मरीज बुखार से पीड़ित मिल रहे हैं।

बड़हलगंज सीएचसी
ओपीडी बन्द हैं। इमरजेंसी में 20 से 22 बुखार के मरीज रोजाना पहुंच रहे हैं। शुक्रवार को 10 मरीज आए। सभी को बुखार, सर्दी, खांसी आ रही थी। इस सप्ताह मे लगभग 300 लोगो की जांच की गयी। जिसमे 20 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव थी। गांव में जाकर 83 लोगों की एंटीजन से भी जांच की गई।

भटहट सीएचसी
रोजाना 30 से 35 बुखार के मरीज इलाज कराने पहुंच रहे हैं। पिछले पांच दिनों में 356 की जांच हुई है। जिसमें 42 संक्रमित मिले। हर गांव में जांच टीम को 120 रोगी बुखार के मिले हैं। उनमें संक्रमण के 16 मामले की तस्दीक हुई है।

सरदारनगर पीएचसी
पीएचसी पर प्रतिदिन बुखार के 12 से 15 मरीज पहुंच रहे है। पिछले पांच दिन में 458 लोगो की जांच हुई है। जिसमे 62 संक्रमित मिले है। गांव में जांच करने वाली टीम को अब तक 67 मरीज बुखार के मिले है। जिसमे 9 लोगों में संक्रमण चिन्हित किया गया। अस्पताल पर दवा और अन्य सुविधाएं उपलब्ध है।

जंगल कौड़िया पीएचसी
अस्पताल में बुखार के 60 से 70 मरीज रोजाना आ रहे हैं। पिछले 5 दिनों 435 लोगों की कोविड जांच की गई। जिसमे 45 संक्रमित मिले। अहिरौली में 24 अप्रैल को 72 लोगों का सैम्पल लिया गया था। जिसमे 28 लोग पॉजिटिव मिले थे। इस गांव में एक परिवार के बुजुर्ग व नवजात के अलावा निवर्तमान महिला प्रधान की कोरोना से मौत भी हो चुकी है।