• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Aligarh Muslim University Fighter Plane Latest News And Updates: AMU Fighter Plane On OLX For Sale In Aligarh Uttar Pradesh

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का मामला:इंडियन एयरफोर्स से तोहफे में मिले मिग-23 फाइटर प्लेन को बेचने के लिए नटवरलाल ने ओएलएक्स पर विज्ञापन दिया

अलीगढ़2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी प्रशासन ने इस बाबत जांच के बाद कार्रवाई की बात कही है। - Dainik Bhaskar
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी प्रशासन ने इस बाबत जांच के बाद कार्रवाई की बात कही है।
  • साल 2009 में इंडियन एयरफोर्स ने एएमयू के इंजीनियरिंग विभाग को गिफ्ट किया था
  • पोस्ट वायरल होने पर ओएलएक्स साइट से विज्ञापन हटाया गया
  • यूनिवर्सिटी के प्रॉक्टर ने कहा- जांच के बाद कार्रवाई करेंगे, यह काम छात्रों का नहीं

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में एक नटवरलाल ने एक फाइटर प्लेन को बेचने के लिए ओएलएक्स की साइट पर विज्ञापन दे दिया। यह प्लेन अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में साल 2009 से खड़ा है। इसे इंडियन एयरफोर्स के प्रतीक के रूप में रखा गया है। विज्ञापन में इस फाइटर प्लेन की कीमत 9,99,99,999 रुपए रखी गई। बिक्री के संबंध में पोस्ट 3 अगस्त को किया गया। लेकिन जैसे ही मामले की जानकारी सोशल मीडिया पर फैली, पोस्ट को डिलीट कर दिया गया। फिलहाल, यूनिवर्सिटी के प्रॉक्टर मोहम्मद वसीम अली ने जांच के बाद कार्रवाई की बात कही है।

इंजीनियरिंग विभाग के बाहर लगा है फाइटर प्लेन
साल 2009 में इंडियन एयरफोर्स ने एएमयू को माइको यान मिग-23 बीएन फाइटर प्लेन को गिफ्ट किया था। इसे यहां इंजीनियरिंग विभाग के बाहर एक प्रतीक के रूप में लगाया गया है। करीब 28 साल इंडियन एयरफोर्स में रहने के बाद प्लेन को रिटायर किया गया था।

प्रॉक्टर ने छात्रों को दी क्लीनचिट

यूनिवर्सिटी के प्रॉक्टर डॉ. मोहम्मद वसीम अली ने कहा कि हमें अभी इस बात की जानकारी मिली कि किसी ने ओएलएक्स पर हमारे इंजीनियरिंग कॉलेज के सामने खड़े प्लेन के लिए ऐड डाला है। इसके बारे में इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल साहब से भी बात हुई तो उनको भी इस मामले की जानकारी नहीं है। यह बिल्कुल फेक है। इसका एएमयू से कोई लेना-देना नहीं है। यूनिवर्सिटी ने इसे बेचने से संबंधित कोई ऐसा कदम नहीं उठाया है। हम जांच कर रहे हैं, क्योंकि वह ओएलएक्स पर पहले लगा था, अब यह शो नहीं कर रहा है। फिर भी हम इसकी जांच कराएंगे और यह जानकारी करेंगे कि ये किसने डाला है? लेकिन यह एएमयू के छात्रों का काम नहीं है।